Non Astrological Essays
Table of Contents

दान

'आधुनिक शिक्षा पद्धति' ऐसा रोग है जिसके मरीजों में एक सामान्य लक्षण देखने को मिलता है : वे जब आर्य भाषाओं में लिखते या बोलते हैं तो उनकी सोच म्लेच्छों जैसी ही रहती है । म्लेच्छ लोग लूटपाट करके जो लाते हैं, उसका कुछ हिस्सा पाप धोने के लिये घूस में बाँट-खूंट देते हैं , घूस का कुछ हिस्सा मन्दिरों और देवताओं को भी दिया जाता है ताकि वे शान्त रहें । इस घूस को 'चैरिटी' कहते हैं । किन्तु 'दान' और चैरिटी में आकाश-पाताल का अन्तर है । चैरिटी स्वैच्छिक होता है, और चैरिटी जिस-किसी को जब चाहे दिया जा सकता है । किन्तु दान स्वैच्छिक नहीं होता, यह धर्म का अविभाज्य हिस्सा है, प्रत्येक धार्मिक कृत्य के साथ दान और दक्षिणा जुड़ा रहता है जो कर्तव्य का हिस्सा है । हिन्दू के प्रत्येक संस्कार दान से जुड़े हैं । लेकिन कलियुग में धर्म की तीन टाँगे गायब रहती हैं, अतः धर्म के अनेक अंग भी या तो गायब रहते है या विकृत हो जाते हैं । 'दान' और 'दक्षिणा' शब्दों का म्लेच्छ भाषाओं में कोई पर्याय नहीं हैं ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

कर्मों का फल

जन्मकुण्डली पिछले जन्मों के कर्मों का फल है, लेकिन इसके विभिन्न फल उचित समय आने पर ही मिलते हैं, एक साथ ही सारे फल नहीं मिलते । उदाहरणार्थ, जन्म होते ही विवाह, नौकरी, मृत्यु, आदि सारे फल एक साथ नहीं मिल सकते । किस कर्म का फल कब परिपक्व होकर प्राप्त होता है, इसके कालविधान (कर्मफलविपाककालविधानम्) का अध्ययन ही ज्योतिष करता है । लेकिन सभी व्यक्ति तो ज्योतिषी नहीं हो सकते जो यह समझे, और हर कोई दर्शनशास्त्र का ज्ञाता भी नहीं हो सकता जो कर्माशय, सञ्चित कर्म, आदि का अर्थ समझे । वह भी इण्टरनेट के युग में,जब हर किसी को विशेषज्ञ बनकर बकवास करने की छूट रहती है ! अपने कर्मों का दोष दूसरों पर थोपना आम बीमारी है ! वातावरण या परिवेश या संगत पर दोषारोपण करना अपने कर्मों के उत्तरदायित्व से भागना है । ऐसे व्यक्ति अपने कर्मों का प्रायश्चित्त कभी नहीं कर सकते । संगत भी जन्मकुण्डली के अनुसार ही प्राप्त होते हैं , और एक ही संगत से भिन्न-भिन्न व्यक्ति भिन्न-भिन्न फल जन्मकुण्डली के अनुसार प्राप्त करते हैं । सामान्यतः सक्रिय कर्माशय में आधे पाप और आधे पुण्य होने पर मानवयोनि प्राप्त होती है, और मानवयोनि में जन्म होना एक सौभाग्य है क्योंकि यह एकमात्र ऐसी योनि है जिसमे नए कर्म करने की छूट रहती है जिनके द्वारा पुराने दुष्कर्मों को धोना संभव रहता है । लेकिन जिस क्षण मनुष्य तय करता है कि उसका कोई दोष नहीं, सारा दोष संगत या परिवेश का है, उसी क्षण उसके सुधार के रास्ते बन्द हो जाते हैं, क्योंकि जो सुधरना नहीं चाहता उसे ईश्वर भी सुधार नहीं सकता !
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Idol Worship

32nd chapter of Yajurveda, the chief Veda of Karmakānda, states :"na tasya pratimā asti yasya nāma mahat yasha" ("He has no image/idol Whose name is Great Yasha" ; I have not translated Yasha because its root is /ish/ from which Ishwara has evolved, hence in this context replacing Yasha with Fame or Glory or Honour will kill the original sense).
There is no temple and no idol of Para-brahm.
Last verse of Yajurveda states :- "The mouth of Satya is covered with the Golden Lid (of Māyā which attracts the sensory organs and allures it into bondage, hence remove this lid to see the Truth ; that Truth is :-); that Purusha in me is the same which resides in the Aditya ; Akāsha is Brahm."
This verse is the last verse of main Veda : Yajurveda. Hence, this Advaita philosophy is also called Vedānta. This is real monotheism, according to which not only the Purusha in Aditya or other gods is the same, it is same as the Purusha in mortals too, which is far more monotheistic than the Semitic religions which are essentially dualistic because they differentiate God from mortals and do not recognize the sameness between different individual souls. There is only one singular Purusha in all creatures and divinities according to this verse. Hence, there is no difference between Bhakta and Bhagawān, and therefore no need of idol or temple or worship. But this is for those who have achieved Atmajnāna / Brahmajnāna.

For lesser mortals, mere recitation of such verses will not eradicate the thick layers of Ignorance on the mind accumulated through sinful acts of innumerable rebirths. Dedicated Kriyāyoga is needed for them. Yoga-sutra states that there is a shortcut alternative to the difficult path of Kriyāyoga : Ishwara-prānidhāna, i.e., Bhakti.
There are many paths in Bhakti-mārga depending on the characteristics and capabilities of the individual.
Idolatry is not approved in any religion of the world, including Hinduism. Hindus do not worship idols, they worship the invisible divinity invoked into an idol after Prāna-pratishthā. The opponents of worshipping a divinity in an idol do not see a simple fact : if the divinity exists everywhere, why the divinity cannot reside in an idol?

Not only divinities, but malefic demons can also be worshipped. But as Gita states, malefic demons pull their worshippers into their Lokas after death of the worshipper. Black Magic exists and works, but its final outcome is always harmful. Hence, only benign divinities should be worshipped.

Gita states that the highest form of Yajna is Japa-yajna. But this is possible only by a pure mind capable of samādhi.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Mythology

Mythology existed among Greeks, Romans, etc. That is why Eurocentrists declared India's real History to be mere mythology and started "discovering" the history of India through well planned conspiracy. Actually, 99% of history of India written by moderners is mere Mythology deliberately created by colonial powers to befool and enslave us. For instance, read any history text book about the so-called Vedic Period : you will find all kinds of nonsense excepting what is actually mentioned in the Vedas. Or turn any leaf about any later period. For instance, the socalled Mauryan Empire is a figment of imagination invented by the British who loved Imperialism. Read Ta Indika containing fragments by Megasthenes, it shows that India had three Kalingas which included republics of north, central and southern India. Tri-kalingānā later became Telanganā. Yāska explains "Ka" in Nāsadeeya sookta of Rgveda as "All our havis go to the Supreme God Ka", but mlechchhas misinterpreted it deliberately to imply that Vedic sages were confused about the relative strengths of various deities and argued which god should be worshipped. Out of six Vedāngas, Yaska was the chief expert of that Vedānga which dealt with technical meanings of difficult Vedic terms : Nirukta. Why the meaning given by Yāska should be replaced with the false meanings given by servants of East India Company? Sage Yajnavalkya stated in Brihadāranyaka Upanishada that 33 koti (=categories, from /kotigory/) devatās are 12 Adityas, 11 Rudras, 8 Vasus, Indra and the Supreme God. These 33 categories of Deities were represented by 33 consonants of Devanāgari (and 16 vowels represented 16 Goddesses in Varna-mātrikā vritta). The first consonant "Ka" represented the Supreme God. Linga means symbol or sign. Hence, Kalinga meant "sign of Supreme God", and this Supreme God had three chief signs : Brahmā, Vishnu, Shiva. This means Tri-kalinga. Tri-kalinga was the pan-India confedaration of republics which was united with the monarchy of Magadha by Chanakya to defend India. But the Britishers had to prove that Indians were ignorant of democracy, hence they distorted India's history and portrayed Asoka as the first "great" king of India, in spite of the fact that Asoka was the worst king in world history, worse than even Hitler, who destroyed that very confedaration which gave power to his grandfather and father (who never invaded southern India) due to his imperialist ambitions, killed all soldiers, then all males including brahmachari students and their teachers, and finally all women who came to fight against him ! Moreover, all his edicts give highest honours to brahmins ("brahmins and shramans" is the language in his edicts, which means those who have attained Brahm, and those who are undergoing Tapasyā or shrama to attain Brahm). But everything was distorted by the British and their brain-children. This New Mythology is still being taught to us in the name of History. Veda Vyāsa Ji had written long ago that during Kaliyuga people will forget their real history.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Consciousness

"It is two Heavens in One
To live in Heaven alone !"

- Andrew Marwell.

Solitude and Soul are etymologically correlated : Solitude means to live in the company of Soul.

Con-sciousness contains a prefix which means real chetanā is always Collective, i.e., Universal Soul or Weltanschāung. The root of Freudian "Id" from which 'Idiot' is derived is also the root of "Individual" but with insertion of nasalisation as a result of mutation of accent. Hence, imprisonment into Ego (Agha > Ahamkāra) of the Individual is Idiocy, and opening into the Collective Soul through telepathic Love is Consciousness.
Juje 7, 2014.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

मातृभाषा से घृणा

अपनी मातृभाषा से घृणा की बीमारी सभी भारतीयों में एक समान नहीं है । दक्षिण भारत में यह रोग बहुत ही अल्प है । हिंदी से घृणा का रोग फैलाने का प्रमुख केंद्र दिल्ली रहा है जहाँ विदेशी शासकों ने फौजी छावनी के हिन्दुस्तानी सिपाहियों की भाषा को "उर्दू" अर्थात "छावनी" की संज्ञा दी , जिसे "हिन्दवी" भी कहा गया । अतः गुलामों की भाषा होने का कलंक हिन्दी के साथ पिछले आठ सौ वर्षों से जुड़ा है । दिल्ली से ही इस भावना का सूत्रपात हुआ था । खड़ी बोली में साहित्य की कोई परम्परा नहीं थी । ब्रजभाषा, अवधी, मैथिली, आदि की साहित्यिक परम्परा न केवल समृद्ध थी, बल्कि लोकप्रिय भी थी । किन्तु खड़ी बोली शासकों से जुड़े गुलामों की बोली थी । साहित्य तो दूर की चीज है, खड़ी बोली में तो पढ़ाई-लिखाई तक की परम्परा नहीं थी, यह अनपढ़ या अर्ध-साक्षर फौजियों और लठैतों की बोली थी जिसे मुसलमानी तलवार और उसके पिछलग्गू दिल्ली के आसपास के हिन्दू व्यापारी वर्ग ने बिहार जैसे दूर-दराज के प्रांतों तक फैलाया । अंग्रेज़ों ने मुग़लों की प्रतिष्ठा को भुनाने और भू-राजनैतिक कारणों से जब दिल्ली को राजधानी बनाया तो खड़ी बोली को साहित्यिक भाषा के रूप में फैलने और मान्यता प्राप्त करने में सहायता मिली । लेकिन संस्कृत-निष्ठ "शुद्ध" हिंदी को मानक भाषा माना जाए या उर्दू-मिश्रित "हिन्दुस्तानी" को यह बहस का विषय बना रहा । आज भी सेक्युलर लेखकों को हिन्दुस्तानी ही पसंद है जिसे वे हिंदी कहते हैं ।

लेकिन इस ऐतिहासिक पृष्ठभूमि से अलग आज की हिंदी की एक दूसरी सच्चाई भी है । बॉलीवुड फिल्मों के कारण आज की मानक हिन्दी न केवल समूचे आर्यावर्त की भाषा बन चुकी है, आर्यावर्त से बाहर के भी करोड़ों लोग इसे मातृभाषा मानते हैं, और इससे घृणा करने वाले अंग्रेज़ीदाँ ब्राउन साहिबों के नवाबजादे भी छुप-छुप कर हिंदी फ़िल्में देखतें हैं। हिंदी-प्रेम का यह रोग पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान से लेकर अनेक अन्य देशों में भी फैला हुआ है । पाकिस्तान की आधिकारिक भाषा उर्दू है, जो भाषाविज्ञान की दृष्टि से हिंदी ही है, केवल लिपि और कुछ विदेशज शब्दों का अंतर है । हिंदी समझने और बोलने की क्षमता वाले लोगों की संख्या एक से डेढ़ अरब के बीच है, हालांकि इस सच्चाई को हमारी सरकार भी नहीं स्वीकारती । एक राष्ट्रभक्त सरकार हो तो द्रुत गति से आर्थिक प्रगति करने वाले भारत के लिए वह दिन दूर नहीं जब हिंदी-क्षेत्र से बाहर के देशी-विदेशी लोग भी खुलेआम हिंदी-प्रेम दर्शाने लगेंगे। अभी तो दिल्ली में भी हिंदी के लिए दिल्ली दूर दिखती है ।

हिंदी का महत्त्व लोग जानते नहीं । सामान्य ज्ञान की पुस्तकें सरकारों की बकवास दिखाती हैं । जैसे चीनी "भाषा" को लें जिसे संसार की सबसे बड़ी भाषा कहा जाता है । दरअसल यह कोई भाषा ही नहीं है । नौ परस्पर भिन्न भाषाओं और दर्ज़नों बोलियों का यह ऐसा बेमेल सम्मिश्रण है जिन्हें बोलने वाले केवल लिखकर ही आपस में "वार्तालाप" कर सकते हैं ! चीन में राष्ट्रीय एकता स्थापित करने के लिए मन्दारिनों (मूलतः "मन्त्री") ने सभी भाषाओं और बोलियों पर एक सामान्य लिपि थोपी जिसके चिन्ह तो एक समान हैं लेकिन वहां की विभिन्न भाषाओं में उन चिन्हों के उच्चारण भिन्न-भिन्न हैं । भारतीयों को बताया जाता है कि वहां की प्रमुख नदी का नाम "ह्वांग-हो" है, यह नहीं बतलाया जाता कि इसका वास्तविक उच्चारण चीन में "गंगा" है, जिसमे अंतिम स्वर "ओ" हो गया है । कुछ दशकों तक मजबूत राष्ट्रवादी सरकार भारत में टिकी रहे और सही तरीके से राष्ट्रवाद को स्थापित करे तो हिंदी का जादू दिल्ली पर ही नहीं, लंदन और न्यूयॉर्क के सर चढ़कर बोलने लगेगा ।

हिंदी की ताकत हिंदी बोलने वाले भी नहीं जानते । यह मानव 'सभ्यता' के मूल प्रदेश आर्यावर्त की आधुनिक भाषा है, पशु से मानव बनाने वाली उस देवभाषा की सबसे बड़ी , सयानी और समझदार बेटी है जिसकी कोंख से संसार की सभी भाषायें और बोलियाँ निकलीं हैं । ऋषियों के महान ज्ञान को आधुनिक समाज में पंहुचाने का सबसे आसान, सटीक, सशक्त और प्रमुख जरिया हिंदी ही है , यद्यपि कमोबेश यह क्षमता इसकी उन छोटी बहनों में भी है जो उत्पत्ति में हिंदी के निकट हैं , जैसे कि बँगला, मराठी , गुजराती, पंजाबी, आदि । दुर्भाग्य से म्लेच्छों द्वारा संस्कृत-विरोध का जो वातावरण एक झूठे और नस्लवादी भाषाविज्ञान के नाम पर बनाया गया है उसके प्रभाववश सच्चाई लोगों को मालूम नहीं हैं । हिंदी के विद्वान भी म्लेच्छों के भाषाविज्ञान को ही दुहराते हैं, स्वतन्त्र और वैज्ञानिक विश्लेषण नहीं करते ।

लेकिन हज़ार साल की खुमारी अब टूटने लगी है। काल का पहिया उलटा घूम रहा था, अब सीधा होने लगा है । अंगरेजी बोलने वालों का राजनैतिक-आर्थिक वर्चस्व रहा है, जिस कारण भूरे साहबों को अंग्रेजी बोलने में सम्मान दिखता है । लेकिन विकसित देशों की आर्थिक विकास दर दो दशक पहले से ही टूट चुकी है । अब चीन और भारत जैसे देशों का समय आ रहा है । पश्चिम के मदारियों का जादू टूटना शुरू हो गया है, उनकी धुन पर नाचने वाले भारत के नकलची बन्दरों को कौन पूछेगा ? इनमे न सभ्यता है न संस्कृति , न साहित्य की समझ है न मानवता की । केवल नक़ल की बीमारी है , वह भी बिना अकल के । विकसित समाजों की पूँछ पकड़ कर वैतरणी तरने का ख्वाब देखने वालों को अब हिंदी की पूँछ पकड़नी पड़ेगी, जो उस देश की राष्ट्रभाषा है जो शीघ्र ही संसार की आर्थिक और राजनैतिक महाशक्ति बनने जा रहा है । अमेरिका के अवसान की शुरुआत हो चुकी है। केवल फ़ौज़ के बल पर वह टिका हुआ है, जिसे पोसने की उसकी आर्थिक ताकत घटती जा रही है ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

शिक्षा : निजी बनाम सरकारी

निजी शैक्षणिक संस्थाओं का प्रमुख उद्देश्य प्रायः व्यवसायिक ही रहता है, कुछेक अपवादों को छोड़ दें तो इनके लिए शिक्षा तो महज बहाना है । सरकारी शैक्षणिक संस्थाओं में यदि ढंग की पढ़ाई हो भी तो उनका प्रमुख लक्ष्य होता है सत्ताधारी वर्ग की विचारधारा को जनसामान्य पर थोपना । दिखावे के लिये कुछ नीतिवाक्य पढ़ा दिए जाते हैं । जबसे विश्वविद्यालओं की स्थापना हुई और शिक्षा में राजधन का प्रवेश हुआ, तब से शिक्षा रसातल को सिधार गयी । नालन्दा और विक्रमशिला के स्नातक अजन्ता की गुफाओं में बैठकर नग्न सुंदरियों की तस्वीरें बनाते थे, क्या यही था तथागत का धर्म ? नालंदा में दस हज़ार छात्र थे, जिन्हें उनके गुरुओं के सहित केवल पांच सौ मुसलमानों ने काट डाला, और उन्होंने आत्म-रक्षा और गुरु एवं देश की रक्षा का प्रयास तक नहीं किया, अहिंसा का मंत्र जपते रहे । लेकिन गौतम बुद्ध से जब मगध के महामन्त्री वर्षकार ने पूछा था कि वैशाली को मगध हरा क्यों नहीं पाता है, तो बुद्ध ने वृज्जि संघ के सात गुण गिनाए थें जिनके कारण बुद्ध ने उसे अजेय कहा था । अर्थात आत्म-रक्षा के लिए युद्ध और हिंसा को गौतम बुद्ध गुण मानते थे, अवगुण नहीं । अजन्ता-एल्लोरा की बौद्ध पोर्नोग्राफी से हिन्दू मंदिरों की पोर्नोग्राफी तो और भी बढ़कर थी । धर्म के नाम पर अधर्म, मंदिरों और मठों में व्यभिचार, राजनीति में अनाचार, इन्हीं अवगुणों ने राष्ट्र का नाश किया । अतः प्राचीन शिक्षा पद्धति का पतन ही भारत के पतन का कारण बना । जबतक प्राचीन शिक्षा पद्धति अक्षुण्ण रही, कोई भी ताकत इस देश का कुछ नहीं बिगाड़ सकी । न तो राजधन का लोभ, न अभिभावकों से फीस की उगाही । भीख मांगकर छात्रों को पढ़ाने वाले निस्वार्थ ब्राह्मणों को भूदेव माना जाता था । चारों वर्ण अपने कर्त्तव्य का पालन करते थे । निस्वार्थ भाव से समाज को शिक्षित करना और धार्मिक अनुष्ठानों का सम्पादन करना ब्राह्मण का कार्य था , निस्वार्थ भाव से बिना धन के लोभ के समाज की रक्षा करना क्षत्रिय का कर्त्तव्य था, पूरे समाज का भरण-पोषण करना वैश्य का कार्य था , और शेष लोगों का कार्य था इन तीनों की सेवा करना । लेकिन ये तीन वर्ण भी तो समाज की सेवा ही करते थे । वर्णाश्रम धर्म सेवा की भावना पर आधारित था । शिक्षा बहुआयामी थी । संस्कारों को सुधारकर चरित्र का निर्माण, इहलौकिक कर्तव्यों के निर्वाहन हेतु व्यवहारिक शास्त्रों के अध्ययन के साथ-साथ आध्यात्मिक ज्ञान, ये सब शिक्षा के अंग थे । पाठ्यक्रम का तीस या चालीस प्रतिशत सीखकर परीक्षा पास करके कागज़ के टुकड़े पर डिग्री लेने की म्लेच्छ परम्परा का प्रचलन नहीं था । पंडित की डिग्री तो उसके माथे में भरा ज्ञान था । हमेशा शास्त्रार्थ का भय बना रहता था, अतः आजीवन सीखते रहने की विवशता बनी रहती थी । शास्त्रार्थ भी खुलेआम सबके बीच में, बंद कमरे में नहीं, अतः कदाचार की कोई गुन्जाइश नहीं । सबसे बड़ी बात यह कि शिक्षा के लिए ब्रह्मचर्य-आश्रम की अनिवार्यता थी । फ्रायड ने भी लिखा था की लिबिडो (काम-ऊर्जा) के उदात्तीकरण ( सब्लिमेशन) के फलस्वरूप ही विज्ञान या कला के क्षेत्र में कोई भी महत्वपूर्ण कार्य संभव है । लेकिन अब तो बच्चों को भी काम-वासना का विशेषज्ञ बनाने के लिए गंदे फिल्म और हर जगह गंदी बातों का प्रचलन करवाया जा रहा है । अनेक पढ़े लिखे लोग भी यह मानने के लिए तैयार नहीं कि काम का उद्देश्य प्रजाति का संरक्षण है, न की इन्द्रियों का तुष्टिकरण और मनोरंजन । इन्द्रिय-निग्रह नहीं तो शिक्षा बेकार है ! गीता में ब्राह्मण के नौ स्वाभाविक गुण गिनाये गए हैं : शम-दम-तप-शौच-आर्जव-क्षान्ति-ज्ञान-विज्ञान-आस्तिक्य । इसी प्रकार अन्य वर्णों के भी स्वाभाविक गुण बताये गए हैं । अब ये गुण किसी भी वर्ण में नहीं । अतः सभी जातियां वर्ण-संकर हैं, वर्ण के गुणों और कर्तव्यों से च्युत हैं । शिक्षा की परिभाषा भी वर्ण-संकरों और म्लेच्छों ने बदल दी है । दूसरों को प्रतियोगिता में पछाड़ दो, किसी भी 'तकनीक' से परीक्षा में अधिक नंबर ले आओ, अधिक से अधिक डिग्रियां दुम की तरह खोंस लो, और इस प्रकार तेज-तर्रार धूर्त शैतान बन जाओ तो भगवान और खुदा का बाप भी कुछ नहीं बिगाड़ पायेगा, ऐसे ही संस्कार आधुनिक शिक्षा पद्धति छात्रों में भरती है । भारतीय संस्कृति थोड़ी बहुत बची है तो अशिक्षित या अल्प-शिक्षित लोगों के कारण , जिन्होंने पांच हज़ार वर्षों के कलियुग की कालिमा के बीच भी ऋषियों के ज्ञान और संस्कार को व्यवहांर में कुछ न कुछ बचाकर रखा है ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

राष्ट्र और धर्म

लार्ड मैकॉले के मानसपुत्रों का डेढ़ सौ वर्षों से प्रशिक्षण ही ऐसा हुआ है कि वे हिन्दू-विरोध और अल्पसंख्यक-तुष्टिकरण को ही राष्ट्रवाद समझते हैं । अल्पसंख्यक होने का प्रमाणपत्र देने से राष्ट्रीयकृत बैंक से पांच लाख रुपया तक का क़र्ज़ बिना सिक्योरिटी के ले सकते है, जो वापस नहीं किया जाएगा । अच्छी आमदनी वाले सारे हिन्दू मन्दिरों को सेक्युलर सरकार जबरन कब्जे में लेती रही है, जबकि सेक्युलर संविधान के अनुसार यह सरकार का कार्य नहीं है । तिरुपति बालाजी ट्रस्ट के धन से ढेड सारे चर्चों का निर्माण कराया गया । पद्मनाभ स्वामी मंदिर का धन हिन्दू देवता का धन है, सरकार का नहीं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट भी गलत निर्णय देती है क्योंकि जजों पर सम्पति घोषित करने का नियम लागू नहीं किया गया, उन्हें मायावती और लालू शरीफ दिखते हैं । कोई कश्मीरी लड़की भारतीय मुस्लिम से भी निकाह कर ले तो वह कश्मीर की नागरिक नहीं रहेगी, लेकिन पाकिस्तानी लड़के से निकाह करे तो उस पाकिस्तानी को भी कश्मीर की नागरिकता मिल जाएगी । धारा ३७० में यह प्रावधान भी है कि संविधान की उद्देशिका (preamble) में भारत की अखण्डता की अवधारणा कश्मीर पर लागू नहीं होगा, जिसका अर्थ यह हुआ कि कश्मीर भारत का अविभाज्य अंग नहीं है । जिन्हे राष्ट्र की परिभाषा भी मालूम नहीं वे उनके मुंह से राष्ट्रवाद पर प्रवचन शोभा नहीं देता । "राष्ट्र का निर्माण ईंट-पत्थर बम बारूद से नहीं, मानव मूल्यों द्वारा होता है, जिनके स्खलित होने पर राष्ट्र की वह शक्ति क्षीण होती जो मानव को मानव से जोड़कर राष्ट्र का रूप गढ़ती । भारत नाम के राष्ट्र की वह शक्ति है भारती, जो गुरु की वाणी बनकर उतरे तो इळा , और शिष्य की मति का रूप धरे तो सरस्वती कहलाती ।" (-डॉ लक्षमण झा, पूर्व कुलपति, मिथिला विश्वविद्यालय) । जबतक राष्ट्र में यह शक्ति विद्यमान थी, एक अकेला शिक्षक चुटिया खोलकर घूम गया तो राष्ट्र के सारे छात्र उसके पीछे हो लिए और बिना राजा की सहायता के विशाल विदेशी सेना को मार भगाया, लेकिन जब यह शक्ति क्षीण हुई तो मुट्ठी भर जमीनी और समुद्री दस्युओं ने इस प्राचीन और विशाल देश को बारम्बार पराजित किया।

लेकिन कुछ बात ऐसी है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी (इक़बाल ने यह विचार महात्मा गांधी के 'हिन्द स्वराज' से लिया था जिसे नेहरू ने कबाड़े में फ़ेंक दिया और मैकॉले की पद्धति को ही सतही लीपापोती के साथ चालू रखा)। वह बात क्या है यह स्वतन्त्र भारत के इतिहासकार नहीं बतलाते, लेकिन ब्रिटिश काल के औपनिवेशिक इतिहासकार विन्सेंट स्मिथ ने साहसपूर्वक लिखा था कि ब्रिटेन की राष्ट्रीय एकता तलवार के बल पर कायम हुई है, जबकि भारत की एकता सांस्कृतिक रही है । वह कौन सी संस्कृति है जिसने इस देश को एकता के सूत्र में बांधा यह सारे सेक्युलर नेता भी जानते हैं, लेकिन बोलते नहीं । उस संस्कृति को मिटाने के भरपूर प्रयास झूठे सेकुलरिज्म के नाम पर किये जा रहे हैं, लेकिन ये लोग इतना भी नहीं सोचते कि प्राचीन संस्कृति के मिट जाने पर इस राष्ट्र को बांधने वाला सूत्र नहीं बचेगा । अंग्रेज़ों ने झूठ-मूठ पढ़ा दिया कि भारत नाम के राष्ट्र का निर्माण उन्होंने किया, उनकी सोच ही साम्राज्यवादी थी । महाभारत के आरम्भ में ही व्यास जी ने भारत की अनूठी परिभाषा दी है : भारत (भूगोल का टुकड़ा भर नहीं, बल्कि) एक कल्पवृक्ष है, जिसके पुष्प और फल हैं धर्म और मोक्ष । अर्थ और काम की पूर्ति अन्य देशों में भी संभव है (वह भी धर्म-विरुद्ध अर्थ और काम की), लेकिन धर्म और मोक्ष की सिद्धि भारत में ही संभव है । चारों पुरुषार्थों द्वारा जो प्रजा का भरण करे, उस अनूठे क्षेत्र को भारत कहते हैं । भारत का संविधान भी पंथ-निरपेक्ष है, धर्म-निरपेक्ष नहीं । जो राष्ट्र धर्म पर नहीं चले, वह राष्ट्र नहीं कलि है । राजनीति को अधर्म पर नहीं, धर्म पर ही चलना चाहिए, लेकिन कलियुगी नेता तो धर्म को ही राजनीति और समाज से निकाल बाहर करना चाहते हैं । समस्या यह है की यूरोप की भाषाओं में धर्म शब्द का अनुवाद संभव नहीं है, क्योकि धर्म से च्युत होने के कारण जो आर्यावर्त से भगाए गए थे उन म्लेच्छों की संतानें ही यूरोपवासी हैं । पिछले डेढ़ सौ वर्षों में जो कूड़ा करकट शिक्षा के नाम पर म्लेच्छों ने भारतवासियों के दिमाग में भरा है, उसे हटाने में समय तो लगेगा, लेकिन कालचक्र उलटा घूमना आरम्भ हो गया है । यदि नरेंद्र मोदी और बीजेपी इस ऐतिहासिक दायित्व को पूरा नहीं करेंगे तो काल का पहिया उन्हें भी उसी तरह रौंदता बढ़ जाएगा जैसा कांग्रेस के साथ हुआ है । कालचक्र को ही धर्मचक्र भी कहते हैं । जो धर्म पर टिकेंगे, धर्म उन्हें धारण करेगा ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

"धर्मनिरपेक्षता" : एक संविधान-विरुद्ध अवधारणा

मीडिया ने एक गलत शब्द "धर्मनिरपेक्षता" का प्रचार कर रखा है । यह झूठा प्रचार किया जाता है कि भारत एक "धर्मनिरपेक्ष" राष्ट्र है । संविधान में ४२ वें संशोधन (१९७६ ई.) के तहत जब "सेक्युलर" शब्द संविधान के Preamble (उद्देशिका) में जोड़ा गया उसी समय इसपर बहस हुई थी कि अंग्रेजी शब्द "सेक्युलर" का हिंदी अनुवाद "धर्मनिरपेक्ष" हो या न हो । भाकपा सांसद भोगेन्द्र झा ने 'धर्म' शब्द की शास्त्रीय परिभाषा बताते हुए कहा कि 'धर्म' शब्द का अर्थ रिलिजन नहीं है। उदाहरणार्थ बताया गया कि महाभारत में धर्म के दस लक्षण गिनाये गए हैं : "धृति क्षमा दमः अस्तेयं शौचम् इन्द्रिय-निग्रहः । धीः विद्या सत्यम अक्रोध दशकं धर्म लक्षणम् ॥ " इन लक्षणों से युक्त नास्तिक व्यक्ति भी धार्मिक माना जाएगा । पश्चिम के भारतविद् भी 'धर्म' शब्द का अनुवाद रिलिजन न करके Traditional Law करते हैं । लेकिन भारत में ऐसे मूर्खों की कमी नहीं है जो न तो अपने देश का संविधान पढ़ते हैं और न ही शास्त्रों का अध्ययन अध्ययन करते हैं । इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी जैसे लोगों ने भी इस मत का समर्थन किया । अतः सर्वसम्मति से संसद ने स्वीकार किया कि संविधान के Preamble (उद्देशिका) में ४२ वें संशोधन के तहत जो "सेक्युलर" शब्द जोड़ा गया, उसका हिंदी अनुवाद आधिकारिक तौर पर "धर्मनिरपेक्ष" न करके "पंथनिरपेक्ष" किया जाए ।
संविधान में ४२ वाँ संशोधन अत्यधिक व्यापक था प्रावधान विवादास्पद थे जो अदालत की शक्तियों पर कुठाराघात करते थे । अतः १९७७ में जनता पार्टी की सरकार बनने पर ४२ वें संशोधन के कुछ प्रावधानों को हटाया गया । बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भी अदालत सम्बन्धी कुछ गलत प्रावधानों को संविधान-विरुद्ध ठहराया । लेकिन Preamble (उद्देशिका) में जोड़े गए शब्द "सेक्युलर" और इसके हिंदी अनुवाद "पंथनिरपेक्ष" को कभी नहीं हटाया गया । भारतीय संविधान में जहां कही भी "सेक्युलर" शब्द है, इसका अनुवाद "धर्मनिरपेक्ष" कहीं भी नहीं है, सर्वदा "पंथनिरपेक्ष" ही है । भारतीय संविधान को "धर्मनिरपेक्ष" कहने वाले पर अदालत में मुकदमा भी किया जा सकता है, यद्यपि आजतक ऐसा किसी ने किया नहीं है, क्योंकि जानबूझकर "धर्मनिरपेक्ष" शब्द का प्रयोग करने वाले तर्क दे सकते हैं की उन्होंने केवल अंग्रेजी में संविधान पढ़ा है और भूलवश "सेक्युलर" शब्द का अनुवाद "धर्मनिरपेक्ष" कर दिया । लेकिन यह संयोग नहीं है कि ३८ वर्षों के बाद भी भारत के समस्त तथाकथिक "सेक्युलर" लेखकों ने "धर्मनिरपेक्ष" शब्द का ही प्रचलन चला रखा है । इसका कारण यह है कि नास्तिकों को न केवल समस्त रिलीजियस पंथों से नफरत है, बल्कि उन्हें धर्म, अर्थात सत्य-अहिंसा-आदि से भी घृणा है । वरना क्या कारण है कि हिंदी में भारतीय संविधजां के आरम्भिक पृष्ठ पर ही भारत को "पंथनिरपेक्ष" कहा गया है जो इन्हे नहीं दिखता ? Preamble (उद्देशिका) में भारत को १९५० ईस्वी में "SOVEREIGN DEMOCRATIC REPUBLIC" कहा गया था जिसे १९७६ में बदलकर " "SOVEREIGN SOCIALIST SECULAR DEMOCRATIC REPUBLIC" किया गया जो आजतक है , जिसमे "सेक्युलर" का हिंदी अनुवाद "पंथनिरपेक्ष" है । इंटरनेट पर मुझे पूरा संविधान हिंदी में नहीं मिल सका है, लेकिन संविधान का दूसरा परिशिष्ट इंटरनेट पर उपलब्ध है, जिसमे Preamble (उद्देशिका) में आये "सेक्युलर" शब्द का अनुवाद "पंथनिरपेक्ष" है, "धर्मनिरपेक्ष" नहीं । संविधान के इस दूसरे परिशिष्ट का भी अर्थ भारत के मूर्ख बुद्धिजीवियों ने नहीं समझा है जिसंमे कहा गया है कि भारत को Preamble (उद्देशिका) में "SOVEREIGN SOCIALIST SECULAR DEMOCRATIC REPUBLIC" कहा जाएगा लेकिन जम्मू और कश्मीर में यह लागू नहीं होगा, वहाँ के लिए भारत एक "SOVEREIGN DEMOCRATIC REPUBLIC" ही रहेगा ! अर्थात जम्मू और कश्मीर में भारतीय राष्ट्र का चरित्र न तो समाजवादी होगा और न ही "सेक्युलर" ! ऐसा शेख अब्दुल्लाह को खुश करने के लिए किया गया था जिनसे इंदिरा गांधी जी की कुछ ही समय पहले संधि हुई थी । इतना ही नहीं, Preamble (उद्देशिका) की पूर्वांतिम (penultimate ) पैरा में भारत की 'अखंडता' को भी जम्मू और कश्मीर पर लागू नहीं माना गया । इसका अर्थ यह हुआ कि जम्मू और कश्मीर भारत का अखंड अंग नहीं है ! जिन्हे विश्वास न हो, संविधान के दूसरे परिशिष्ट पढ़ लें (http://hindi.webdunia.com/samayik/samvidhan/appendix_2.htm) जिसमे निम्नोक्त कथन मिलेगा :

1. उद्देशिका
(क) पहले पैरा में 'समाजवादी पंथ निरपेक्ष' का लोप करें।
(ख) पूर्वांतिम पैरा में 'और अखंडता' का लोप करें।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

वैदिक परम्परा में मांसभक्षण

मनुष्यों के मन का ९०% से अधिक अचेतन है, जिसका कारण है पूर्वकृत पापजनित अशुभ संस्कार । जब मानवजाति बनी थी तब भी पाप का भाग ५०% था । इक्का-दुक्का परमहंसों को छोड़ दें तो मानवों को चैतन्य प्राणी नहीं माना जा सकता । किन्तु देवभाषा जैसी पूर्णतः नियमबद्ध और वैज्ञानिक भाषा का निर्माण वही समाज कर सकता है जिसके प्रायः सभी सदस्य पूर्ण चैतन्य हों । अतः संस्कृत देवभाषा है, मानवकृत नहीं ।

इसका अर्थ यह है कि जब भाषा बनी, अर्थात जब मानवों को देवभाषा प्राप्त हुई, तब धात्वर्थों और प्रचलित अर्थों में विरोध नहीं था । आज "सम्भ्रान्त" शब्द अच्छे अर्थ में प्रयुक्त होता है, किन्तु संस्कृत में इसका अर्थ अच्छा नहीं है ("सम्यक् रूपेण भ्रान्त")। प्रचलित अर्थ धात्वर्थ से भिन्न हो सकते हैं ,किन्तु धात्वर्थ का विरोध नहीं कर सकते : यह देवभाषा का मौलिक नियम है ।

मांस शब्द "मन्" धातु से बना है (देखें शिवराम वामन आप्टे का शब्दकोष), जिसका अर्थ यह है कि मन को जो पसन्द हो उस खाद्य पदार्थ को मांस कहते थे, जो मांसल और कोमल हो, जैसे कि फल का गूदा । आधुनिक विज्ञान भी मानता है कि मनुष्य प्राइमेट्स परिवार से निकला है जो मूलतः शाकाहारी परिवार है ।

मानव शिशु को अन्नप्राशन में पशु का मांस या मछली खिलाना स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी अशुभ है । वनस्पति औषधियों द्वारा पशुमांस के विष को नष्ट करके खाने योग्य बनाया जाता है (समस्त मसाले वनस्पति हैं, और औषधियाँ हैं)। जब कृत्रिम खाद और कीटनाशकों द्वारा भूमि और फसलों को जहरीला नहीं बनाया जाता था तब सब्जियों और चावल आदि पदार्थों का स्वाद मसालों के स्वाद से भी अच्छा होता था । मुझे ऐसी सब्जियाँ खाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है जो ऐसी भूमि में उगाई गयी थीं जिसमें कभी भी कृत्रिम खादों और कीटनाशकों का प्रयोग नहीं हुआ था । किन्तु ऐसी भूमि में उगाई फसलों का स्वाद भी प्राचीन फसलों और सब्जियों की तुलना में फीका है, क्योंकि आज हवा, नदियों-तालाबों और भूगर्भ के जल में भी विष है । पशुमांस बिना मिर्च-मसालों और तेल के मनुष्य प्रसन्नतापूर्वक नहीं खा सकता । हविष्यान्न में मिर्च-मसालें, नमक और तेल वर्जित हैं , अतः हविष्यान्न में पशुमांस-भक्षण सम्भव नहीं है ।

फिर भी "धूर्तों ने यज्ञ में पशुमांस का प्रचलन त्रेता युग में आरम्भ कर दिया" (- महाभारत) । मनुस्मृति (अध्याय-५) के १५वें श्लोक में पशुमांस और मछली खाने का निषेध है, किन्तु अगले ही श्लोक में हव्य वा कव्य पदार्थ के रूप में खाने का आदेश है ! बिना मिर्च-मसालों-नमक-तेल के हव्य पदार्थ पकाये जाते हैं , अतः ऐसे श्लोक प्रक्षिप्त अंश हैं जो धूर्तों ने कलियुग में जोड़े । ३६वें श्लोक में ब्राह्मणों द्वारा मांस खाने पर मनाही है, किन्तु यज्ञ में मांसभक्षण को उचित ठहराया गया है ! उसी अध्याय में श्लोक ४८ से ५५ में मांसभक्षण पर निषेध और कारणों का वर्णन है : श्लोक ५५ तो मांस शब्द की व्युत्पत्ति भी ऐसे ही सन्दर्भ में देता है, जिसे आप्टे के शब्दकोष में भी उद्धृत किया गया है । किन्तु वहीं श्लोक-५६ में कहा है कि "मांस, शराब और मैथुन में दोष नहीं है क्योंकि ये प्राणियों का स्वभाव है, यद्यपि इनसे दूर रहने में कल्याण है " !

इसी अध्याय में श्लोक-१३१ कहता है कि कुत्तों, हिंसक पशुओं और चाण्डालों द्वारा मारे गए पशुओं का मांस ब्राह्मण के लिए शुद्ध है ! तब फिर बचा क्या ? ब्राह्मण को शिकार नहीं करना चाहिए, मांस बेचना नहीं चाहिए, लेकिन दूसरों के मारे हुए मांस खाने में दोष नहीं है ! अध्याय-१० में आपातधर्म की तौर पर मांसभक्षण के उद्धरण हैं, किन्तु में (श्लोक-९६) सुरा, मांस आदि को यक्षों , राक्षसों और पिशाचों का आहार कहा गया है और ब्राह्मणों को ऐसे पदार्थों से दूर रहने का आदेश है क्योंकि ब्राह्मणों को देवयज्ञ में अवशिष्ट हविष्यान्न के भक्षण का आदेश है । यह श्लोक स्पष्ट कि देवयज्ञ में सुरा और मांस का निषेध है । किन्तु इसी अध्याय में श्लोक १५३ और १५७ बताते हैं कि केवल कुछ ख़ास प्रकार के मांस ही निषिद्ध है ! ध्यातव्य है कि निषिद्ध सूची में गोमांस का उल्लेख नहीं है ! अतः जिन धूर्तों ने मनुस्मृति की भावना के विपरीत प्रक्षिप्त अंश जोड़े, वे गोमांस भी खाते थे !

इसका कारण जानना है कठिन नहीं है । यजुर्वेद के पशुयाग का हवाला देकर मांसभक्षक धूर्तों द्वारा पशुमांस खाने की वकालत की जाती है, किन्तु पशुयाग में बकरे का उल्लेख नहीं है - यदि वैदिक पशुयाग में पशुमांस का उल्लेख उसी अर्थ में है जिस अर्थ में मांसप्रेमियों द्वारा प्रचारित किया जाता है तब तो श्रोत्रिय ब्राह्मणों को गोमांस खाना चाहिए ! श्रोत्रिय ब्राह्मण ही ऐसा करेंगे तो शेष लोग क्यों पीछे रहेंगे ?

स्पष्ट है के ऐसे प्रक्षिप्त अंश उन लोगों ने जोड़े जो मनुस्मृति की शब्दावली में स्वभावतः "यक्ष, राक्षस या पिशाच" थे क्योंकि ऐसे धूर्तों ने अध्याय-५ के प्रक्षिप्त श्लोक-५६ में स्वीकारा है कि शराब और पशुमांस ("यक्ष, राक्षस और पिशाच" स्वभाव के) प्राणियों का स्वभाव है !

आसान नहीं है मनुस्मृति पढ़ना, कलियुग में राक्षसों के वाममार्गियों चेलों ने मनुस्मृति में ढेर सारे प्रक्षिप्त श्लोक जोड़ रखे हैं, और आधुनिक काल के तथाकथित भाष्यकारों ने अर्थ का अनर्थ कर रखा है । मनुस्मृति में मांसभक्षण के विरोध में स्पष्ट कहा गया है , किन्तु वहीं मांसभक्षण के पक्ष में भी बकवास जोड़ दी गयी है । क्या दोनों प्रकार के मत मनु महाराज के ही हो सकते हैं ? क्या माँसभक्षण का प्रचार करने वाले ग्रन्थ में वैष्णव अपना मत जोड़ सकते हैं ? यज्ञ में पशुहिंसा की वकालत मनुस्मृति में की गयी है, किन्तु यज्ञ को अध्वर कहा जाता है जिसका शब्दार्थ है "हिंसा-रहित" , और यज्ञ में जिस पुरोहित के हाथों पशुहत्या करवाई जाती है उसे "अध्वर" कहा जाता है जिसका अर्थ है "अहिंसक" । मनुस्मृति (और महाभारत) में कहा गया है कि वैदिक यज्ञ, पौरोहित्य-कर्म, चिकित्सा और ज्योतिष से जो जीविका चलाये उसे (आर्यों के समाज से बहिष्कृत करके) चाण्डाल घोषित कर देना चाहिए (क्योंकि कष्ट से पीड़ित मनुष्य ही इन चारों के पास पंहुचते हैं)। कलियुग में इन कर्मों में चाण्डालों का ही कब्जा है जो ब्राह्मणोचित कर्म नहीं करते किन्तु ब्राह्मण-जाति में जन्म लिए हुए हैं । सभी वर्णों में विकृति आयी है, किन्तु सिर ही गड़बड़ा गया है तो हाथ-पाँव-पेट को कौन ठीक करे ?

कौलमार्ग और अन्यान्य वामाचार के ग्रंथों में सुरा और मांसभक्षण का ही वर्णन नहीं है, उससे आगे की बातें भी है जहां अभी तक पश्चिम का समाज भी "विकास" नहीं कर पाया है : माँ-बहन से मैथुन को धार्मिक कृत्य के रूप में प्रचारित किया गया है ! यही कारण है कि रामचरितमानस में १४ प्रकार के निकृष्ट कौलों को सबसे पहले रखा गया है । सत्यार्थ-प्रकाश में दयानंद सरस्वती महोदय ने ऐसे कुछ घृणित श्लोकों को उद्धृत किया है। पञ्च-मकारी कुलार्णव-तंत्र का एक श्लोक (पीत्वा-पीत्वा पुनः पीत्वा यावत् पतति भूतले । पुनरुत्थानं वै पीत्वा पुनर्जन्म न विद्यते ॥) गीता की पैरोडी है, केवल भगवत-चिंतन को हटाकर सुरापान को मोक्ष का साधन बताया गया है, अन्तिम वाक्यांश गीता से चुराए गए हैं : "पुनर्जन्म न विद्यते")!

Read the Pashuyāga chapter of Shukla Yajurveda (Mādhyandina shākhā) which is used for advocating cow slaughter in Pashuyaga. Chapter-6 yajush-22 states :
यदाहुरघ्न्या इति वरुणेति शपामहे ततो वरुणो नो मुञ्च ।

जिस (गाय) को लोग अवध्य कहते हैं (और) हम भी (ऐसा ही) शपथ खाते हैं (कि गाय अवध्य / अघ्न्या है), उसके प्रति किसी पाप से वरुण हमें मुक्त कीजिए !

किन्तु भाष्यकारों ने अर्थ का अनर्थ कर दिया : "शपतिहिंसार्थः", तात्पर्य यह हुआ कि गाय को अघ्न्या कहते हैं, किन्तु यज्ञ करने वाले अध्वर्यु उसे मार डालते हैं ! "शप" का अर्थ 'हिंसा' नहीं होता, और अध्वर्यु का शब्दार्थ ही है : "जो हिंसा न करे" । यज्ञ को अध्वर कहते हैं, जिसका अर्थ है अ+ध्वर = जिसमे हिंसा वर्जित हो । धूर्तों ने गलत अर्थ कर दिया : यज्ञ में गोहत्या को हिंसा नहीं कहते ! पग पग पर ऐसे ही अनर्थ मिलेंगे । पशुयाग का सही अर्थ कलियुगी मनुष्य नहीं जान सकते । बड़े भाग्य से वेद का सही अर्थ प्राप्त होता है ।
ताज्जुब है कि फलित ज्योतिष में "ज्योतिषियों" की रूचि नहीं है !
किन्तु जिनके ह्रदय में मानवता नहीं, करुणा नहीं, उनपर किसी भी तर्क का प्रभाव नहीं पड़ने वाला ।

इसी परिप्रेक्ष्य में एक और धातु "मिष्" पर ध्यान देने की आवश्यकता है जिससे ये तीन शब्द बने हैं : मिष्टान्न, सामिष और निरामिष । मिष् धातु (रस द्वारा तर या आर्द्र करना, छिड़कना) का सामिष और निरामिष के कलियुगी अर्थ से दूर का भी सम्बन्ध नहीं है , किन्तु मिष्टान्न से सम्बन्ध है : आज भी रसगुल्ला आदि ऐसे ही बनते हैं : गुल्ला को रस में मिष् करने पर रसगुल्ला बनता है । संस्कृत में ऐसे और भी शब्द हैं जिनका अर्थ "यक्ष, राक्षस या पिशाच" स्वभाव वाले क्रूर लोगों ने बिगाड़ दिया है ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

संस्कृत के "विद्वानों" की विद्वता

१९ जनवरी २०१४ को सामने घाट के पास वाराणसी में 'राष्ट्रीय वेद-वेदाङ्ग संगोष्ठी' में मैंने अपने भाषण में कहा कि हिंदुओं, विशेषतया ब्राह्मणों , को वैदिक संस्कारों को पुनर्जीवित करने की और समुचित रीति से उनका पालन करने की आवश्यकता है । उदाहरण के तौर पर गर्भाधान संस्कार को लें, जिसका व्यवहार पूरी तरह उठ चुका है । गुरु और पुरोहित की आज्ञा से विष्णु का यजन करके गर्भाधान संस्कार किया जाता था, जिसमे काम-वासना का कोई स्थान नहीं था । किन्तु पारस्कर गृह सूत्र में इसका पूरा अध्याय ही गायब हो चुका है, यद्यपि कुछ अन्य गृह सूत्रों में इसके अंश अवशिष्ट हैं । किन्तु पराशर मुनि ने दशाध्याय में लिखा है कि दशाओं का फल दशारम्भ कुंडली से बनाना चाहिए , जिसके लिए सेकंड के सौवें हिस्से तक जन्म काल की शुद्धि अनिवार्य है । इसके लिए सूतिका गृह का विवरण और गर्भाधान लग्न की आवश्यकता है , जिसका ब्योरा अब कोई नहीं रखता । जैमिनी सूत्र में गर्भाधान लग्न के महत्व पर विस्तार से लिखा गया है।

उस गोष्ठी में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के भूतपूर्व वेद विभागाध्यक्ष डॉ ह्रदय रंजन शर्मा मुख्य वक्ता थे । उन्होंने मेरे वक्तव्य का खंडन करते हुए कहा कि पारस्कर गृह सूत्र में कुछ भी गायब नहीं है, जो गर्भाधान संस्कार का प्रमाण उसमे देखना चाहते हैं उन्हें वे दिखा सकते हैं । तब मैनें वहीं पर कहा कि चौखम्बा ने जो गर्भाधान संस्कार प्रकाशित किया है उसमे गर्भाधान संस्कार का पूरा अध्याय गायब है, यदि कोई अन्य पाठ आपको ज्ञात है तो उसकी जानकारी दे । किन्तु उन्होंने उत्तर नहीं दिया ।

मेरे इस वक्तव्य का भी उन्होंने खंडन किया कि संस्कारों का पालन करना चाहिए , और कहा कि त्रेता युग का नियम कलियुग पर नहीं थोपना चाहिए , कलियुग में केवल हरि नाम लेने से ही सारे कार्य सिद्ध हो जाते हैं !

इसपर भी मैंने प्रश्न किया कि पराशर जी के पुत्र वेद व्यास जी थे, जिनके प्रधान शिष्यों में एक जैमिनी रशि थे, जिनका काल था द्वापर और कलियुग की संधि । जैमिनी जी ने जो कुछ लिखा वह कलियुग के लिए ही लिखा । जैमिनी सूत्र का लगभग एक चौथाई गर्भाधान लग्न के ज्योतिषीय महत्व पर है । यदि गर्भाधान संस्कार कलियुग के लिए नहीं है तो जैमिनी जी ने क्यों लिखा ? इसपर भी डॉ ह्रदय रंजन शर्मा मौन साध गए, कुछ नहीं दिया ।

कारण यह है कि गर्भाधान संस्कार का तात्पर्य यह है कि बिना इसका अनुष्ठान किये कोई पंडित अपनी पत्नी से संपर्क नहीं कर सकता है । संतानोत्पत्ति धर्मं का अंग था, न कि शारीरिक भोग-विलास का साधन । कलियुग में काम-वासना के प्रवाह में अधिकांश लोग बह गए हैं । शास्त्र का मनमाना अर्थ निकाल कर अपने करतूतों को शास्त्रानुकूल सिद्ध करते रहते हैं । क्या इन पंडितों को ईश्वर का भय नहीं है ?

मैनें अपने वक्तव्य में यह भी कहा था कि जिसने प्रथम आश्रम में ब्रह्मचर्य का पालन विधिपूर्वक नहीं किया उसे दुसरे आश्रम में दाखिल होने का अधिकार नहीं , गृहस्थ आश्रम केवल शादी करने का नाम नहीं है, इसके अनेक कठोर नियन होते हैं जिनका पालन नहीं करने वालों तो वैदिक धर्मावलम्बी कहना उचित नहीं । महाभारत का उदाहरण देकर मैनें यह भी कहा कि गृहस्थ के धार्मिक नियमों का पालन करने के कारण अर्जुन को भगवन कृष्णा ने ब्रह्मचारी कहा, जबकि अविवाहित अश्वत्थामा तम्बू में नर्तकी रखते थे और ब्रह्मचारी नहीं थे। यह बात भूतपूर्व वेद विभागाध्यक्ष डॉ ह्रदय रंजन शर्मा को नहीं पची ।

अखिल भारतीय विद्वत परिषत के राष्ट्रीय संयोजक डॉ कामेश्वर उपाध्याय ने वहीं पर शास्त्र का हवाला देकर कहा कि जो राजा का अन्न खाता हो, धन के लोभ में घूम-घूम करकर यज्ञ कराता हो, यज्ञ करने के लिए पंडितों का झुण्ड बनाता हो, ऐसे ब्रह्माण द्वारा यज्ञ निष्फल होते हैं । समझने वाले समझ गए कि उनका लक्ष्य किस वैदिक पर था !!

कुछ दिन पहले भबुआ (बिहार) में एक गोष्ठी में मैंने कहा था कि विराट पुरुष के सिर से ब्राह्मण, भुजा से क्षत्रिय, आदि बने थे तो यह अर्थ हुआ कि यदि हाथ-पाँव -पेट आदि में खराबी हो तो ठीक किया जा सकता है, लेकिन सिर में खराबी हो तो स्वयं इलाज कराना सम्भव नहीं । दूसरे वर्णों में गड़बड़ी हो ब्राह्मणों का कर्त्तव्य है कि राह दिखाए, लेकिन ब्राह्मण ही गड़बड़ा जाए तो कौन राह दिखाए ?
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

वामपन्थ की मौलिक समस्या

नास्तिकों का मानना है कि भाग्य अपने पिछले कर्मों का फल नहीं, बल्कि अमीर वर्ग का बनाया विधान है । अमीर वर्ग को साफ़ कर देने से समस्याएँ ठीक नहीं हो सकती : ७४ साल तक समाजवादी रहने के बाद सोवियत संघ ने पुनः पूँजीवाद का रास्ता क्यों चुना ? समाजवादी रास्ता विकास की होड़ में पूंजीवाद से पिछड़ क्यों गया ? चीन के कम्युनिस्टों ने सत्ता बचाने के लिये आर्थिक क्षेत्र में पूंजीवाद का रास्ता क्यों चुना ?जैसे अन्य क्षेत्रों में मेधावी लोग ही विकास के इन्जन होते हैं, वैसे ही आर्थिक क्षेत्र में भी सभी लोग एक समान हुनरमंद नहीं होते । दुनिया के सारे साधन सभी लोगों में बराबर बाँट दिए जाय तो चन्द वर्षों में ही कुछ लोग उन साधनों के आधार पर नया कारोबार करके चमक जाएंगे और कुछ लोग अपने सारे साधन खा-पीकर फिर से गरीब बन जाएंगे । १९४७-८ के दौरान पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान से लाखों शरणार्थी अपना सर्वस्व छोड़-छाड़कर भारत आये । सरकार ने एक समान बर्ताव किया, लेकिन पश्चिमी पाकिस्तान के सिंधी और पंजाबी लोग कारोबार के मामले में आज भारत की शान हैं, जबकि पूर्वी पाकिस्तान से आये लोग कुछ नहीं कर पाये । व्यक्ति, समुदाय और राष्ट्रों का भाग्य होता है, जो पिछले कर्मों का फल है।

इस लेख में सबसे बड़ी कमी यह है कि आज का कल्याणकारी पूंजीवाद मार्क्स के समय के खूंखार पूंजीवाद से बेहद अलग है ; गरीब तबकों के लिए तमाम कल्याणकारी कार्यक्रम चलाये जा रहें हैं जिनका खर्चा अमीर वर्ग पर टैक्स लगाकर वसूल किया जाता है । इस लेख में पूरे समाज की मृत्यु दर सुधरने की चर्चा तो है, पर यह नहीं बताया गया कि सामाजिक स्वास्थ्य सुविधाओं का खर्चा किस वर्ग ने उठाया । पूंजीपति वर्ग कभी नहीं चाहता कि गरीबों को मारकर साफ़ कर दिया जाय, यह तो कुछ पागलों की सोच है जो दोनों खेमों में मिल जाएंगे । मार्क्स ने पूंजी में यह स्पष्ट कर दिया था कि पूंजीवाद का विकास तभी संभव है जब श्रम बेचने के लिए गरीब मजबूर रहें । बिहार, झारखण्ड, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश का पूर्वांचल, आदि भारत के कई इलाके ऐसे हैं जिन्हें जानबूझकर अल्प-विकसित रखा गया है, ताकि पूंजीपतियों को सस्ता श्रम मिलता रहे । जापान में श्रम मँहगा हो गया तो वहां की पूंजी पूर्वी एशिया के दूसरे देशों में पलायन करने लगी । पूंजी का कोई देश और कोई जाति नहीं होती : उसे केवल मुनाफा चाहिए, चाहे वह जहां और जिस तरीके से मिले । उस मुनाफे को सही तरीके से समाज के संतुलित विकास और जनकल्याण में लगाया जाय, यह कल्याणकारी-पूंजीवाद का लक्ष्य है । तब रही पूंजीवादी लूट-खसोट की बात , तो यह उसका मूल स्वभाव है । पूंजी से पूंजी नहीं बनती , श्रम के लूट से अतिरिक्त पूंजी बनती है । लेबर थ्योरी ऑफ़ वैल्यू मार्क्स की महान खोज है । किन्तु श्रम करने के लिए मनुष्य को मजबूर नहीं किया जाय तो कितने लोग हैं जो मुफ्त में बुनियादी जरूरतों के पूरा होने पर श्रम करना पसंद करेंगे ? मानव स्वभाव में अन्तर्निहित इस बुनियादी अंतर्विरोध को मार्क्स ने अनदेखा किया , केवल आर्थिक मामले में द्वंदवाद को लागू किया ।

भारत के कम्युनिस्ट सोवियत संघ के पतन से कुछ भी सीख नहीं ले सके, इसलिए राजनीति में हाशिये पर चले गए । ये मिट जाएंगे, पर सुधरेंगे नहीं, क्योंकि मूर्खों को ईश्वर भी नहीं सुधार सकता । दास कापिताल की भूमिका में मार्क्स ने लिखा था कि आदमी को सुधारा जा सकता है यह एक रोमान्टिक विचार है , क्योंकि आदमी सुधरे इसके लिए दो शर्ते आवश्यक हैं : पहली शर्त यह कि सामाजिक वातावरण सहयोग करे (जिसके लिए समाजवादी समाज-व्यवस्था बनाने पर मार्क्स ने बल दिया), और दूसरी शर्त यह कि आदमी खुद सुधरना चाहे । ये कम्युनिस्ट लोग सुधरना ही नहीं चाहते ! योग वाशिष्ठ में वशिष्ठ ऋषि ने राम जी को बारम्बार कहा कि प्रवचन से कोई नहीं सुधरता, फिर भी वे प्रवचन देते हैं क्योंकि राम जी का गुरु होने के नाते यह उनका कर्तव्य है । आदमी तभी सुधरना चाहता है जब वह सुधरने के लये मजबूर हो जाय , कोई और रास्ता नहीं पाता ! सीपीआई और सीपीएम के नेताओं के लिए व्यक्तिगत समाजवाद तो आ गया, शेष समाज की उन्हें चिंता नहीं है । जो ईमानदार कम्युनिस्ट बचे हैं, वे या तो क्षुब्ध होकर घर बैठ गए हैं या नक्सल बन गए हैं , लेकिन ये नक्सल नहीं जानते की अमीरों को छ इंच छोटा करने से गरीबों की बदहाली दूर नहीं हो सकती ।

शिक्षा, जनजागरण और जन-आंदोलनों के माध्यम से पूंजीवादी राज्य को अधिकाधिक कल्याणकारी और लोकतांत्रिक बनाया जाय , कानूनों को सुधारा जाय और लागू किया जाय, केजरीवाल जैसे बहुरूपिये जन-आंदोलनों को हाईजैक न कर सकें , और विकास की गति हर प्रकार से तेज की जाय, इनकी आवश्यकता नक्सलों के भेजे में नहीं घुसती । बन्दूक की नाल से जो क्रान्ति निकलती है वह दरअसल भ्रान्ति होती है । चीन खुद पूंजीवादी अर्थशास्त्र को अपना चुका है, लेकिन भारत में नक्सलों को प्रोत्साहित कर रहा है, ताकि भारत के खनिज क्षेत्रों की लूट भारतीय पूंजीपति न कर सकें और सस्ते में चीन हमारे खनिज साधन लूट सकें और भारत उनके तैयार माल का केवल बाज़ार बनकर रह जाय । कांग्रेस, बीजेपी और नक्सलों में चीन के दलाल भरे पड़े हैं जो हमारी खनिज सम्पदा चीन को दे रहे हैं, भारत का भविष्य क्या होगा यह नहीं सोचते । हमारे पूंजीपति भी विरोध नहीं करते, क्योंकि चीन उन्हें सस्ती दरों पर क़र्ज़ देकर खुश कर देता है ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

साम्प्रदायिक हिंसा बिल

मजहबी भेद-भाव बढ़ाने वाला यह साम्प्रदायिक हिंसा बिल अगर पास हो गया तो इसका गलत इस्तेमाल करने वाले कुछ सिरफिरे अल्प-संख्यकों में भी मिल जायेंगे, क्योंकि हर कौम में कुछ पागल होते हैं। फिर उसकी प्रतिक्रया होगी और दंगा भड़केगा, और तमाम अल्प-संख्यक कांग्रेस के पीछे लामबंद होंगे । हर मुद्दे पर पिछड़ने के बाद अब कांग्रेस को ऐसे ही हथकंडे वोट पाने के उपाय दिखते हैं । कांग्रेस यह नहीं सोचती कि बीजेपी को आज 25 % हिन्दू ही वोट देते हैं, लेकिन मजहबी भेद-भाव बढ़ाने वाले बिल और इसका गलत इस्तेमाल करके दंगा भड़काने पर जितने अल्प-संख्यक वोट कांग्रेस में बढ़ेंगे उससे कई गुणा अधिक हिन्दू वोट बीजेपी के खाते में जायेंगे । राजीव गांधी ने बाबरी मस्जिद का ताला न खुलवाया होता तो बीजेपी को बढ़ने का मौका नहीं मिलता । ऐसी ही मूर्खता कांग्रेस फिर कर रही है । विनाश काले विपरीत बुद्धि ! सकारात्मक और रचनात्मक विकासवादी मुद्दों के स्थान पर अब कांग्रेस को सम्प्रदायवाद, भाषाई आधार को दरकिनार कर राज्यों को तोड़ना , समलैंगिकता को सामाजिक "सम्मान" दिलाना , जैसे मुद्दे ही नज़र आते हैं । हिंसा रोकने के लिए वर्त्तमान कानूनों में क्या खामी है ? खामी तो राजनैतिक इच्छाशक्ति में हैं । बीजेपी न तो केंद्र में है और न यूपी में , फिर मुज़फ्फरनगर के दंगों को समय पर क्यों नहीं रोका जा सका ? मुसलमानों में अलग कौम की भावना भड़काकर बतौर वोट बैंक उसका इस्तेमाल करना कांग्रेस का उद्देश्य है । लेकिन मुसलमानों में अलग कौम की भावना बढ़ने से मुसलमानों को नुकसान ही है । मुसलमानों में रोजगार , शिक्षा , निजी उद्योग-धंधे खोलने का हुनर , आदि, तेजी से बढे और देश कि मुख्य धारा से वे अधिकाधिक जुड़े तो हिंदुओं से अलगाव और तनाव घटेगा और दंगों की सम्भावना घटेगी । लेकिन तब कांग्रेस को क्या लाभ होगा ? जवाहरलाल ने 1937 में संयुक्त प्रांत (यू पी) में जिन्ना को धोखा नहीं दिया होता तो पाकिस्तान नहीं बनता , 40 लाख बेक़सूर लोग लोग दंगों में मारे नहीं जाते और सभी लोग अमन-चैन से रहते । कांग्रेस ने सदा मुल्क , मजहब , कौम और दिलों को तोड़ने का ही काम किया है । उससे अच्छे कामों की उम्मीद नहीं करनी चाहिए । गांधी जी कांग्रेस की नस-नस पहचानते थे , इसीलिये कांग्रेस के सदस्य नहीं रहे , इससे बाहर रहकर ही इसका इस्तेमाल उन्होंने देशहित में किया । उनके बाद कांग्रेस फिर अपनी पुरानी चाल पर लौट गयी : पहले स्वराज्य के बदले सम्राट के कसीदे पढ़कर अंग्रेज़ों की जूठन मांगती थी , और अब एक लुटेरे परिवार के तलवे चाटने को ही राष्ट्रसेवा समझती है ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

समलैंगिकता से सम्बंधित क़ानून

हिन्दुस्तान में कुछ अत्यंत प्रभावशाली नेता और उनके पिछलग्गू हैं जो अदालत और संसद पर दवाब डालकर समलैंगिकता से सम्बंधित क़ानून बदलवाना चाहते हैं । एक प्रभावशाली युवा नेता तो स्वयं समलैंगिक हैं, और इसी कारण शादी भी नहीं कर रहा है । उसी को जेल जाने से बचाने के लिए इतना हाय-तौबा मचाया जा रहा है । समलैंगिकता को भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा बताया जा रहा है ! इनके पिछलग्गू धर्मगुरु तो यहाँ तक कह रहे हैं कि हिन्दू देवता समलैंगिक होते हैं !! जीने का "फाइन आर्ट" पढ़ाने वालों को क्या यह याद दिलाना पड़ेगा कि सेक्स मनोरंजन का साधन नहीं बल्कि प्रजाति के संरक्षण का प्राकृतिक विधान है । जीवविज्ञान की कसौटी पर समलैंगिकता महज अप्राकृतिक विकार है जिसका शरीर के विज्ञान से कोई सम्बन्ध नहीं हैं । अतः समलैंगिकता केवल एक मनोविकार है । IPC की धारा ३७७ में संशोधन करके सहमति के आधार पर समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटाकर मनोविकार (पागलपन) की श्रेणी में डाला जाना चाहिए । जिन्हे पागलखाने में रहना चाहिए उनमे से कुछ लोग संसद में घुस गए हैं और क़ानून में फेरबदल की बात करते हैं । इस विवाद का एक और पहलू है : समलैंगिकता को हिन्दू संस्कृति से जोड़ने वालों की असली मन्शा क्या यह नहीं है की तमाम हिन्दू समलैंगिक, हिजड़े और निःसंतान हो जाए ताकि हिंदुओं का खात्मा हो जाए ? तीसरा पहलू है : आपसी सहमति के आधार पर अप्राकृतिक और अवैज्ञानिक अपराध करने से वह अपराध क्या अपराध नहीं रहता ? तब आत्महत्या अपराध क्यों है ? क्योंकि शरीर व्यक्तिगत सम्पति नहीं है, इसपर परिवार और समुदाय का भी अधिकार है जिसने पाल-पोसकर बड़ा किया । ज्योतिष शास्त्र के प्राचीन ग्रंथों में काम के भाव से पाप-ग्रहों का सम्बन्ध और कुछ विशेष योग बनने पर मनुष्य समलैंगिक हो जाता है । ज्योतिष वेद का अंग है । अतः हिन्दू धर्म और संस्कृति को समलैंगिकता का समर्थक बताने वाले न केवल मूर्ख हैं, बल्कि झूठे भी हैं । अकारण कोई झूठ नहीं बोलता । समलैंगिकता का समर्थन करने वाले स्वयं समलैंगिक हैं । कल कोई हत्यारों, बलात्कारियों, डाकुओं के मानवाधिकारों की बात करने लगे तो हमें क्या जवाब देना चाहिए ? कर्मेन्द्रियों में दो हैं : उपस्थ(लिंग) और गुदा। इनमे से पहला बहके तो मनुष्य हेटेरो-सेक्स-मैनिएक बन जाता है, और गुदा बहके तो समलैंगिक बनता है । यह एक मानसिक रोग है , जिसका उपचार है यम-नियम-आसान-प्राणायाम, सात्विक आहार-विहार-विचार, एवं गृह-शान्ति आदि , न कि क़ानून बनाकर इस मनोविकार को प्रोत्साहन देना !!! भारतीय संकृति न तो समलैंगिकता को उचित मानती है और न विसमलैंगिक वासना को । भारतीय संस्कृति में ब्रह्मचर्य जीवन का पहला चरण है, यह विषम / सम लैंगिक शिश्नदेवों को कौन सिखाये (ऋग्वेद में ऐसे लोगों को "शिश्नदेवा" कहा गया है) ?
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

ईमानदार प्रधानमन्त्री का दुखनामा

(जब अन्ना और रामदेव पर सरकार टूट पड़ी थी तो दैनिक जागरण के पाठकनामा में यह छपने के लिए भेजा था, लेकिन सम्पादक ने छापने का साहस नहीं किया)
कुछ साल पहले एक मुख्यमन्त्री हुआ करते थे जिन्हें अपने करीबी मन्त्रियों पर भी इस कदर अविश्वास था कि पूरे राज्य का चारा चरकर जेल जाने की नौबत आई तो पत्नी के सिवा गद्दी पर बैठने लायक किसी को नहीं समझा। मन्त्रियों से कहते थे – लाल बत्ती वाली कार लो, मुफ्त का तेल लो, घूमो-फिरो, लेकिन याद रखना – पूरा राज्य मेरा चारागाह है, कहीं भी मुँह मारोगे तो मुँह की खाओगे। आश्चर्य नहीं कि उनके लम्बे शासनकाल में किसी भी अन्य मन्त्री पर न तो कदाचार का आरोप लगा और न सदाचार का। कोई भी आचार करने की छूट ही नहीं थी! लेकिन यही मुख्यमन्त्री महोदय केन्द्र में मन्त्री बने तो अपने ही नियम को पलट दिया और वहाँ के मैडम को भी ट्रेण्ड कर दिया। प्रधानमन्त्री के लिये नया नियम बना – प्रधानमन्त्री का रुतबा लो, घूमो-फिरो, स्पीच दो, लेकिन याद रखना – प्रधानमन्त्री को ईमानदार बने रहना है, ताकि जहाँ जिनकी पारिवारिक जागीर है वहाँ वे बेखौफ चरते रहें। करते भी क्या, उनके लिये कोई चारा छोडा नहीं गया जो चरते। लोक ने तो प्रधानमन्त्री बनाया नहीं था जो लोक के तन्त्र की चिन्ता करते, जिसने प्रधानमन्त्री बनाया केवल उसकी सुनते हैं। आश्चर्य नहीं कि उनके शासनकाल में किसी भी मन्त्री या सन्तरी पर कैसा भी आरोप लगा हो, प्रधानमन्त्री की ओर से समय पर कोई कार्यवाई नहीं की गई। इसी शर्त पर तो प्रधानमन्त्री बने थे! लेकिन जब भ्रष्टाचार विरोधियों का सत्याग्रह हो तब इनकी बहादुरी देखते ही बनती है। बिचारे पर ईमानदारी थोप दी गई है, ढो रहे हैं!!!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

लोकपाल

लोकपाल भी लोक से ही आते हैं, परलोक से नहीं। जब लोक से आने वाले संसद, प्रधान मंत्री और तमाम मंत्री-सन्तरी भ्रष्टाचार का कुछ नहीं उखाड़ पाये तो भला हाड़-मांस का बना लोकपाल क्या उखाड़ लेगा? अन्ना यह नहीं समझ पा रहे हैं कि बिना अमूल-चूल सांस्कृतिक क्रान्ति के भ्रष्टाचार मिटने वाला नहीं। जनता चाहती है कि नेता ईमानदार रहें, लेकिन जनता में भी ऐसे कितने लोग हैं जो सत्ता मिलने पर भी ईमानदार बने रहेंगे? बचपन से कमर्शियल शिक्षा पद्धति और कामुकता भरी सिनेमा-टीवी कि संस्कृति पर पलने वालों से यह आशा करना मूर्खता है कि वे भ्रष्टाचार मिटा देंगे। लेकिन अमेरिका से लोकतंत्र की एक मिसाल तो हैम सीख सकते हैं : सभी राजनैतिक दलों में हाई कमान कि तानाशाही प्रणाली के स्थान पर आम सदस्यों के मतदान द्वारा समस्त महत्वपूर्ण फैसले और उम्मीदवारों का चयन होने लगे तो परिवारवाद, भाई-भतीजावाद, आदि पर कुछ तो अंकुश लगेगा, और मुट्ठी भर लोगों द्वारा देश को लूटने कि प्रणाली के स्थान पर अमेरिका कि तरह एक व्यापक इलीट समुदाय द्वारा अधिक पारदर्शी और वैधानिक तरीके से देश को लूटने कि प्रणाली विकसित हो सकेगी। कलियुग में लूट-खसोट को पूरी तरह बंद करना सम्भव नहीं। भविष्य-पुराण में व्यास जी ने लिख दिया था कि सतयुग का प्रधान लक्षण है भगवत-चिंतन, त्रेतायुग का प्रधान लक्षण है यज्ञ, द्वापरयुग का प्रधान लक्षण है युद्ध, और कलियुग का प्रधान लक्षण है चोरी। राजा चोर, प्रजा चोर, नहीं बहुत तो थोरम-थोर। (-Dec 13, 2013)

कर्नाटक में कोंग्रेसी राज्यपाल हंसराज भारद्वाज और कांग्रेस द्वारा बहाल लोकपाल ने यदुरप्पा पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर जेल भिजवा दिया और मुख्यमंत्री पद से भी हटवा दिया, लेकिन बाद में अदालत ने येदुरप्पा को बाइज्जत बरी कर दिया क्योंकि लोकपाल के आरोप केवल संदेह पर आधारित थे, एक भी प्रमाण नहीं थे ! तब कांग्रेस का तर्क था कि बीजेपी की सरकार सबूत जुटाने नहीं देती । अब वहां कांग्रेस की सरकार है, यदि येदुरप्पा ने गोलमाल किया था तो कांग्रेस सरकार सबूत क्यों नहीं दिखाती ? लेकिन बिना सबूत अब भी कांग्रेस और ĀP के समर्थक येदुरपा और बीजेपी को भ्रष्ट कह रहें हैं ! यह लोकपाल द्वारा गोलमाल का एक साक्ष्य है, जब लोकपाल ने लोकतान्त्रिक सरकार को बिना सबूत बर्खास्त करवाया !
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Sonia Gandhi's False Affidavit : Evidences

Unable to digest the recent humiliation in polls, Congress ahs opened a website for attacking BJP leaders on account of typing errors by assissstants of politicians in filling up of their forms. The chief architect of these attacks is Mrs Sonia Gandhi who has received only a primary school education, but her affidavit states she has two glorious degrees from European institutions. Here is the eaxt wording of her affidavit which anyone can see at the official website of Election Commission Of India :

"(i) Three years course in foreign languages (English & French) completed in 1964 at Istituto Santa Teresa, Turin (Italy).

(ii) Certificate in English from Lennox Cook School, Cambridge (UK) completed in 1965.”

Mrs Sonia Gandhi hides that Istituto Santa Teresa has only a Nursery School (Scula dell'Infanzia) and a Primary School (Scuola Primaria), and does not offer any three year course in foreign languages, which can be checked from its website http://www.steresachieri.it/ *(you can use Google's translation to read the italian page in English). Other webpages at this school's website are not schools or colleges, but organizations of Catgholic Church to educate children and parents, such as AGeSC is National Association of Parents of Catholic Schools which helps parents in educating their children better. Similarly, CFP is an external catholic organization to which this primary school is affiliated. Organi Collegiali is also not a school.

Similarly, Lennox Cook School, now gone, was an independent tuition class unrelated to Cambridge University or to any recognized institution. The letter of spokesperson of Cambridge University can be read in full at :

http://ramanan50.wordpress.com/2013/07/24/sonia-gandhi-education-falsification-documents/

But unfortunately the website containing the image of these documents have been closed down (http://hinduawaken.wordpress.com/). But there is one official website of United Kingdom which cronies of Mrs Sonia Gandhi can never close down : National Archive of UK which displays official records. Open the following webpage to find out the official description of Lennox Cook School:

http://discovery.nationalarchives.gov.uk/SearchUI/details?Uri=C6417386

The reference number of this institute is : ED 197 / 17 / 2

At right hand side of this webpage, one will find the clues of this code. "ED 197" is the folder name of "Ministry of Education and Department of Education and Science : HM Inspectorate :Reports on Independent Further Education Institutions"

Next folder name is "ENGLISH COUNTIES".

Next folder name is "Cambridgeshire", the name of county in which Lennox Cook School was located.

Next folder name is coded as "ED 197 / 17" is the name of "Reports on Independent Further Education Institutions". This folder has two sub-folders because there are only two independent institutions under it : first is The Jarrett School of English, Cambridge, and second is Lennox Cook School of English, Cambridge. The code number of these two independent institutions are, respectively, ED 197 / 17 / 1 and ED 197 / 17 / 2.

Therefore, Govt of UK states that Lennox Cook School is not affiliated to any university but is (was) an independent educational institute. On internet, the reference to Lennox Cook School dates to about 1982, when Sonia Gandhi was settling in the power centre of India. The question arises : was this institute closed down with bribe paid by Mrs Sonia Gandhi so that her credentials as a highly educated alumni of the prestigious Cambridge University should not be discovered ? This suspicion arises because the website containing image of letters from Cambridge University has also vanished ! And the petition filed by Dr Subramaniam Swami in Supreme Court showing these letters of India was rejected on the ground that Sonia Gandhi did not hide any information about her education !! Our Supreme Court frees Laloo Yadav and quashes cases by CBI against Mayavati in spite of concrete evidences of corruption, quashes Bofors Case, does not allow any legal proceeding against Mrs Sonia Gandhi in spite of concrete proof of false affidavit by her.

Mrs Sonia Gandhi's affidavit clearly provides false certificates about her which is a deliberate fraud.

But her spoons are spreading lies against Late Gopinath Munde who held a genuine degree from one of India's best law colleges.

Now, here the case against Smt Smriti Irani : she joined politics in 2003, and filed her first affidativat as a candidate in 2004 in which a wrong statement was made (cf. http://eci.nic.in/GE2004_Affidavits/NCT%20%20DELHI/5/Smritiirani/Smritiirani_sc5.html) :

"B.A. 1996 Delhi University (School of Correspondence)"

Either she herself or her aide was confused by the title of that entry which was :

"(Name of School / University and the year in which the course was completed should also be given)"

Although she had completed only Part - 1, the course had to complete in 1996. Hence, it seems the person who filled in this form was confused due to ignorance or lack of experience. But later when she learnt these things, she corrected the affidavit to the following statement as in 2014 affidavit whioch can be seen at http://affidavitarchive.nic.in/DynamicAffidavitDisplay/CANDIDATEAFFIDAVIT.aspx?YEARID=May-2014+%28+GEN+%29&AC_No=37&st_code=S24&constType=PC :

"Bachelor of Commerce Part - 1, School of open Learning (Correspondence), University of Delhi -1994"

In my view, 2004 affidavit was not a case of deliberate fraud but a mistake due to ignorance, and this was caused by some assistant, because why a B.Com student would change "B.Com." to "B.A." : after all, both are equivalent degrees and Smriti would not gain anything by changing B.Com to BA. It was caused by some assistant whom Smriti had called for help. But my personal experience is that helpers should not be allowed to fill forms, mostly they err due to either hurry or lack of concern.

But if someone thinks Smt Smriti Irani committed a deliberate fraud, who prevents such a person from filing a legal petition against her in a proper court of law ? Even if Smt Smriti Irani made the mistake deliberately and fraudulently, does it exonerate Mrs Sonia Gandhi whose case is 100% deliberate fraud ?? Why our Supreme Court cannot chastize the mighty ? The very purpose of Law is to protect the weak against the mighty. If out courts cannot act against the mighty, there is no need of such courts. We must agitate against such decisions, even at the risk of being sent to jail, because we should see whether our courts send us to jails merely because we demand justice against frauds committed by the mighty Super-politician of India, Smt Sonia Gandhi ?
-June 4, 2014.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Gas Price Hike (2014)

Congress (INC) govt had decided to double natural gas prices from about 4 to nearly 8 dollars per Mmbtu (million British thermal units) from July 1, 2014, but sensing its impending defeat in elections, Congress decided to implement this decision retrospectively from April 1, 2014, but could not do so due to elections. Why Congress was in a hurry to implement this decision from back date ? Now, the opponents of BJP are spreading rumours that NDA is going to please Mukesh Ambani by raising gas prices, although the new govt has not taken any decision till now, and is expected to decide by mid-June. The decision to raise gas price was based on the recommendations of a panel headed by C Rangarajan. It is unfortunate that BJP is being blamed for a decision by Congress, and BJP is also being charged of having corrupt relations with Ambanis for raising gas prices. Anti-BJP rumour mongers have reached the nadir of morality.

Check some facts which will show that $4 is not the international rate, and only major gas producers like USA have cheap gas. See :

http://www.bp.com/en/global/corporate/about-bp/energy-economics/statistical-review-of-world-energy-2013/review-by-energy-type/natural-gas/natural-gas-prices.html

I do not know what should be actual gas price in India because I have not read and checked Rangarajan report, but international prices in those countries which import gas are very high, and even the proposed $8 is a lower than what is prevailing in gas importing nations.

But frauds like Kejriwal cheated the electorate of Delhi by promising to lower their electricity bill to half, and when they found it was impossible, they resigned without fulfilling their electoral promises. Now, same frauds are instigating the public to demand for cheap gas which will result in huge subsidies and raise deficits, ultimately aiding inflation. Hence, lower gas prices are not going to help check inflation. Cheap politics harms the nation, and Kejriwal is doing cheap politics.

-June 6, 2014.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

मजबूत केंद्र सरकार !

केजरीवाल ने सिद्धांत के नाम पर जमानत नहीं लेकर जेल जाने की नौटंकी की , उसकी तुलना ĀP के कार्यकर्ता अब यशवंत सिन्हा की जेल जाने से कर रहे हैं (यद्यपि सिन्हा जी ने "सिद्धांत" की दुहाई नहीं दी है, अतः उनका तथाकथित "ड्रामा" केजरीवाल के झूठे ड्रामे की तरह नहीं है) ।

पिटे हुए नेताओं को नौटंकी करनी पड़ती है लाइमलाइट में रहने के लिए ।मन्त्रीमंडल में जगह नहीं मिलने पर सिन्हा जी उछलकूद दिखा रहे हैं ध्यान आकर्षित करने के लिए । बिहारी बाबू भी नाराज चल रहे हैं ।

नौटंकी का फ़ायदा मिलता दिख रहा है । आज टीवी में चर्चा की गयी है कि सिन्हा जी को राज्यपाल बनाये जाने पर विचार किया जा रहा है ।

लेकिन राज्यपाल या मन्त्री बनने से कोई शक्ति नहीं मिलने वाली । कुछ लोग भूल रहे हैं कि इस चुनाव का मुख्य नारा था "अबकी बार मोदी सरकार", इसका अर्थ यह हुआ कि "अबकी बार बीजेपी की सरकार" नहीं है । आज मोदी जी ने 71 सचिव स्तर के नौकरशाहों की बैठक बुलाई जिसमे एक भी मन्त्री नहीं थे । इन अफसरों को कहा गया कि विकास कार्य में तेजी लाने के लिए निर्णयों में अनावश्यक देरी नहीं होनी चाहिए , अतः सचिवों को शीघ्र निर्णय लेने के लिए अधिक शक्ति दी जा रही है , और यदि वे महसूस करें कि मन्त्री देरी कर रहें हैं तो सीधे प्रधान मन्त्री को वे शिकायत कर सकते हैं !

ऐसा महत्त्वपूर्ण निर्णय बिना कैबिनेट की स्वीकृति के ! कैबिनेट सिस्टम गया चूल्हे में ! "अबकी बार मोदी सरकार" ! यह अमेरिका की राष्ट्रपति प्रणाली के तुल्य है । चूँकि जवाबदेही मोदी के ऊपर है और करोड़ों लोगों ने भी मोदी के नाम पर वोट दिया है , अतः ऐसा निर्णय लेने में बुराई भी नहीं है । गए दिन मनमोहन सरकार के, जब प्रधान मन्त्री से पूछे बिना मन्त्री निर्णय लिया करते थे । अब तो सचिव भी मन्त्री को अंगूठा दिखा सकते हैं ! इस निर्णय का एक बहुत ही अच्छा पक्ष है : विकास कार्य सम्बन्धी निर्णयों में अब कोई भी बहाना काम नहीं करेगा ! मन्त्री ने अड़ंगा डाला तो प्रधान मन्त्री को शिकायत क्यों नहीं की ? यही है गुजरात मॉडल , जिससे आडवाणी और उनके चेले काँप रहे थे ।

किसी भी जीवित या कृत्रिम "सिस्टम" (प्रणाली) के कार्य करने के लिए आवश्यक है कि अंतिम निर्णय लेने का अधिकार एक बिंदु पर सीमित हो, सत्ता के अनेक केन्द्र न हों । भारत में जवाहरलाल और इंदिरा गांधी के सिवा ऐसी सत्ता किसी के पास नहीं रही (राजीव गांधी के पास भी सत्ता थी, लेकिन उसका प्रयोग ठीक से करना सीख पाता उससे पहले ही चल बसा । सोनया गांधी के पास UPA-२ में सत्ता थी, लेकिन स्कैंडलों के सिवा किसी अन्य कार्य में रूचि ही नहीं थी । कैम्ब्रिज में वह क्या-क्या करती थी इसपर अभी तक पर्दा कहाँ उठा है !) । सर्वोच्च सत्ता अधिनायकवादी तब बनती है जब लोकतांत्रिक संस्थाओं और जनभावना का अनादर करके सत्ता का दुरुपयोग किया जाए, जैस कि नेहरू और इंदिरा जी ने अनेकों बार किया । किन्तु मोदी जी में एक खूबी तो है : नेहरू और इंदिरा की तरह ये वंशवाद तो चला नहीं सकते हैं । अतः सत्ता का दुरुपयोग यदि करेंगे भी तो किसके लिए ? अपनी विचारधारा को मजबूती से स्थापित करने के लिए । यही कारण है कि RSS ने इन्हें छूट दी है मन्त्रीमण्डल और नौकरशाही पर लगाम कसने के लिए ।

-June 5, 2014.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

विकासपुरूष !

नीतीश राज में तीन ही चीजों का विकास हुआ है : सड़क, शराब और शवाब । दिग्विजय सिंह की तरह लालू जी को तवायफों का नाच देखने का शौक था (टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने मुज़फ़्फ़पुर के तवायफों का विस्तृत इंटरव्यू १९९१ में छापा था जिसमें तवायफों ने कहा था की वे लालू जी को ही वोट देंगे क्योंकि वे तवायफों को बहुत मानते हैं और खूब मुजरा देखते हैं), लेकिन नीतीश जी तो लालू जी से बहुत अधिक ऊँची चीज हैं, शंका हो तो ललन सिंह का हाल जानने का प्रयास कीजिए ! सड़क, शराब और शवाब के तीन "स" में से सड़क का विकास तो वाजपेयी जी ने तेज करवाया था, यद्यपि केंद्रीय फण्ड से होने वाले सड़क-विकास का श्रेय भी विकास-पुरुष ही लेते रहे हैं । हमारी मीडिया भी यह नहीं देखती कि विकास पुरुष के पूरे कार्यकाल में न तो डैम या नहर बने, न ही कल-कारखाने खुले, केवल कागज़ पर ही विकास होता रहा जिसे मीडिया ने खूब बढ़-चढ़कर छापा क्योंकि मीडिया को लालू से चिढ थी । लालू जी ने ताड़ी का विकास किया तो विकास-पुरुष के राज में हर पंचायत में कानूनी और गैर-कानूनी दारू की भट्ठियां खुल गयीं । तीसरे "स" का हाल जानना हो तो ललन सिंह के बारे में राबड़ी देवी का बयान पढ़िए, या इंटरनेट पर बिहार में तेजी से बढ़ते हुए सेक्स कारोबार का हाल देखिये । नरेंद्र मोदी ने सरकार को होने वाले राजस्व लाभ की चिंता किये बगैर गुजरात में दारू की बिक्री बंद करा दी तो वहां के दारूबाज अब दामण , दिउ और मुम्बई जाकर दारू पीते हैं और मोदी को जी भर कर गरियाते हैं। बिहार के लोग यदि बाहर जाकर न कमायें और बाहर से पैसा न भेजें तो बिहार के अधिकांश घरों में चूल्हा नहीं जलेगा, लेकिन विकास-पुरुष को चिलम पीकर शेखी बघारने में शर्म नहीं आती । राज ठाकरे ने क्या गलत कहा था की बिहार-यूपी के नेताओं को अपने राज्यों का विकास करना चाहिए ताकि वहां के लोग मुंबई में भीड़ न बढ़ायें । लालू यादव, कांग्रेस और नीतीश कुमार अब बिहार में साझा मोर्चा बना रहे हैं बिहार का "विकास" करने के लिए ! चिलमबाज विकासपुरूष से बीजेपी के सु-शील सुमो पहलवान भी बिहार का "विकास" करने में कुछ कम नहीं , क्योंकि बिहार के विकास का ४५% श्रेय नीतीश के भूतपूर्व पार्टनर को भी जाता है ! ये सब के सब कट्टर जातिवादी नेता हैं । इन सबमें सबसे खतरनाक सूमो हैं जिनका अपना जनाधार नहीं है, जिस कारण हमेशा जोड़-तोड़ और अवसरवाद की राजनीति में व्यस्त रहते हैं, क्योंकि उनकी पालिसी है कि जो जीते वही सिकंदर ! सुमो कल तक नमो के विरोधी थे, आज एक नंबर के समर्थक बने हुए हैं !

कलियुग में मूर्खों को साफ़ करना नामुमकिन है, खासकर जब वे एकजुट हो जाएँ, जैसा कि बिहार में हो रहा है । बिहार में बीजेपी २९.४%, LJP ६., BLSP ३.० , NDA = 38.8 % वोट शेयर , जबकि RJD 20.1 %, JDU 15.8 %, INC 8.4 % = 44.3 %, इसमें एनसीपी 1.2 % , JMM 0.5 , आदि जोड़े तो NDA की तुलना में JDU को मिलाकर UPA काफी आगे है । बिहार के भूमिहारों और ब्राह्मणों में केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह न मिलने का भी कुछ आक्रोश है । अतः मोदी जी को बिहार में अभी कई पापड बेलने हैं ।
-June 4, 2014.

FDI

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Few months before Mr Modi came to power, Japan was overtaken by India in GNP based on PPP and then Congress was in power. India is already the third economic power in the world now, after USA and China, thanks to past 23 years of economic development due to Narasimha Rao, Manmohan Singh and Vajpeyi. Even during past 10 years, India's growth rate was much more than that of developed nations. It was only in UPA-2 when Congress was not dependent on Left for survival that the mafia led by Sonia started bleeding this nation economically. Had Manmohan Singh been allowed to work properly, India would have escaped the current economic crisis left over by Congress. Japan was overtaken in spite of India's economic crisis because Japan faced a worse crisis. Today, China produces 50% of world's industrial goods. USA is a superpower merely due to its military which is funded by its artificial dollar which is forcibly made world currency. India has to buy dollars by selling its products at 20% of market value, but USA buys our goods merely by printing rubbish on paper and calling it "dollar". This type of loot will not continue forever. China prospered because it allowed 100% FDI, but kept its politics and military firmly outside foreign influence. India did the opposite because its govt was unpatriotic. Chinese are no less corrupt than Sonia's team, but they are patriots. FDI enslaves a weak nation, but helps a strong and patriotic nation. Today, USA imports much more FDI than it exports. Did it make USA weaker?
-June 2, 2014.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व को भेजे गये सुझाव :

Opposition In Parliament

बीजेपी के लिये तृणमूल कांग्रेस साँपनाथ है तो सोनया की कांग्रेस नागनाथ । लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस ही बीजेपी के लिये अधिक घातक है । कांग्रेस-मुक्त-भारत के निर्माण के लिए अच्छा रहेगा कि जयललिता को सलाह दी जाय कि वह आधिकारिक विपक्षी दल के लिए तृणमूल कांग्रेस का साथ दे ताकि कांग्रेस को कहीं भी पाँव रखने के लिए जगह न मिले । दूसरा लाभ यह होगा कि तृणमूल कांग्रेस जितना अधिक बीजेपी पर हमला करेगी ,बंगाल में बीजेपी प्रमुख विपक्षी दल के रूप में तेजी से उभरेगी ।
-June 3, 2014.
This post was sent to all central leaders of BJP, and BJP has decided to deprive Congress (INC) of playing the role of opposition as far as possible under existing laws. INC must be made main opposition party in Loka Sabha as per existing regulations, but other seats traditionally awarded to opposition will go to other opposition parties.
-June 6, 2014.

Age Limit For Ministers - 2

१५ मई २०१४ को मैंने बीजेपी के समस्त केंद्रीय नेताओं को एक सन्देश भेजा था जिसमे अंतिम बिंदु यह था कि हिंदूवादी पार्टी होने के नाते बीजेपी का कर्तव्य बनता है कि ७५ साल से अधिक उम्र के नेताओं को राजनीति से संन्यास लेने के किये बाध्य किया जाय (उक्त सन्देश इसी वेबपेज पर मिल जाएगा)। इस बिंदु को लागू कर दिया गया है, क्योंकि ७५ साल से अधिक उम्र के जो भी व्यक्ति मंत्रिमंडल में शामिल होने की होड़ में थे वे सब के सब नरेंद्र मोदी जी का किसी न किसी कारण से विरोध कर रहे थे । जैसे कि आडवाणी जी और जोशी जी ।

८३ वर्ष का होने के कारण इस पेंच में डॉ सी पी ठाकुर भी फँस गये जिनपर मैंने कोई आरोप नहीं लगाया था । उनके फँसने का कारण था कि रामविलास पासवान के साथ मोर्चा बनने पर उन्होंने और बिहार बीजेपी के कुछ अन्य नेताओं ने खुलेआम बयानबाजी की थी , जिस कारण यह भुला दिया गया कि नरेंद्र मोदी जी का समर्थन करने के कारण नीतीश कुमार और आडवाणी गुट के दवाब के कारण सुशील मोदी के गुट ने बिहार बीजेपी के अध्यक्ष पद से डॉ सी पी ठाकुर को हटवाया था । मेरे सन्देश में एक बिंदु यह भी था कि बीजेपी में अनुशासन को लागू किया जाय । बिहार से भूमिहार और ब्राह्मणों को केन्द्रीय मंत्रिमंडल में इसी कारण जगह नहीं मिल सका, यद्यपि नरेंद्र मोदी जी का कहना है कि सबको साथ लिया जाएगा।

मेरे सन्देश में यह बिंदु भी था कि फ़ौज़ की समस्याओं को जानने वाले जनरल वी के सिंह जैसे लोगों को रक्षा मंत्रालय में रखा जाय । लेकिन उन्हें जानबूझकर रक्षा मंत्रालय से दूर किया गया है, ताकि वे रक्षा सामग्री की खरीद में हस्तक्षेप न कर सकें । पिछली सरकार से जनरल वी के सिंह के विवाद का असली कारण भी यही था ।

मेरे सन्देश में शिक्षा में मौलिक सुधार और मेरिटोक्रैसी को शिक्षा एवं रोजगार तथा प्रशासन में तरजीह दिए जाने की आवश्यकता पर भी बल दिया गया था । श्रीमती स्मृति ज़ुबिन ईरानी समझदार और अच्छी वक्ता है, लेकिन हल्ला मचाया जा रहा है कि शिक्षा सम्बन्धी जटिल समस्याओं की वे समझ नहीं रखती हैं , क्योंकि स्कूल के बाद पढ़ाई छोड़कर वे मॉडलिंग और अभिनयजगत में चली गयी थी । यह सही है कि खान मंत्री का खान में कार्य करने का अनुभव होना आवश्यक नहीं । यह नहीं भूलना चाहिए कि अत्यधिक शिक्षित विशेषज्ञों ने ही शिक्षा सहित अन्य मामलों में देश का बेड़ा गर्क कराया है । लीक से हटकर चलने वाला व्यक्ति ही शिक्षा में मौलिक सुधार कर सकता है । मानव संसाधन विकास मंत्रालय जैसा महत्वपूर्ण मंत्रालय उन्हें देने का असली कारण यह माना जाता है कि वे संघ परिवार के विचार से चलेंगी और आडवाणी जी या जोशी जी की तरह अड़ियलपना नहीं दिखाएंगी ,एवं संघ परिवार के विचारों को शिक्षाजगत में लागू करेंगी । ज़ुबिन ईरानी उनके पारसी पति का नाम है जिन्होंने बचपन की मित्र स्मृति (मल्होत्रा) जी से दूसरा विवाह किया ।
-May 28, 2014.

Age Limit For Ministers -1

(This message has been sent to all central leaders of BJP) :
केन्द्र सरकार कैसी बने, किसे कौन सा पद मिले, इसपर माथापच्ची चल रही है । जिन नेताओं ने चुनाव में बीजेपी की लुटिया डुबोने का पूरा प्रयास किया है, आज वे अपने लिए सरकार में महत्वपूर्ण भूमिका तलाश रहे हैं । मुरली मनोहर जोशी जी ने कानपुर में नरेंद्र मोदी जी का नाम हटाकर नारे लगवाये थे : देश के तीन धरोहर, अटल-आडवाणी-मुरली मनोहर । धरोहर की जगह तो म्यूजियम में होती है, मन्त्रिमण्डल में नहीं । जिस दिन बनारस में मतदान चल रहा था उस दिन भी जोशी जी मुंह बंद न रख सके और बीजेपी प्रवक्ता के बयान से हटकर चुनाव-चिन्ह के प्रदर्शन के प्रश्न पर अजय राय के समर्थन में बयान जारी कर दिया । यह दूसरी बात है कि जोशी जी अब बे-असर हो चुके हैं और उनके बयान का मतदाता पर असर नहीं पड़ा । बीजेपी के एक प्रान्तीय सचिव ने मुझसे कहा कि जोशी जी विद्वान हैं । अर्थात विद्वान की लथाड़ साहनी चाहिए । मैंने पूछा किस विषय के विद्वान हैं ? फिजिक्स के । पॉलिटिक्स के विद्वान रहते तो वाजपेयी जी के खाली स्थान को भरते और आज मोदी के बदले जोशी जी ही सर्वमान्य नेता रहते । ऐसे विद्वानों को मन्त्रिमण्डल में जगह मिली तो सरकार का सुचारू रूप से चलना दूभर हो जाएगा , क्योंकि कुछ महापुरुषों के मुंह पर लगाम नहीं है और वे पार्टी के अनुशासन में रहने को अपमान समझते हैं । जोशी जी को इस बात का भी ख्याल नहीं रहा कि कानपुर में मंच पर मोदी जी उनका पाँव नहीं छूते तो जोशी जी का जीतना संभव नहीं था क्योंकि उनके मोदी-विरोध के कारण मोदी-समर्थक वोटर उनसे छिटक रहे थे । लेकिन मोदी जी एक-एक सीट के लिए चिन्तित थे, अतः अपमान सहकर भी जोशी जी का पाँव छुआ ।

कांग्रेस के घोटालों के विरुद्ध बीजेपी कोई महत्वपूर्ण आन्दोलन नहीं छेड़ सकी जिस कारण अन्ना हज़ारे और रामदेव जैसे गैर-राजनैतिक लोगों को आन्दोलन में नेतृत्व लेने का मौक़ा मिला , जिसे बाद में कांग्रेस के पिट्ठू केजरीवाल ने हाइजैक किया । उस समय बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व नरेंद्र मोदी को आगे बढ़ने से रोकने के कार्यक्रम में व्यस्त था, कांग्रेस से लड़ने का समय उसके पास नहीं था । यदि आरएसएस हस्तक्षेप नहीं करती तो अभी तक ये लोग सड़क पर आपस में लड़ते रहते और कांग्रेस अपने मित्रों की सहायता से बाजी मार ले जाती ।

लेकिन पहले उनसे यह पूछा जाना चाहिए की करोड़ों हिन्दुओं का नाम मतदाता सूची से जान बूझ कर निकाला गया तो बीजेपी कान में तेल डालकर सोयी क्यों रही ? केवल महाराष्ट्र में ५० लाख से अधिक सही लोग वोटर लिस्ट से निकाले गए हैं । बनारस में लगभग ३ लाख हिन्दू ऐसे हैं । मेरे बूथ से २६४ सही वोटर गायब हैं ! प्रशासन ने एकाध मुसलामानों को भी वोटर लिस्ट से निकलवाया है ताकि प्रशासन पर सम्प्रदायवाद का आरोप न लगे । विरोधियों का नाम मतदाता सूची से निकलवाना पुरानी बीमारी है, लेकिन राजनैतिक दल अपने समर्थकों का नाम जुड़वाने के लिए समय पर प्रयास करती है । उत्तर प्रदेश में अमित शाह को प्रभारी बनाया गया, लेकिन एक व्यक्ति कितना कर सकता है जबकि पूरी मशीनरी सड़ी गली हो ? यदि आरएसएस का सहयोग न रहे तो बीजेपी अपने संगठन के बल पर कुछ नहीं कर सकती है ।

यदि सोनिआ गांधी के परिवार को छाँट दे तो बीजेपी के मोदी-विरोधी नेताओं का कोंग्रेसी नेताओं से ख़ास अंतर नहीं है । ६ साल के बीजेपी राज में बोफोर्स फाइल को दबा दिया , न्यूयॉर्क हवाई अड्डे पर अवैध १६०००० डॉलर और माफिया की बेटी के साथ राहुल पकड़ाए थे तो बीजेपी ने ही छुड़वाया था । सचिन पायलट, प्रियंका और अस्की सास एवं कई कोंग्रेसी नेताओं के नाम से अनेक DIN हैं जो उन सबको जेल भेजने के लिए काफी है । लेकिन बीजेपी में कुछ नेता हैं जो कोंग्रेसी नेताओं के मौसेरे भाई हैं । मंत्रिमंडल में जगह न देकर अडवाणी जी को सोनिआ गांधी वाला पद दे दिया जाय और जोशी जी विद्वान हैं तो उन्हें देश भार के विश्वविद्यालों की समिति बनाकर शिखा सुधार समिति का अध्यक्ष बना दिया जाय । और यदि ये लोग न माने तो हिन्दूवादी पार्टी होने के नाते बीजेपी का कर्तव्य बनता है कि ७५ साल से अधिक उम्र के नेताओं को कम से कम राजनीति से संन्यास लेने के लिए बाध्य करे ।

१५ मई २०१४ का सन्देश

My student has sent following suggestions to all central BJP leaders tonight :

महानुभावों,

भव्य भारत के निर्माण लिए कुछ सुझाव :

मैट्रिक तक अनिवार्य और मुफ्त शिक्षा , मिड-डे मील के बदले हाजिरी के अनुसार अतिरिक्त छात्रवृति, आरक्षण के बदले पिछड़े तबकों की काबिलियत बढ़ाने के लिए हर संभव उपाय ताकि मेरिटोक्रैसी का विकास हो, स्कूलों में वास्तविक और अच्छी शिक्षा मिले,

ब्यूरोक्रेसी के बदले टेक्नोक्रेसी (मेरिटोक्रैसी) का प्रशासन हो, औपनिवेशिक IAS प्रणाली को सुधारा जाए जिसमे इतिहास या साहित्य का ग्रेजुएट उन मंत्रालयों का सचिव बन जाता है जिसका कोई ज्ञान न हो,

न्यायाधीशों को आमदनी घोषित करनी पड़े , ताकि RTI के तहत तथ्यों की जानकारी लेकर आम आदमी भी ठेकेदारों, नौकरशाहों और नेताओं के भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा सके , कोर्ट में लाखों मामले लंबित न रहे और न्याय शीघ्र मिले इसके उपाय करना,

विदेशों में जमा कालाधन वापस आये,

अमेरिका और अंतराष्ट्रीय बैंकों द्वारा कृत्रिम रूप से रुपये का अवमूल्यन न करवाया जा सके,

फ़ौज़ के लिए साजो-सामान की खरीद में पारदर्शिता हो, ताकि गलत लोगों को फ़ौज़ में प्रश्रय न मिल सके , संभव हो तो जनरल वी के सिंह जैसे लोगों को रक्षा मन्त्री बनाया जाए, जो फ़ौज़ की समस्याएं जानते हैं, मन्त्रियों को मंत्रालय के विषय का ज्ञान हो जैसे कि अमेरिका में राष्ट्रपति को योग्य सचिव चुनने की छूट रहती है,

कानूनों को सरल बनाया जाए , कारोबार करना और उद्योग लगाना लालफीताशाही में न फँसे,

व्यापक बहस द्वारा मुसलमानों को आधुनिक शिक्षा और विकास के मार्ग पर लाया जाए, ७०० वर्षों तक मुसलमानों और २०० वर्षों तक ईसाईओं का राज रहा है लेकिन आज मुसलमानों को भड़काया जाता है कि हिन्दुओं की साजिश के कारण मुसलमान पिछड़े हुए हैं। दंगे करने-कराने वालों पर सख्त कार्रवाई हो ।

शिक्षा सही हो और देश के साधनों की लूट न हो तो रोजगार लोग खुद निर्मित कर लेंगे, सरकार को चिंता नहीं करनी पड़ेगी ।
May 16, 2014
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

हिन्दू-जागरण

क्या किसी ने हिसाब लगाने का प्रयास किया है कि पिछले एक हज़ार सालों में कितने हिन्दुओं का सुनियोजित तरीके से कत्लेआम हुआ है ? हिटलर ने ६० लाख यहूदियों को मारा उसके लिए हर साल हम सभी मातम मनाते हैं । इससे सौ गुना अधिक हमारे पुरखे मारे गए , उनकी यादें भी हमारे सेक्युलर बुद्धिजीवियों ने भुला दी । अन्यायपूर्ण तरीके से जिन पुरखों की ह्त्या हुई, उनके तर्पण का काल अब आ रहा है । लहू की एक-एक बूँद का हिसाब कम से कम आंसुओं से तो हो ।

मौर्य काल में चीन से दोगुनी पाकिस्तान आदि मिलाकर भारत की आबादी थी जो दुनिया की आबादी का लगभग 38% थी (वैसे भी चीन से दोगुनी खेती योग्य जमीन भारत में है) । लेकिन 1914 ईस्वी में भारत की आबादी दुनिया का केवल छठा हिस्सा थी । मध्ययुग के मुस्लिम लेखक हर युद्ध में लाखों हिन्दुओं के कत्लेआम और औरतों के अपहरण की डींगे मारते थे । असम से पेशावर तक एक भी प्राचीन मन्दिर नहीं बचा । हमारी सभ्यता ही नहीं, आबादी को नष्ट करने का पूरा प्रयास किया गया ।

हिन्दुस्तान की आबादी संयोगवश तो नहीं घटी । इतना ही नहीं, जो आबादी बची, उसमे हिन्दुओं का हिस्सा तेजी से घटता गया । 19 वीं शती में बंगलादेश में हिन्दू आबादी के आधे थे ; 1971 के कत्लेआम से पहले भी एक चौथाई से अधिक थे । आज़ाद भारत में हरेक बड़ा दंगा मुस्लिमों द्वारा आरम्भ किया गया : 2002 का गुजरात दंगा भी, जिसके लिए दंगा आरम्भ करने वाले ही मोदी पर झूठा दोषारोपण करते हैं ।

ब्रिटेन की आबादी एक हज़ार साल में 250 गुना बढ़ी (अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया आदि में उनके वंशजो सहित) । भारतीय हिन्दुओं (और बौद्धों, जैनों, आदि) की आबादी चाणक्य के काल से अभी तक केवल आठ गुनी बढ़ी है । चीन की आबादी भी 1400 वर्षों में 23 गुनी बढ़ी है ।

खुशी इस बात की है कि रेड इण्डियन की भांति हम बारूद, तोप और बन्दूक से अनजान नहीं थे, अतः उनकी तरह हमारा पूरा सफाया नहीं किया जा सका । आबादी घटी, लेकिन हम बच तो गए !

अब हमारी बारी आने वाली है । हम दरिन्दों की नक़ल नहीं करें , लेकिन शान्ति का सन्देश जवाहरलाल की तरह कबूतर उड़ाकर हम नहीं देंगे । माओ के लिए क्रान्ति बन्दूक की नाल से निकलती थी, लेकिन हम तो शान्ति बन्दूक की नाल से निकालेंगे । "क्षमा शोभती उस भुजंग को जिसके पास गरल हो"।

और हमारी बात पूरी दुनिया सुनेगी, सुननी ही पड़ेगी । कालचक्र उलटा घूमना आरम्भ हो चुका है । हिन्दू संस्कृति का स्वर्णकाल पीछे इतिहास के गर्भ में ही नहीं, आने वाले दिनों में भी है । आज की हिन्दू संस्कृति एक विकृत और घायल संस्कृति है । इसके घाव भरने का दायित्व हमारा है ।

हज़ार सालों की खुमारी के बाद 'हिन्दू' अब जाग रहा है । कुछ समय और लगेगा पूरी खुमार टूटने में । तब देखेंगे इन नकली सेक्यूलरों को भागने के लिए जमीन कहाँ मिलेगी ! पाकिस्तान तो घुसने नहीं देगा । आनेवाली पीढ़ियां इनके होश ठिकाने लगा देगी । हमें बेहोश रखने के लिए अफीम की तरह जो झूठा इतिहास और दर्शन पढ़ाया गया है उसे ठीक करने की जरूरत है । जो समाज अपना सच्चा इतिहास और अपनी सही पहचान भूल जाय उसका कोई भविष्य नहीं होता ।

जो शौच नहीं करते, कागज़ से मल पोंछकर टहल जाते हैं, उन्हें वेद-वेदांग छूने का भी अधिकार नहीं , योग भी उनके लिए दूर की कौड़ी है । म्लेच्छों से संसर्ग के कारण ही योग और ज्योतिष विकृत हो रहे हैं । म्लेच्छ अच्छी बात भी करेंगे तो मल लगाकर । और जो हिन्दू भी म्लेच्छों से मान्यता पाने के लिए बेताब हैं, दिव्य शास्त्रों की दिव्यता उनके हाथ नहीं आने वाली । हिन्दू-जागरण म्लेच्छों की मान्यता पर निर्भर नहीं करेगी । हमारे अपने मूल्य-मानक हमारे कार्यों का मूल्यांकन करे ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Svādhyāya

Svādhyāya originally meant the regular and daily study of one's own Shākhā of Veda. Veda was unwritten, hence the traditionally learnt shākhā was the actual Veda. Other Vedas could be studied ONLY after finishing the study of one's own shākhā. Although there is no end of knowledge, acharyas decided whether a person is competent enough to study another shākhā of one's own Veda or any other Veda.

In this context, the CRITERION on which correctness of Vedic pronunciation should be decided is the Prātishākhya of one's own shākhā. Paninian grammar (Vaidika Prakriyā) outlines the general rules of Vedic grammar. Specific rules of each shākhā are described in specific prātishākhyas. Some of these specific rules which are not described in Astādhyāyi but are essential in Vedic recitation but are absent in one's own Prātishākhya are to be taken from Rgvedic Prātishākhya. For instance, detailed rules of pronunciation of various vowels and consonants are described in Rgvedic Prātishākhya. But if the rules for some vowel or consonant or other sounds are described in one's own Prātishākhya and they differ from Rgvedic Prātishākhya, then one's own Prātishākhya must be followed for that shākhā of Veda. Therefore, study of Ashyādhyāyi, one's own Prātishākhya and then of Rgvedic Prātishākhya are essential for correct recitation of one's own shākhā. That is why I procured and studied Rgvedic Prātishākhya and Vājasaneyi Prātishākhya (of White Yajurveda) which is my own shākhā.

But commercially minded Vedic priests of Kaliyuga do not study any Prātishākhya and most of them do not even care for the Vaidika Prakriyā of Panini, and follow only the Shikshā texts of particular shāakhā. Shikshā texts are regarded as Vedāngas and are essential ingredients of syllabus in Vedic gurukulas even today. But they are for the beginners. Higher studies must be based on Prātishākhyas.

For instance, Vājasaneyi shikshā text is 'Yājnavalkya Shikshā' which follows the ekashruti rule in recitation, according to which only the Hasta-chālana (hand movements) must follow the svara rules accurately, while pronunciation may be flat without any undulations according to rules of sasvara-pātha. But Vājasaneyi Prātishākhya of same shākhā tells that ekshruti recitation may be allowed in Yajna-karma, but "Prāvachana" was sasvara recitation. Prāvachana meant original pronunciation taught by the rishis. Panini's Ashtādhyāyi also tells the same thing : ekashruti is allowed in yajnakarma but there are three exceptions in which ekashruti is not allowed : Japa, Nyunkha and Sāma. Nyunkha is the correct sasvara pronunciation of "Om" when it is part of a mantra (Om is not part of a richā or yājushi ; for instance, when vyāhriti including Om is added to gāyatri-richā or gāyatri-yājushi according to rules of one's shākhā, then it becomes gāyatri mantra, there are myriads of varieties of gayatri mantra depending on application, some of which are reversed pronunciation). Ekashruti is never allowed in Sāmaveda, and in Japa of any Veda. Hence, mental Japa is preferred because it is very difficult to recite Vedic mantras correctly. Correct recitation of Vedic mantras with correct lifestyle and rituals guarantees the desired fruits (I have seen it countless of times, but 100% accuracy in pronunciation is not possible for Kaliyugi mortals like us).

"Anusvāra" never has any "g" in actual pronunciation in Laukika Sanskrit. But in Vedic pronunciation, there are many different types of anusvāra, each having different symbols in transcription, and each of them are phonetically different. Their actual pronunciation is not the same in different Shākhās of Vedas. Either follow the Prātishākhya or Shiksha-text of your personal Shākhā of Veda if you can, or follow the Guru-tradition, but never invent rules based on personal LOGIC in Vedic Studies. Veda is never illogical, but human logic cannot always fathout out the logic behind the Veda. Hence, Indian tradition of PROOF (Pramāna) accepts Āgama and Pratyaksha as main proofs, but Logic may be accepted only as a subsidiary of Pratyaksha-pramāna (such as Fire guessed on account of Smoke), but Logic cannot be accepted as an independent Pramāna. Prātishākhyas and Shikshā texts are part of Āgama-Pramāna (Āgama means given by some deity or rishi).

Overwhelming majority (over 90%) of North Indian brahmins from Assam to Punjab belong to Mādhyandina (Vājasaneyi) branch or shākhā of White Yajurveda, in which special two symbols are used for short and long forms of gum/gvam, whose pronunciation always includes "g" in actual practice as taught in all Vedic gurukulas, although no Shikshā text mentions it explicitly that "g" should be included in pronunciation. The "shikshā" texts (= Vedānga) of Mādhyandina shākhā of White YV are two : Vajasaneyi-Prātishākhya and Yajnavalkya-Shikshā. Yajnavalkya-Shikshā contains some verses which contain some analogies for explaining pronunciation which are unnecessary and are too obscene to be taught to brahmachāri-students in any gurukula. Hence, some verses are interpolations. Moreover, lack of any rishi-based reference to "g" in "gm" also creates doubt. But all gurukulas I have visited in many states of India teach "g" as part of "gum" in actual pronunciation. For instance, Varna-prakaranam chapter in Yajnavalkya-shikshā contains averse number-42 (whose contents are also found in Vājasaneyi-Prātishākhya) whose Hindi commentary published by Chowkhamba publishers states that "gaNapati-goom-havAmahe" should have a long "goom" in pronunciation while "tA-gum-savituH" should have a short "gum", although the rishi-based Shikshā texts state that any vowel accompanying anusvāra has 1.5 mātrā of vowel and half mātrā of anusvāra if that vowel is long as in the second example above ("tA-gum-savituH"), while the clause "gaNapati-goom-havAmahe" has a short vowel "i" containing anusvāra, hence the vowel here is of half mātrā and the anusvāra is of 1.5 mātrās (hence, a vowel accompanying anusvāra always is two mātrā long). Both Vājasaneyi-Prātishākhya and Yajnavalkya-shikshā state the same thing and none of them say anything about "g". No vaidika can exclude "g" in 'gum' in actual recitation of White Yajurvedic mantras.
But Rgvedic Prātishākhya (shikshā-patalam, sutra-33) states that anusvāra following a long vowel (=deerghapoorva anusvāra) is of 0.75 mātras while that vowel is of 1.25 mātrās, and hrsvapoorva anusvāra is of 1.25 mātras while that short vowel is of 0.75 mātrās. There, Acharya VyāLi is cited as saying that anusvāra is either "nāsikyam" or "anunāsika". Yajurvedic Prātishākhya says there are 65 varnas (23 svaras and 42 consonants) of which 'nāsikyam' is found in Rgveda but not in Mādhyandina Yajurveda, while some other specific cases are also absent in YV. Hence, if 'nāsikyam' is excluded, all instances of 'gum' are anunāsika (=nasalised vowels). Anusvāra (=gum) means "vowel accompanied by a following nasalization". Mādhyandina Prātishākhya explicitly puts all instances of anusvāra among consonants, not among vowels, although Laukika Sanskrit includes anusvāra among vowels. Thus, in Veda anusvāra must have consonantal property, and this consonant must be vocalized because anusvāra always accompanies some vowel. Therefore, "g" is the most natural accompaniment of Vedic anusvāra. All Vedic scholars in the country cannot be wrong.
South Indian Vaidikas also pronounce anusvāra as "gum".
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Four Levels of Vaaka

The so-called Consciousness expressed through Chitta or its vritti known as Thought is apparent and not real consciousness (cf. Vachaspati Mishra's commentary on Saamkhyakaarikaa of Ishvarakrishna). Thought is formed on the basis of desires (in Indriyas) , samkalpas (of Mana), ego (Ahamkaara), reflections of the intellect (Buddhi), and therefore Vichaara is Vritti of the Chitta. Vichaara (Thought) is DISTURBANCE in the tranquil ocean of Para, making Para beyond the reach of Chitta or its vrittis.
In the realm of real Consciousness, there is no distinction between transmitter and receiver, between perceptor and perceived, between bhakt and bhagwaan. Para is the state of Consciousness in Advaita, when it is really "con + scious". Universal Consciousness is the only entity that exists in reality, it has nothing to comminicate with the Other, because no Other exists. No ego, no Mana, no Buddhi, no Indriyas, all of them remain completely dormant and ineffective. No reason for any Thought to emerge. Para is actually self-reflection or self-contemplation because in the state of advaita nothing else exists, everything that actually exists is the Self.

Pashyanti is the next level when the need to perceive others arise due to various jeevas, their chittas and their maayic reflections. It is that type of consciousness which sees directly (pash-). It is the language of telepathy,a its main medium is Chitra through which Chitta operates. But all five tanmaatras can be transmitted and received. When ten indriyas and the mana — these eleven rudras causing sorrow or rudana through attachment to objects of indriyas — are retracted through pratyaahara then the real powers of mana awaken. This is how Eleven Rudras become One Shiva through purification of indriyas from desires (tanme manaH shiva samkalpam astu). It is the explanation given by Sage Yajnavalkya (Brihadaaranyaka Upanishada). That state is called Mauna by Sage Yajnavalkya and as Asamptajyaata Samaadhi by Sage Patanjali, in which real Manana becomes feasible, which is the natural property of purified Mana. This capability of using Pashyanti as a means of Manana is natural to all Jeevas and is the chief form of communication, and operatesin the Unconscious Mind if consciousness is defined in wrong terms of modern psychology. But as the Jeeva becomes capable of using Vaikhari, pashyanti becomes suppressed and unnoticed by the upper layer of Chitta known as Consciousness to modern psychologists. But Pashyanti (and Paraa) never becomes inoperative, because life cannot exist without them ; they control the sex ratio of a specie, they control the bio-clock, heart beats, they control long range migrations, etc etc. Only real yogis can use these forms of Vaak consciously and deliberately.

Madhyamaa is the intermediate stage and has nothing special to it. It is actually unspoken Vaikhari. But there is one characteristic worth mentioning : it is in Madhyamaa where transformation of Pashyanti into Vaikhari takes place, where various parts of speech take shape, where innate grammar as defined by Noam Chomsky becomes operational, because it is in Madhyamaa where Dik and Kaala become functional in defining the operation of language. In Vaikhari, various parts of speech can be ordered into a sequence of sentence only in a space where Dik and Kaala exist. It takes time to think or speek Vaikhari. But Paraa and Pashyanti work instantaneously, because Time and Space do not exist in the realm of Truth. In the realm of Truth, only pure and undivided Consciousness exists which is the other name of Truth, and Para is its self-expression for itself and for its own sake. Pashyanti works in the world of space and time, but is uninfluenced by them. The unwritten Aindra grammar of Pashyanti contains 54 left-handed (Vedic Vaamamaargi) Sanskrit roots and 54 right-handed Dakshinamaargi roots, both being mirror images of each other and being complimentary sets morphologically as well as functionally, operating through intaractions of three naadis and their seven chakras inside a jeeva as well as outside in the Cosmos. It cannot be learnt, it is automatically activated in yogis, but works always incessantly in all jeevas without manifesting itself externally.
1 Oct, 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

मिथिला-राज्य आन्दोलन :-

मिथिला-राज्य आन्दोलन में हर किस्म के लोग हैं, लेकिन किसी कोंग्रेसी नेता ने कभी भी इस आन्दोलन में शिरकत नहीं की । भाजपा का जनसंघ के जमाने से ही नारा था हिन्दी-हिन्दू-हिन्दुस्तान, लेकिन मैथिली को वाजपेयी जी ने ही अष्टम सूची में मान्यता दी जिसके बाद मिथिला में भाजपा का प्रसार हुआ (बिल में मणिपुरी जैसी छोटी भाषा का नाम था, मैथिली का नहीं, एक कम्युनिस्ट सांसद के समझाने पर वाजपेयी जी ने झट से मान लिया जिसका लाभ आज भाजपा ले रही है, यद्यपि कम्युनिस्ट पार्टी मिथिला राज्य की विरोधी रही है और इसी कारण विद्यानाथ चौधरी का कम्युनिस्ट पार्टी से तीन दशक पहले निष्कासन हुआ था)। 1954 ईस्वी में राज्य पुनर्गठन आयोग ने तर्क दिया कि मैथिली को भाषा के रूप में मान्यता नहीं है, अतः पृथक मिथिला राज्य की मांग उचित नहीं है । तब दरभंगा राज से लेकर उसके कट्टर विरोधी समाजवादी नेताओं ने मिथिला राज्य का आन्दोलन चलाया था, कांग्रेस ने हमेशा इस मांग का विरोध किया है ।

आज मैथिली की संवैधानिक भाषा में मान्यता है तो राज्य क्यों नहीं मिलना चाहिए ? हुमायूँ से लेकर शेरशाह सूरी के आरंभिक काल तक मुगलों और पठानों में लड़ाई के कारण मुग़ल सराय से पूर्व मुग़ल नहीं जा सके जिस कारण पठानों का राज्य "बिहार" नाम से प्रसिद्ध हो गया , जिसका मुख्य कारण था बिहार में बौद्ध विहार (नालंदा) का होना , जिसे नष्ट करना पठानों के लिए गर्व की बात थी । "बिहार" पठानों का दिया हुआ नाम है जिसे मुग़लों, अंग्रेजों और उनके कोंग्रेसी पिट्ठुओं ने भी जारी रखा । हिन्दू काल में कहीं भी "बिहार" नाम नहीं मिलेगा, मगध, मिथिला, कशी, जैसे राज्यों के नाम मिलेंगे जिनकी विशिष्ट सांस्कृतिक पहचान रही है । औपनिवेशिक दृष्टि से जनता पर हुकूमत करने वालों ने गैर-सांस्कृतिक "प्रशासनिक" प्रान्त बनाये ताकि जनता में परस्पर एकता न हो सके । कांग्रेस और मुग़लों के चाकरों ने दिल्ली से मेरठ तक की खड़ी बोली को हिंदी के रूप में मान्यता दिलाई , जिसका कोई साहित्यिक-सांस्कृतिक महत्त्व नहीं था, यह मुग़लों के लठैतों और सिपाहियों की बोली थी । भाषाएँ थी ब्रजभाषा, अवधी , मैथिली, (अब) भोजपुरी, आदि । जब तक लोकभाषाओं का अपमान होता रहेगा, लोकतन्त्र किताबी ख्याल बना रहेगा । सभी जनभाषाओं का विकास ही जनता का विकास है । आज की हिन्दी खड़ी बोली नहीं है, यह आर्यावर्त की प्राचीन देवभाषा की सबसे बड़ी बेटी है जिसके विकास में आर्यावर्त की सभी भाषाओं-बोलियों का योगदान रहा है , अन्य भाषाएँ इसकी छोटी बहने हैं । लेकिन कुछ काठ के उल्लू हैं जो अंग्रेजी के स्थान पर हिन्दी को बलपूर्वक थोपने और अन्य भाषाओं को कुचलने को ही राष्ट्रवाद समझने की मूर्खता करते हैं । भाषाई-राष्ट्रवाद की ऐसी धारणा यूरोप से आयी है जो भारत को नष्ट कर देगी, भारत एक बहुभाषाई राष्ट्र है जिसे केवल संस्कृत ही एकता के सूत्र में बाँध सकती है । अम्बेडकर ने भी संस्कृत को राष्ट्रभाषा बनाने का सुझाव दिया था जिसपर पूरा देश सहमत हो सकता था , लेकिन गांधी और नेहरू के दिमाग में अंग्रेजों का पढ़ाया हुआ यूरोपियन राष्ट्रवाद था । भाषा समाज की चेतना का माध्यम है, किसी भाषा का अपमान उस समाज का अपमान है ।

मिथिला को नष्ट करने में सबसे बड़ा योगदान दरभंगा राज का था जिसने अपने स्टाफ के लिए एक राज-स्कूल खोला और मिथिला में कहीं भी स्कूल-कॉलेज खुलने नहीं दिया, केवल संस्कृत पाठशालाएं खोली, मैथिली को नष्ट करने के लिए उसकी लिपि को हटाकर देवनागरी थोपी, जब सोशलिस्ट और अन्य गैर-कांग्रेसी नेताओं ने मिथिला राज्य आंदोलन आरम्भ किया तो उसमे अपने चमचों को घुसाया और मिथिला-मैथिली आन्दोलन को मैथिल-ब्राह्मणों के कब्जे में रखवाने का षड्यन्त्र किया, जिस कारण यह आन्दोलन सभी जातियों में नहीं फैल सका, यद्यपि कोई भी भाषा किसी जाति की नहीं होती । आज भी मिथिला-मैथिली आन्दोलन पर केवल मैथिल ब्राह्मणों का कब्जा है जो दिखावे के लिए एकाध अन्य जाति वालों को भी शामिल कर लेते हैं । ऐसा आन्दोलन कभी सफल नहीं हो सकता । यही कारण है कि मैं कभी इस आन्दोलन से नहीं जुड़ा, यद्यपि इसकी मांगे सही है । जगन्नाथ मिश्र मुख्यमन्त्री थे तो उर्दू तो बिहार की दूसरी राजभाषा बनाया , JDU-BJP का राज हुआ तो बेटे को JDU में मंत्री बनवा दिए, अब JDU-JRD मोर्चे से सवर्णों का मोहभंग हो गया है तो उसी बेटे तो भाजपा में टिकट दिलवा दिये हैं । सुशील मोदी से पूछिए बाप को पीटने वाले नालायक बेटे को टिकट देने के लिए रेट ढाई गुना क्यों बढ़ा दिया ? आज पूरे बिहार में केवल भाजपा का ही सांसद (दरभंगा वाला) मिथिला राज्य के पक्ष में बोलता है । जगन्नाथ मिश्र के खानदान को इससे कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन यदि यह आन्दोलन जन-आन्दोलन बन गया (जो मैथिल ब्राह्मणों का गिरोह होने नहीं देगा क्योंकि तब उनकी पूछ नहीं रहेगी) जगन्नाथ मिश्र का पूरा खानदान मिथिला राज के पक्ष में कूद पड़ेंगे ! उन्हें तो केवल सत्ता चाहिए, जैसे भी मिले । आज समूचे बिहार में एक भी राजनेता नहीं है, सभी दलों में छुटभैये भरे पड़े हैं जो जनता की नब्ज नहीं पहचानते । भाजपा भी किंकर्तव्यविमूढ़ है कि मुख्यमंत्री का उम्मीदवार किसे बनाये ! सुशील मोदी ने भी सवर्णों को उभरने नहीं दिया , और जनता सुशील मोदी के नाम पर हिलती भी नहीं ।

दरभंगा के तत्कालीन राजद सांसद मुहम्मद अली अशरफ फातमी, जिनके खाते में दावूद इब्राहिम द्वारा भेजा गया 50 लाख रुपये का चेक सीबीआई ने 1991 चुनाव से ठीक पहले बरामद किया था, जब केन्द्र में मानव संसाधन विकास राज्य मन्त्री थे तब मिथिला राज्य की मांग का स्मारपत्र देने वैद्यनाथ चौधरी उर्फ़ बैजू बाबू के नेतृत्व में प्रतिनिधिमण्डल उनके पास पंहुचा । फातमी ने कहा कि यदि मिथिला राज्य बन गया तो लालू यादव दो-दो राज्यों के मुख्यमन्त्री थोड़े ही बनेंगे, और आप का भी कोई चान्स नहीं है, मिथिला राज्य का मुख्यमन्त्री तो मैं ही बनूंगा !

वैद्यनाथ चौधरी ने मिथिला राज्य पर सेमीनार किया तो मुझे बुला लिया । सभी भाषणबाज वक्ताओं की मैंने खाल उधेड़ कर रख दी । वीर भोग्या वसुन्धरा ! भीख माँगने से राज्य नहीं मिलता । मैथिलों को तो खनिज-सम्पन्न जमशेदपुर तक का मिथिला राज्य मिला था जिसका नाम बिहार था लेकिन 56% मैथिली भाषी थे । किन्तु राज करने की योग्यता नहीं थी, केवल मैथिल ब्राह्मणों को मैथिली मञ्च और मिथिला राज्य आन्दोलन में रखते रहे , दूसरी जातियों के साथ सौतेला बर्ताव करते रहे , अतः मगध वालों ने राज छीन लिया और दोयम दर्जे के नागरिक बनाकर मिथिलावासियों को रखा । दरभंगा में ब्रिटिश काल में 6 कारखाने थे, आज एक भी नहीं है । निजी कारखानो को भी सरकार लूट कर बाहर ले जाती है । मिथिला का सबसे बड़ा उद्योग है बाढ़-घोटाला ।

मैथिल ब्राह्मण मुख्यमन्त्री बने तो हर गाँव में एकाध चमचों को पोसकर रखते थे, लेकिन मिथिला में रोजगार का कोई उपाय नहीं किया, जगन्नाथ मिश्र ने केवल शिक्षा में राजनीति की और सभी स्कूल-कॉलेजों में अपने गुट के लोगों को भरा जिनमे अधिकाँश नालायक थे । चारा-घोटाला भी उन्होंने ही शुरू किया जिसे लालू ने आगे बढ़ाया । लालू यादव भी पहली बार जगन्नाथ मिश्र की कृपा से ही मुख्यमन्त्री बने थे ।

यह सच है कि लम्बे अरसे से मगध द्वारा मिथिला का शोषण हो रहा है । दरभंगा उत्तर बिहार का सबसे बड़ा शहर था लेकिन जानबूझकर मुजफ्फरपुर को आगे बढ़ाने के लिए यातायात की सुविधाएं दी गयी । हाल में भी दरभंगा का नाम काटकर बिहारशरीफ का नाम स्मार्ट-सिटी में जोड़ा गया, यद्यपि बिहारशरीफ दरभंगा से छोटा है । गैर-मैथिल बिहारियों को भ्रम है कि मिथिला राज्य होने से मैथिल ब्राह्मणों का भला होगा । बिलकुल नहीं । अभी मगध का सत्ताधारी वर्ग मिथिला को लूट रहा है, मिथिला राज्य बना तो लालू का वर्चस्व मिथिला पर हो जाएगा क्योंकि शेष बिहार की तुलना में राजद का "माई" वोटबैंक मिथिला में ही अधिक है । जगन्नाथ मिश्र ने पूरे जीवन एक ही कार्य किया : अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए सभी दलों से मैथिल नेताओं का सफाया करवाया । अतः आज RJD JDU , INC , BJP , कोई भी दल हो मैथिल ब्राह्मणों की कहीं पूछ नहीं रही । बिहार में सवर्णों में आपसी एकता नहीं है, लेकिन दूसरे राज्यों में भी यही हालत है । उत्तर प्रदेश में कभी मायावती के तलवे चाटते हैं तो कभी लौटकर भाजपा में आते हैं । एक समय था जब ब्राह्मण गद्दी का लोभ नहीं करते थे लेकिन राज करने वाले दौड़कर उनसे सलाह लेने आते थे । पिछले साल काशी के पण्डितों ने भाजपा की जीत होने पर सम्मलेन किया जिसमे सभी पंडितों ने प्रधानमन्त्री के पास पण्डितों और संस्कृत से सम्बंधित समस्यायों का स्मारपत्र भेजने का निर्णय लिया । तब मैंने कहा कि आप लोग तो डींग मारते हैं की सारे देवी-देवता आपकी बात सुनते हैं, तो फिर प्रधानमन्त्री किस खेत की मूली है ? मन्त्र से ठीक कर दीजिये ! लेकिन सत्ययुग वाली शक्ति अब कहाँ ? सोलह संस्कारों में से कितने बचे हैं ? भारत में संस्कृत के कितने प्रोफेसर हैं जो अपने बच्चों को संस्कृत पढ़ाते हैं? जबतक गरीब थे तबतक मुफ्त का भोजन पाने के लोभ में गुरुकुलों में संस्कृत पढ़े, चोरी करके डिग्री लिए ।

अभी तक मैंने एक भी संस्कृत कॉलेज नहीं देखा है जहां परीक्षाओं में धड़ल्ले से चोरी नहीं होती हो । चोरों के हाथ में शास्त्र-पुराण रहेगा तो सदाचार का अचार ही बनेगा ! राष्ट्रिय स्वयंसेवक संघ के बिहार-झारखण्ड के प्रमुख कार्यवाह सिद्धनाथ सिंह की अद्यक्षता में सासाराम में मुझे मुख्य वक्ता बनाया तो वहां मैंने कहा की ब्राह्मण खुद को सिर कहते हैं, तो मेरा यही कहना है कि हाथ-पाँव-पेट खराब होगा तो इलाज करा सकते हैं, लेकिन सिर खराब होगा तो खुद इलाज भी नहीं करा सकते, अतः समाज की सभी गड़बड़ियों का मुख्य जिम्मा ब्राह्मणों के मत्थे है क्योंकि ये "सिर" हैं । मेरा यही मानना है कि केवल ब्राह्मण अपने असली ब्राह्मणत्व को जगा ले तो पूरी दुनिया को ठीक कर देंगे । लेकिन संस्कृत में एक कहावत है कि जैसे पेट भरने पर सिंह जाग नहीं सकता वरना कोई जीव बचेगा नहीं, वैसे ही ब्राह्मणों में एकता हो नहीं सकती वरना कोई टिकेगा नहीं ।

मगध के लुटेरों से मुक्ति के लिए मिथिला राज्य आवश्यक है, भले ही लालू या फातमी का मिथिला में राज हो जाय । इस बात का कोई जवाब है कि आज़ादी के 67 साल बाद भी मिथिला में जितने कारखाने ब्रिटिश राज में थे उतने भी आज क्यों नहीं हैं ? दुनिया में किसी अन्य भूभाग में ऐसा अन्याय और इतनी लूट-खसोट नहीं मिलेगी । सरकारी आदेश से तटबंध काट दिए जाते हैं ताकि राहत और तटबंध की मरम्मत के नाम पर लूट हो ; ऐसा आज़ादी के समय से ही हो रहा है । वर्ल्ड बैंक का पहला प्रोजेक्ट था कोसी हाई डैम (1946), लेकिन अगले ही साल देश आज़ाद हो गया और सात साल तक बिहार के मुख्यमन्त्री ने परियोजना को दबाकर रखा, वर्ल्ड बैंक से 125 करोड़ रुपया आकर बैंक में सड़ता रहा, केन्द्र की मंजूरी के बावजूद मुख्यमंत्री ने लिख दिया कि बिहार में बिजली और सिंचाई की कोई समस्या नहीं है , अतः उसी पैसे से नेहरू ने पंजाब में भाखरा-नांगल हाई डैम बना दिया और घूस में दामोदर वैली कारपोरेशन दे दिया जिसकी बिजली घूस लेकर कलकत्ता के सेठों को दी गयी और DVC में 40-40% नौकरियाँ देशरत्न जी एवं मुख्यमंत्री के जातियों को घूस में दी गयी ताकि वे चुप रहे । लालू यादव को इसी बात का गम है कि सवर्णों ने इतने दिनों तक घोटाला किया तो ठीक था, पिछड़ी जाति के एक बिचारा ने चारा खा लिया तो हंगामा क्यों बरपा है !
Oct 31, 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

पुरस्कार लौटाने की नौटंकी :-

तथाकथित महान वैज्ञानिक पी इन भार्गव ने पद्म भूषण पुरस्कार लौटाकर कहा है कि देश का सांस्कृतिक "माहौल" खराब हो गया है अतः प्रतिरोध के तौर पर वे पुरस्कार लौटा रहे हैं । इनका पूरा बायोडाटा मैंने खंगाला ताकि पता चल सके कि विज्ञान में इनका क्या योगदान रहा है (https://en.wikipedia.org/wiki/Pushpa_Mittra_Bhargava तथा अन्य वेबसाइट) , लेकिन एक भी साक्ष्य नहीं मिला । 2013 ईस्वी में अन्ना-केजरीवाल के आन्दोलन को हवा देने में इनकी महती भूमिका थी । 2000 ईस्वी में जब मुरली मनोहर जोशी ने ज्योतिष के शिक्षण को मंजूरी दी तो ज्योतिष को अन्धविश्वास कहते हुए सरकार के खिलाफ मुकदमा दायर करने वालों की सूची में सबसे ऊपर इनका ही नाम था, लेकिन हैदराबाद के माननीय उच्च न्यायालय और बाद में माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने मुकदमा स्वीकार ही नहीं किया, आपको ज्योतिष नहीं पढ़ना है तो न पढ़ें, जिनको पढ़ना है वे पढ़ेंगे । जिस (ज्योतिष) विषय का इन्होनें कभी अध्ययन ही नहीं किया उसे कोई दूसरा भी न पढ़े यही इनकी इच्छा है । भाजपा-विरोधी बिरला जैसे कोंग्रेसी सेठों की मीडिया ने इनको महान वैज्ञानिक कहकर उछाला है जिसे सिद्ध करने के लिए इनको प्राप्त पुरस्कारों की सूची प्रचारित की , इनमे से सबसे बड़ा पुरस्कार है Legion d'Honneur जो फ्रांस का सबसे बड़ा पुरस्कार है, लेकिन उस पुरस्कार की पूरी सूची में इनका नाम कहीं नहीं है :- https://en.wikipedia.org/…/List_of_L%C3%A9gion_d%27honneur_
इनके वास्तविक योगदान दो है : पहला योगदान है भारत में तथाकथित "वैज्ञानिक संस्कृति" को बढ़ावा देने के नाम पर समस्त परम्पराओं को नष्ट करने के लिए इन्होनें दशकों तक आन्दोलन चलाया, और दूसरा यह कि अमरीका जाकर जेनेटिक इंजीनियरिंग का इन्होने अध्ययन किया (उसमे कोई वैज्ञानिक योगदान नहीं दिया और कोई खोज नहीं की) और भारत लौटकर पैसा कमाने में उसका इस्तेमाल किया : तीन कम्पनियों के चेयरमैन हैं, अनेक अन्य कम्पनियों के निदेशक-मण्डल में हैं, उन कम्पनियों के मालिकों द्वारा कई पुरस्कार प्राप्त कर चुके हैं, जैसे कि फिक्की, रैनबैक्सी, बिरला, आदि से, और उन सेठों की मीडिया इनको महान वैज्ञानिक कहकर उछालती है क्योंकि जेनेटिक इंजीनिरिंग द्वारा नकली जैविक पदार्थ बनाकर पैसा कमाने का हुनर भारतीय सेठों को इन्होनें ही सिखाया , और ये शातिर इतने हैं कि जेनेटिक इंजीनिरिंग के गलत इस्तेमाल के खिलाफ भी बोलते रहते हैं ताकि बदनामी न हो ! इंदिरा गांधी ने आपातकाल के अंतिम चरण में मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के केन्द्र का इन्हें प्रमुख बनाया, तब आपातकाल के विरोध में इनकी आत्मा नहीं जागी और ये सत्ता के गलियारों में पद-प्रतिष्ठा लेने के लिए चक्कर काटते रहे ! इन्हे राजीव गान्धी के राज में पद्म भूषण मिला , जिस कारण बोफोर्स काण्ड ने इनकी सोयी हुई आत्मा को नहीं जगाया ! लेकिन कर्नाटक के कांग्रेस राज्य में साहित्यकार की ह्त्या और उत्तर प्रदेश के अखिलेश-राज में दादरी में एक मुस्लिम की ह्त्या हुई तो वहां की क़ानून-व्यवस्था के खिलाफ राज्य सरकारों के खिलाफ न बोलकर इन्होनें केन्द्र सरकार के खिलाफ हंगामा शुरू किया ! मोदी सरकार जरूरत से ज्यादा ढील दे रही है जिस कारण ऐसी नौटंकियाँ होती हैं ! मीडिया भी ऐसे नकली वैज्ञानिकों को झूठमूठ उछालती रहती है, इनसे यह नहीं पूछती है कि सरकारों और सेठों की चापलूसी करके पद-प्रतिष्ठा लेने के अलावा विज्ञान में इनका वास्तविक योगदान क्या है, क्या इन्हें किसी भी वैज्ञानिक खोज के लिए एक भी गैर-राजनैतिक और वस्तुतः "वैज्ञानिक" पुरस्कार कभी प्राप्त हुआ है ?
मोदी सरकार को जेनेटिक इंजीनिरिंग के गलत इस्तेमाल की जांच के लिए कमिटी बनाकर ऐसे लोगों पर सख्त कार्यवाई करनी चाहिए । विशुद्ध विज्ञान के क्षेत्र में इनका एकमात्र योगदान है Proteins of Seminal Plasma नामक पुस्तक, जिसके तीन लेखकों में तीसरा और अन्तिम नाम इनका था :- Shivaji, S.; Scheit, Karl Heinz; Bhargava, Pushpa M. (1990-01-26). Proteins of seminal plasma. Wiley. ISBN 9780471846857
सिखों और कश्मीरी पण्डितों का नरसंहार होते समय भी भार्गव महोदय की आत्मा सोती रही । ताज्जुब तो इस बात का है कि केवल भाजपा ही यदि देश का माहौल बिगाड़ती है तो 2002 के गुजरात दंगों के खिलाफ भार्गव महोदय ने पुरस्कार क्यों नहीं लौटाया ? जाहिर है पुरस्कार लौटाने की इस नौटंकी का निदेशक कोई और है जहां से हुक्म मिलने पर ही इनकी आत्मा जागती है ।
अभी हाल में तथाकथिक बुद्धिजीवियों द्वारा पुरस्कार लौटाने की जो नौटंकी शुरू की गयी है उसमें सबसे बड़ी भूमिका है नयनतारा सहगल की जो जवाहरलाल नेहरू की सगी बहन विजयलक्ष्मी पंडित की बेटी हैं । यह भी कोई संयोग नहीं है कि भार्गव महोदय को पद्म भूषण और नयनतारा सहगल को साहित्य अकादमी पुरस्कार एक ही साल में मिला था : 1986 । नयनतारा सहगल अंग्रेजी की साहित्यकार हैं, अतः पुरस्कार लौटाने के बाद ही भारतीय भाषाएँ बोलने-जाननेवालों ने उनका नाम सुना । नयनतारा सहगल ने पहले एक हिन्दू गौतम सहगल से शादी की, जिसके बाद एक ईसाई से शादी की किन्तु पहले पति "सहगल" का ही आस्पद रखा ताकि हिन्दुओं में उनकी किताबें बिकती रहें (https://en.wikipedia.org/wiki/Nayantara_Sahgal)। अपने विवाहेतर यौन सम्बन्धों के बारे में 1994 में नयनतारा सहगल ने निर्लज्जतापूर्वक "Relationship" प्रकाशित किया था । किन्तु इनकी ऊंची पंहुच थी जिस कारण immoral trafficking (adultery : section 497 of IPC) और अश्लील लेखन के आरोप में इनपर मुकदमा दायर करने का साहस किसी ने नहीं किया । इन लोगों को भारत में कैसा "सांस्कृतिक" माहौल चाहिए यह मीडिया सही ढंग से नहीं बतलाती ।
विदेशी मीडिया में भी इस बात को उछाला जा रहा है कि मोदी-राज के कारण भारत में असहिष्णुता का माहौल फैल गया है । अतः विदेशी कम्पनियों को भारत से बचकर रहना चाहिए ! देश का विकास रोककर मोदी-सरकार को बदनाम किया जाए, कांग्रेस अब इस निकृष्ट स्तर तक उतर गयी है !
पुरस्कार पाने वाले एक साहित्यकार मुन्नवर राणा महोदय हैं जिन्हें सोनिया गान्धी के दुःख पर कविता लिखने की प्रेरणा (अल्लाह से) मिली थी ।
पद्मश्री पुरस्कार लौटाने वाले सेक्युलरों की लिस्ट में नए रंगरूट हैं तथाकथित इतिहासकार शेखर पाठक, जिन्हें दो कष्ट हैं : हिमालय की अनदेखी क्यों हुई (जहाँ कांग्रेस का राज है, लेकिन उन्हें कष्ट है मोदी सरकार से), और दूसरे "बुद्धिजीवियों" को "कष्ट" क्यों हुआ जिस कारण उन्होने पुरस्कार लौटाया । इनका परिचय यही है कि मनमोहन-सरकार ने इन्हें 2007 में पुरस्कार दिया था, और "जवाहरलाल नेहरू फ़ेलोशिप" प्राप्त होने के कारण अभी वे "नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी" में रिसर्च-स्कॉलर हैं । पहले ये नैनीताल में प्रोफेसर थे, लेकिन अब जवाहरलाल नेहरू के आवास तीन मूर्ति भवन (नयी दिल्ली) में स्थित Centre for Contemporary Studies में "फेलो" हैं ।
इन्हें एक और पुरस्कार मनमोहन-राज के दौरान मिला था : "महापण्डित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार", जो हिन्दू धर्म त्यागकर बौद्ध भिक्षु बन गए थे लेकिन उनकी तीन शादियां तो ज्ञात हैं, और बारी-बारी से चार सम्प्रदाय धर्म भी उन्होंने अपनाये ( जन्म से हिन्दू, फिर आर्य समाज, तब बौद्ध, अन्त में मार्क्सवादी नास्तिक) ।
ब्रह्मसूत्र के अनुसार भिक्षु बनने के बाद जो विवाह करे उसे मातृगमन का महापातक लगता है ।
पुरस्कार लौटाने वालो का बायोडाटा मीडिया ठीक से नहीं दिखाता । भाजपा भी इन्हें बेनकाब करने के लिए सही तरीके से प्रतिक्रिया नहीं कर रही है ।
Nov 2, 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

ब्रह्म और ब्राह्मण :—

छान्दोग्य उपनिषद् में कहानी है कि द्विज (राजा) ने रैक्व नाम के शूद्र से ब्रह्मज्ञान प्राप्त किया था । शास्त्रों में ब्रह्म को जानने वाले को ही ब्राह्मण मानने का आदेश है, जन्म से सबको शूद्र कहा गया है । संस्कारों से ही कोई ब्राह्मण बनता है ।
आज के जातिवादी समाज में हर जाति में जातिवादियों की भरमार है, जिनका मुख्य निशाना वेद और ब्राह्मण रहते हैं । कलियुग के पथभ्रष्ट ब्राह्मणों से इनका वैर नहीं रहता, ऐसे लोगों का वैर असली ब्राह्मणों से रहता है जो प्राचीन धर्म पर चलने का प्रयास करते हैं । वेद और पुराणों को जो ब्राह्मणों से काटकर देखे, उसने कभी भी वेद और पुराणों का अध्ययन नहीं किया जिनमे ब्राह्मणों की प्रशंसा पर पन्ने पर मिलेगी । वेद में ब्राह्मण तो दिव्य पुरुष के सिर से बताया गया है यह जातिवादी गैर-ब्राह्मणों को हजम नहीं होता । लेकिन इन जातिवादियों को मालूम नहीं है कि वैदिक-पौराणिक ब्राह्मणों का लगभग लोप हो चुका है और यह लोप उन जातिवादी ब्राह्मणों ने किया है जिन्होनें वेदमार्ग का त्याग हज़ारों साल पहले कर दिया और जर-जमीन-जोडू के चक्कर में पथभ्रष्ट हो गए । मनुस्मृति में आदेश है कि ब्राह्मण को केवल छ कर्म ही करने की अनुमति है : वेद पढ़ना-पढ़ाना, दान लेना-देना, और यज्ञ करना-कराना, तथा यज्ञ- देवपूजन- ज्योतिष- चिकित्सा से जीविका अर्जित करने वाले ब्राह्मणों को आर्य समाज से बहिष्कृत करके चाण्डाल एवं पंक्तिदूषक घोषित करने का आदेश है । ब्राह्मण को भूमि रखने और कृषिकर्म का तथा नौकरी करने का अधिकार नहीं था, बिना फीस लिए बच्चों को भीख मांगकर पढ़ाओं और उपरोक्त छ कर्म करो । ऐसे वेदमार्गी ब्राह्मणों की प्रशंसा पुराणकारों ने ही नहीं बल्कि गौतम बुद्ध ने भी की (देखें धम्मपाद) और अशोक के शिलालेखों में भी ऐसे ब्राह्मणों को सर्वोच्च माना गया है , हालांकि जिन्होंने धम्मपाद नहीं पढ़ा या अशोक के शिलालेख नहीं पढ़े या वेद-पुराण नहीं पढ़े वे लोग म्लेच्छों द्वारा लिखित गलत इतिहास पढ़कर बकवास करते फिरते हैं ; ऐसे लोग आधुनिक कुशिक्षा के "शिकार" हैं ।
मानवतावादी-साम्यवादी उदात्त भावना से ओत-प्रोत ऐसे बुद्धिजीवियों की भरमार है जो वस्तुतः भ्रामक और धर्म-विरोधी विचारों का प्रचार करके सनातन धर्म की जड़ों पर कुठाराघात करते रहते हैं । आधुनिक कलियुगी ब्राह्मणों के दोषों को प्राचीन ब्राह्मणों पर कल्पित करने वाले लोग ऐसे भ्रामक विचार पाल लेते हैं । लेकिन कलियुग में केवल ब्राह्मण ही तो दोषयुक्त नहीं हैं । किन्तु सारा दोष ब्राह्मणों पर थोपने की अंग्रेजी नीति चली आ रही है ।
ऋग्वेद के दसवें मण्डल में दिव्य पुरुष के सिर से ब्राह्मण, भुजा से क्षत्रिय, उदार से वैश्य और पाँव से शूद्र कहा गया है, फिर इस बकवास का क्या आधार है कि वेद में ऊँच-नीच नहीं था ? ऊँच-नीच तो प्रकृति का सनातन नियम है, जिसने जैसे कर्म किये हैं वैसे ही फल भोगेगा। केवल फल में साम्यवाद क्यों, कर्म में साम्यवाद क्यों नहीं ? साम्यववाद-समाजवाद की आड़ में दरअसल झुण्डवृत्ति कार्य करती है : मेरा झुण्ड महान, मेरी जाति या नस्ल या क्षेत्र या राष्ट्र ऊँचा, मेरा कुआँ अच्छा , मेरे मेंढक अच्छे, क्यों मैं अच्छा , मैं मैं मैं ….. । केवल "मैं" ही पसन्द है तो अहंकार को मिटाकर असली "मैं" में स्थित हो जाओ जो सबके भीतर है, उस ब्रह्म में जो स्थित है वही तो ब्राह्मण है ।
यदि आत्मविरोधी भौतिकवादी साम्यवाद पसन्द है तो कम्युनिस्ट पार्टी में भर्ती हो जाओ, क्यों झूठ-मूठ वेदों को उद्धृत करते हो ! वेद की झूठी परिभाषा मैक्समूलर जैसे मलेच्छों की है जो शौच करना भी नहीं जानते । सारे मौलिक उपनिषद् वेदों के अङ्ग हैं, वेदों के सार नहीं । उदाहरणार्थ, ईशोपनिषद यजुर्वेद का अन्तिम अध्याय है जिस कारण ऐसे दर्शन को वेदान्त कहा जाता है । लेकिन वेदों का 90% से अधिक कर्मकाण्ड है, ज्ञानकाण्ड (उपनिषद्) 10% से भी कम है । ईशोपनिषद में भी कर्मकाण्ड की महत्ता का वर्णन है । कलियुग में धनलोलुप जाति-ब्राह्मणों ने कर्मकाण्ड को पेटपूजा का साधन बना दिया जिस कारण आधुनिक मूर्खों ने कर्मकाण्ड का ही विरोध करना शुरू कर दिया । हिन्दुओं के सारे संस्कार कर्मकाण्ड ही हैं, सारे वैदिक यज्ञ भी कर्मकाण्ड हैं । लेकिन आजकल के नकली हिन्दुओं द्वारा एक तरफ वेद का समर्थन किया जाता है, दूसरी तरफ वैदिक कर्मकाण्ड का विरोध किया जाता है और केवल वेदान्त की आड़ ली जाती है जो संन्यास का दर्शन है, लेकिन ऐसे लोग स्वयं संन्यास का मार्ग नहीं अपनाते , तो फिर ऐसे लोगों का वास्तविक धर्म क्या है ? वैदिक धर्म के नाम पर स्वेच्छाचारिता !! धर्म का आधार शास्त्र है । शास्त्र का आधार वेद हैं, लेकिन वेद में व्याख्याएं नहीं हैं, जनसामान्य के लिए वेदमार्ग को ही पुराणों में प्रस्तुत किया गया है और ऋग्वेद में भी आदेश है कि लोगों को "पुराणवत" आचरण करना चाहिए , यद्यपि कलियुग में अनेक पुराणों, स्मृतियों और महाकाव्यों में कतिपय प्रक्षिप्त अंश भी दुष्टों ने जोड़ दिए हैं ।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जाति-प्रथा को मिटाकर हिन्दू-जाति को जर्मनों की तरह एकजुट करना चाहता है । दयानन्द सरस्वती जी का भी यही उद्देश्य था । महात्मा गान्धी और (बिना भतीजा वाला) चाचा नेहरू जैसे अनेक महापुरुषों का यही उद्देश्य रहा है । संविधान का भी ऐसा ही लक्ष्य है ।
फिर क्या कारण है कि इन महापुरुषों ने जो संविधान थोपा उसमे आरक्षण नाम का भूत घुसा दिया जो मानव जाति के एक्सटिंक्शन तक जाति-प्रथा को हिन्दू-समाज से निकलने नहीं देगा ? महात्मा गान्धी के नेतृत्व काल में भी कांग्रेस की सभी छोटी बड़ी कमिटियों और अन्यान्य पदों का बँटवाड़ा 100% जातीय आधार पर किया जाता था । जातिवाद का विरोध का ढोंग करने वाले लालू और मुलायम जैसे तमाम महापुरुष घोर जातिवादी हैं । मण्डल आयोग ने 3600 पिछड़ी जातियों के लिए आरक्षण की पैरवी की लेकिन यह नहीं कहा की उन 3600 पिछड़ी जातियों में भी आरक्षण का लाभ केवल उन्हीं को मिलेगा जो कम से कम आपस में अन्तर्जातीय विवाह कर लें । लालू जी को अपनी सन्तानों के लिए यादव दूल्हा-दुल्हिन ही चाहिए, ब्राह्मणों से पूजा-पाठ भी कराएंगे, जगनाथ मिश्र के बेटे को जितवाने के लिए नितीश कुमार से पैरवी करके झंझारपुर का सीट झटकेंगे, और जनता को मूर्ख बनाने के लिए अगड़ी जातियों को गरियायेंगे । "भूमिहार कम्युनिस्ट" रामशरण शर्मा जी इतिहास की पुस्तकों में ब्राह्मणों को वेदकाल से ही गोमांस-भक्षक बतलायेंगे, राठौड़ की उत्पत्ति देसी जंगली कबीलों से बताएँगे, लेकिन भूमिहार पर कोई टिप्पणी नहीं देंगे ! कोई "विद्वान" गान्धीवादी है, कोई समाजवादी, कोई अम्बेडकर का चेला, तो कोई कम्युनिस्ट हैं , लेकिन सब के सब कट्टर जातिवादी भी हैं ! अद्भुत देश है मेरा भारत महान ! यहां केवल ब्राह्मण बुरा है, वह भी नारायण दत्त तिवारी या जगन्नाथ मिश्र या नेहरू नहीं, बल्कि जप-तप करने वाले वेदमार्गी ब्राह्मण ही सारी कुरीतियों की जड़ हैं !
तो फिर इन दुष्ट ब्राह्मणों की कुरीतियों को ढो क्यों रहे हो ? सारी गैर-ब्राह्मण जातियाँ, जो आबादी की 97% हैं, यदि अन्तर्जाति विवाह करने लगे तो ब्राह्मणों की क्या औकात है जो जातिप्रथा को बचाकर रख पाएंगे ? लेकिन नहीं, सभी मेंढकों को अपना ही कुआँ पसन्द है । इन मूर्खों को यह भी नहीं मालूम है कि भारत की अधिकाँश दलित जातियों का निर्माण ईस्ट इंडिया कम्पनी ने किया : तमाम औद्योगिक जातियों/गिल्डों का रोजगार नष्ट किया, उन्हें खेतिहर मजदूर बनाया, और झूठा नस्लवादी-जातिवादी इतिहास पढ़ाया ।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की एक बैठक में प्रस्ताव आया था कि सभी हिन्दुओं को जातिप्रथा मिटाकर एक सशक्त "हिन्दू" जाति बन जाना चाहिए । एक पण्डित ने उत्तर दिया कि इसके दो रास्ते हैं : या तो सबको ब्राह्मण बना दिया जाय, या फिर सबको शूद्र बना दिया जाय , किन्तु सबको ब्राह्मण बनाना तो दुष्कर है, अतः एक सशक्त "हिन्दू" जाति बनाने का एकमात्र उपाय यही है कि सभी हिन्दुओं को शूद्र बना दिया जाय । वहां किसी ने उस पण्डित की बात का उत्तर नहीं दिया, बहस ही समाप्त हो गयी, लेकिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने उस पण्डित को बुलाना बन्द कर दिया ।
बहस बन्द करने से क्या समस्या समाप्त हो जाएगी ? हज़ारों जातियों-उपजातियों को मिटाकर एक हिन्दू जाति बनाने वालों को यह भी तो सोचना चाहिए कि वसुधैव कुटुम्बकम की डींग मारने वालों को एक हिन्दू जाति के स्थान पर एक मानव जाति की बात करनी चाहिए, जिसमे शान्ति कायम रखने का एकमात्र उपाय है समस्त धर्मग्रन्थों को जलाकर सबको मानवधर्म पढ़ाया जाय ! लेकिन याद रहे, जिसने ईश्वर का साक्षात्कार नहीं किया, उसे धर्म पर प्रवचन देने का अधिकार नहीं है । ईश्वर को तो यन्त्रों द्वारा नहीं देख सकते, लेकिन धर्म के ठेकेदारों की जांच तो लाई-डिटेक्टर यन्त्रों द्वारा सम्भव है ! यदि ऐसा सम्भव हो तो वास्तविक धर्म अपने आप स्थापित हो जाएगा । लेकिन कलियुग के ठेकेदार ऐसा होने नहीं देंगे !
धर्मशास्त्रों में कहीं भी सारस्वत, गौड़, कान्यकुब्ज, मैथिल, द्रविड़, नम्बूदिरी, आदि में ब्राह्मणों का बँटवाड़ा नहीं मिलेगा । ये सारी उपजातियां क्षेत्रों पर आधारित हैं । लेकिन जो भूमि से जुड़ गए वे तो भूमिहार हैं । कलियुग से पहले जो जुड़े उन्हें भूमिहार कहकर त्याग दिया, कलियुग में जो भूमि से जुड़े वे ब्राह्मण बने रहने का ढोंग पालते रहे !
यह सच है कि ब्राह्मण आदिपुरुष के शीर्ष से निकला, लेकिन कलियुग में सिर, हाथ, पाँव और उदर सारे पुर्जे गड़बड़ा गए हैं । हाथ, पाँव और उदर में गड़बड़ी हो तो खुद इलाज करा सकते हैं, लेकिन सिर में गरबड़ी हो तो मरीज स्वाकार भी नहीं करेगा कि वह रोगी है । उसे बलपूर्वक पागलखाने में भर्ती कराना पडेगा । लेकिन सिर ठीक रहे तो हाथ, पाँव और उदर का इलाज करा लेगा । लेकिन उस सिर को क्या कहा जाय जो अपने ही हाथ, पाँव और उदर को शत्रु बना ले ? ब्राह्मण ठीक हो जाय और एकताबद्ध हो जाय तो पूरी सृष्टि को दुरुस्त कर देगा, लेकिन किसकी मजाल है जो ब्राह्मण को सुधार दे ?
Nov 18, 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Jyotisha : eye of Veda

Jyotisha is a limb (EYE) of Veda. Veda is Real Knowledge, hence Jyotisha shows the path to real knowledge.

Jyotisha is not "worldly", worldly asstrologers use it for worldly aims, worldly fellows use even Spirituality for worldly aims. All ancient canons of Hindu Dharmashaastras (eg, Manusmriti) state that Jyotisha cannot be used for earning a livlihood, and those who do so must be expelled from Hindu society and declared a Chaandaala. When I cite such shlokas, many modern asstrologers start abusing me, although I have not written Hindu Dharmashaastras.

Veda has two parts : Jnaanakaanda and Karmakaanda. Jyotisha deals with both, it shows the path in both maargas. Karmakaanda is that set of rules and procedures of performing needful Karmas which fulfil our duties and dharmic wishes without endangering the prospects of Moksha. Jnaanakaanda is the path of real knowledge. Jnaanakaanda is knowledge of Brahm (it is initial statement of Uttara Meemaansaa or Brahmsutra which is famous as Vedaanta philosophy and shows the path of Moksha), and Karmakaanda is knowledge of Dharma (it is initial statement of Poorva Meemaansa). Dharma and Moksha are different Purushaarthas, but Christian influences and Macaulay's educational system has induced Hindus to think like Christians who cannot differentiate Moksha from Dharma. Ancient shaastras define Dharma as the guiding principle of Karmakaanda. Without Dharma, Karmakaanda is reduced to actions performed to fulfill lusts without caring for spirituality.

God created this world neither for His own amusement nor for gratifying our sensory pleasures. The only purpose of Creation is to grant the Jeevas a chance to get rid of Ignorance and Sorrow. But all Jeevas do not understand what is Ignorance, Moksha, Soul, etc, and therefore the Jeeva runs after Desires of all sorts, good and bad, because its Nature is conditioned for such hankering after desires through Habits of innumerable past lives. Therefore, fulfilling Desires is a subsidiary part of Creation. That is why Hindu Shaastras talk of twofold aims of Creation : Bhoga and Moksha. Bhoga has two parts : Artha and Kaama, because Artha is the means of fulfilling all sorts of Kaama. Dharma is the guiding principle which rules over all good or bad Karmas reaching out to or preventing either Bhoga or Moksha. These form the four Purushaarthas ruling over Four Purushaartha-Trikonas of Twelve Houses of Horoscope.

The task of a Jyotishi must be in accordance to this Objective of God or of Veda, because Jyotisha is a limb of Veda. A Jyotishi must not run after worldly fame or money or anything worldly. But most of the clients are not so knowledeable, and come to the Jyotishi for getting help in furthering their worldly ambitions, having almost no interest in spirituality. However, Jyotisha-Remedies are a means to inculcate and encourage a faith in spirituality among clients, because mantra-japa or vratas or similar remedies strengthen the belief in the existence of deities and in the need to follow ethical way of life. Hence, Jyotisha-Remedies are a means of strengthening Dharma (-ethically positive way of life, this is the original meaning of Dharma which applies to atheists also and has nothing to do with various sampradaays or religions). There are three types of clients : (1) atheists, who will abuse astrology and will never follow Jyotisha-remedies, (2) moderates, who will come to Jyotishis for their selfish ends during their bad periods, but will never change their way of life after their bad period is over ; and even during their bad periods they will try their best to keep as much away from any ethical improvement in lifestyle as possible, and (3) believers, who will sincerely try to change their Karmic loads through transforming themselves ethically. Jyotishi must prescribe Remedies according to the nature and cpabilities of the client. The client's aim is worldly gain, while the Jyotishi's aim must be to improve the character and Karmas of the clients by means of Jyotisha-Remedies. Only rarely any client asks for Jyotisha-Remedies for spiritual advancement, but the Jyotishi must never forget that spiritual advancement is the real purpose of Jyotisha because it is Eye of Veda and must show the path of spiritual well being of everyone.

Adhyaatma is Svabhaava, Swaroopa-avasthiti, Being Oneself, to Know the real self and be situated in it without pertubations caused by the Chitta, hence Adhyaatma is Samaadhi.

Without Adhyaatma, everything is meaningless. Ishopanishada is last chapter of Yajurveda (hence, such a philosophy is called "Vedaanta"). It says that by means of Avidyaa (=Karmakaanda) get beyond Death, and by dint of (Brahm-) Vidya, remain permanently in the realm of Immortality. Here, Avidyaa is not Igrorance of Shaastras, here Avidya is Ignorance of Brahm-vidyaa or of Spiritual Knowledge. This type of Avidyaa is an essential tool for being able to get into real Vidyaa.

But in Kaliyuga, Karmakaanda has been distorted beyond repair. Therefore, spirituality is now almost completely separated from Karmakaanda. But Tapasyaa is a part of Karmakaanda, and various forms of Tapasyaa are essential ingredients of Spirituality, although there are thugs masquerading as Masters who preach good things about spirituality but do not prohibit lust for carnal pleasures.
20-21 Nov, 2015 ; VJ
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Fate and Free Will, and Dvaita versus Advaita

Dvaita is not the Material World versus God ; it is misinterpretation by modern materialists. Dvaita is Adi-Prakriti versus Purusha. Both are avyakta, and both are eternal, because both are outside Time. Adi-Prakriti is Adi-Shakti, or Durga, which is Durgam, where no one can reach and no one should try to reach, like the 24th avyakta syllable of Gayatri Mantra, only 23 elements of Prakriti are vyakta (manifest). She is the Active Principle of Creation, Purusha is the passive onlooker : the perceiver with Saakshi Bhaava (witness, not a

But in the end, Adi-Prakriti is a Kriti, because Shakti cannot exist without the Shaktimaana, nothing can exist outside Pure Consciousness which is Purusha and everything else is mere Idea in this Consciousness. Vedic Thought is Absolute Idealism. But to go to that level of Pure Consciousness, complete Pratyaahara (retraction of Indriyas) and perfect Dhyana/Samadhi is essential, otherwise individual consciousness cannot go beyond Dvaita.

Creation is not merely material world, the latter is merely a secondary part of Creation. Creation is not eternal, it is cyclic : Cteared and Annihilated, and so on.

Prakriti is Great, but it is after all only a Kriti. Dvaita has no standing before the Vedic philosophy of Vedaantic Advaita whose fountainhead is the last verse of Maadhyandina Shukla Yajurveda (which is the last verse of Maadhyandina Isopanishada) :
"hiraNyamayena pAtreNa satyasy apihitaM mukhaM, yo asau Aditya puruSHa so asau ahaM; Om khaM brahma."

hiraNyamayena pAtreNa satyasy apihitaM mukhaM = The mouth of Satya is covered/hidden by the golden lid (hence remove this lid to find the Satya which is as follows:)
yo asau Aditya puruSHa so asau ahaM = I am the same Purusha which is in the Aditya (advaita ; Purusha is One and indivisible).
Om khaM brahma. = Brahm is the void Akasha (not the panch-bhautika Akasha, but the Chidaakaasha)

The Golden Lid is the panch-bhautika Pra-pancha or Indrajaala alluring and captivating the Indriyas. This material world is the Golden Lid which hides Satya. The only purpose of material world is to provide fruits (bhog) to those Jeevas which are in bounded state and have desire for fruits.

Fate is only the guiding principle. Fate does not bind us completely, we have free will also. As Arjuna said in Mahabharata, Phala or resultant event is the product of Praarabdha (Fate) and Purushaartha.

When Lion eats a deer, it is not himsaa by Lion because Lion has no free will here, Lion is bound to Fate completely and cannot survive without eating other animals. But humans have Free Will. All actions are not Karma. Karma is that action which has been performed for Sakaama Phala and guided by Free Will (where we have multiple options). Only such a Karma produces those Phala which add up to future Fate.

Such Karmas are both good (sat) and bad. Jupiter or Venus or other planets guide the timings, magnitude and quality of fruits we have to receive, but these planets do not create those fruirs. We are the creator of those fruits through our past Karmas. Fate is the set of past Karma, and its Kriyamaana portion is active in the present birth.

Hence, Sat-karma needs to be done, Mr JT is absolutely correct. But sat-karmas produce good fruits, and we have to get new births to taste those good fruits, or go to Heaven temporarily to enjoy those fruits. Moksha is getting rid of the web or all Karmas, both sat and asat, and it is possible only by means of giving up of all desires. Sakaama Karma creates new desires and strengthens old desires, hence Sakaama Karma must be avoided. Necessary Karmas should be performed without desire (Nishkaama), they they fail to produce new segments in the chain of Fate.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Budha-Avatāra of Lord Vishnu

Budha-Avatāra of Lord Vishnu has been misinterpreted during modern era to mean Gautam Buddha as Avatāra of Lord Vishnu, although no contemporary or post-Buddhist record supports this idea, and it is based on Europian propaganda of holding Purānas to be later creations by brahmins who wrote false books to befool and rob the public. Anti brāhmanical propaganda was essential part of Indological research because conversion of India to Christianity could be possible only after antagonizing the entire Hindu society against brahmins.

BPHS (Brihat Parāshara Horā Shāstra) gives a correspondence of avatāras of Lord Vishnu with astrological Grahas. While doing so, BPHS gives a summary of the Purānic view, which is as follows.

There are ten avatāras of Lord Vishnu in total, of which four are Poornāvatāras and the remaining six are amshāvatāras (partial incarnations). BPHS gives the order of avatāras only in sequence of their correspondence with Nava-grahas, omitting Kalki avatāra. But let us first consider the Purānic sequence of avatāras in chronological order of four yugas in a mahāyuga.

There were four avatāras of Lord Vishnu during Satyuga : Matsya, Koorma, Varāha and Nrisimha.

During Tretā, there were three avatāras : Vāmana, Parshurāma, and Rāma.

During Dvāpara, there ought to be two avatāra and in Kaliyuga only one avatāra so that the number of avatāras should be equally distributed according to durations of yugas. There are ten yugapādas in a mahāyuga, of which satyuga has a duration of 4 yugapādas, treta 3, dvāpara 2 and Kaliyuga one yugapāda. One yugapāda is equal to 432000 human years or 1200 divine years.

Therefore, the two avatāras of Dvāpara ought to be Budha and Krishna, and one in Kaliyuga should be Kalki.

There is another formula for computing the number of Poornāvatāras : divide the number of total avatāras in a yuga by two and take the integral value which denotes the number of Poornāvatāras. Thus, Satyuga should have two Poornāvatāras (Vārāha or Sookara, and Nrisimha, as BPHS also tells us), Tretā should have only one : Rāma, Dvāpara should have only one : Krishna, and Kaliyuga zero, because one divided by two is half, and there cannot be any half avatāra.

If Budhāvatāra is assumed to be Gautama Buddha, then Dvāpara should have zero Poornāvatāra and Kaliyuga should have one.

Again, Poornāvatāras come at the end of yugas. Hence, if Gautama Buddha was an avatāra of Lord Vishnu, then Kalki must be a Poornāvatāra and therefore Kalki must not be ignored in the list of association of avatāras with Navagrahas.

Dashāvatāra concept of Lord Vishnu is part of kernels of major Purānas, but colonialist Indologists said that Purānas were false books written in post Buddha period, and the reason was that Purānas contained histories which were so ancient that it was difficult to verify them, esp when all modern methods of verification were in control of anti-Hindus. For instance, Indikā (of Megasthenes) states there were 153 generations of kings mentioned in Indian chronicles. These chronicles cannot be any other text than Purānas. Yet such evidences are ignored by anti-Hindus. This post-Buddhist British theory about Purānas is the reason behind Gautam Buddha being equated with Buddhāvatāra.

But actually, Budhāvatāra was the chief deity of entire Dvāpara yuga because the chief dynasty of Dvāpara was Chandra-vamsha, esp Kaurava vamsha, which started from the offspring of Budhāvatāra. Pururavā, the first King of Lunar Dynasty and ancestor of Kauravas and Pāndavas, was the son of Budha. Other avatāras were associated with Grahas, but Budhāvatāra was same as the Graha of this name.

Ten yuga-pādas of a mahāyuga having ten avatāras of Vishnu means each mahāyuga must have ten avatāras to uphold Dharma in each mahāyuga.

There is another false theory about putting Lord Rāma about 18 million years before now because some Purānas mention that Rāmāvatāra took place in 24th mahāyuga. Current mahāyuga is 28th. But it must not be forgotten that some parts of Purānas count yugas from the beginning of Kalpa while other parts of Purānas count from the beginning of Srishti, both having a difference of four mahāyugas. Hence, current Rāmāvatāra took place at the end of current Tretā yuga according to Vedic-Purānic concepts (Vedas also mention these yugas).

श्री मद-भागवत पुराण (स्कन्ध 1- अध्याय 3- श्लोक 1 से 25) में 22 अवतारों का वर्णन है जिनमें असल में 26 अवतारों का नाम सहित उल्लेख है, और अवतारों का गलत क्रम दिया गया है, जैसे कि श्री राम को 18वाँ और व्यास जी को उनसे पहले 17वाँ अवतार कहा गया है ! अतः ये श्लोक किसी मूर्ख ने बाद में जोड़ें | अन्य ग्रन्थों में 24 अवतारों का वर्णन है | "मोहिनी" के सिवा सारे अवतार पुरुष हैं | वैष्णवों में श्री मद-भागवत पुराण को सबसे अधिक सम्मान प्राप्त हैं, किन्तु श्रीराम जी व्यास के बाद आये थे ? बुद्धावतार पर भी गलत सूचना है | अन्य त्रुटियाँ भी हैं, जिनका यहाँ उल्लेख विस्तार्भय के कारण उचित नहीं |
अवतारों की संख्या अनन्त होती है | वे दो प्रकार के होते हैं : दशावतार और अन्य अवतार | दशावतार के पहले नौ अवतार नौ ग्रहों से आते हैं जो प्राणियों को कर्मों का फल देने के लिए बने परमात्मा के ग्रह रूपी अवतारों से निकलते हैं | दसवां है कल्कि जो महायुग की समाप्ति में आते हैं | ये दश अवतार हर महायुग में आते हैं | अन्य दिव्य अवतार 14 हैं या 16 यह संख्या गिनना महत्वहीन है | दशावतार भी दो प्रकार के होते हैं : चार पूर्णावतार जो चारों युगों के अन्त में आते हैं (कल्कि के सिवा), तथा और छ अंशावतार | इन अंशावतारों में भी परमात्म-अंश अधिक होता है, जीवांश अल्प रहता है | इनके अलावा अनन्त अंशावतार होते हैं जिनमें जीवांश अधिक रहता है और परमात्म अंश गौण रहता है, इनमें सारे जीव आते हैं | यह बात श्री मद-भागवत पुराण से लेकर बृहत्-पराशर-होरा-शास्त्र जैसे अनेक आर्ष ग्रन्थों में लिखी हैं |
29 Nov 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

The Purpose of Vastu (Vāstu)

The purpose of Vāstu has been wrongly perceived by modern experts of Vāstu who are actually influenced, often unknowingly, by western concepts of Vāstu in which the chief purpose of Vāstu is fulfilment of desires and needs of the human being. The chief aim of Western Vāstu is actually intellectual theft of Indian concept of Satyam-Shivam-Sundaram : Satya for them means durability of the building, Shivam means usefulness of the construction, and Sundaram means aesthetically pleasing construction , but this is atheistic Vāstu. Indian Vāstu puts these concerns to the background, and defines Vāstu primarily as the means to attain Dharma. Dharma is the code of rules defining proper Karma in this world, and therefore Dharma is related to Karmakānda. Hence, Grihastha ashrama is the ashrama of performing Dharma and Karmakānda. Read the texts of Grihya-sutras, which are nothing but manuals of performing Dharma. Griha, is therefore, is secondarily a place for providing durable and useful and beautiful dwelling for the mortal, the primary function of Indian Vāstu is performance of Dharma. All other ashramas are dependent on Grihastha ashrama. Hence, Vāstu must be observed for all constructions in martya loka, whether public or private. That is why the basic template of Indian Vāstu is same for private building, or a temple, or a village or a town. All compartments of Vāstu are presided by some deity and the central portion signifies the Akasha which is Brahman.

When you undertake a "samkalpa", it must be remembered that it is the property of "mana" which is not 'mind' in the modern sense, but one of the 13 elements of Kārana-shareera which accompanies the Jeeva from one birth to next. A sanyasi's aim is not to follow various samkalpas of Mana, but to stop the Mana from making samkalpas . Samkalpas are merely wishes ('kāma'). Kalpa means creation of something which does not already exists, ie, creation of Apoorva which is not in the poorva (it is a technical term of Poorva-mimānsā). When Karmakāndic Vedic rituals are followed correctly, Mana has the power to create the Apoorva out of Samkalpa of the chief priest in a yagya known as Brahmā who must observe Mauna (Mauna is the natural property of Mana according to Sanskrit grammar and philosophy, but Mauna is actually asampragyāta samādhi according to Brihadārnyakopanishada). This power of Mana in Yagya cannot be realized by any Vedic purohita now due to degradation in Vedic learning. Hence, now the only way of fulfilling samkalpa is unrestrained non-Vedic sakāma karma even when yayga is apparently performed to fulfill desires.

Worshipping deities, going to temples, performing yagyas, etc are not part of Sanyāsa. Sanyāsa is samyaka nyāsa of Chitta, nirodha of all vritttis of the chitta and consequently getting into one's real svaroopa through Mauna or Asamptagyāta-samādhi. All avasthās of Chitta different from samādhi are merely Vyādhi because they cover the Sat with Māyā by means of following the desires of the Chitta-vrittis. Upāsanā of deities may be helpful in attaining sanyāsa, but upāsanā is not sanyāsa, because as long as there is difference between Bhakta and Bhagwāna, there is Dvaita and therefore oneness of individual spirit with the Cosmic is unrealized. Hence, even Vāstu dealing with construction of temples is not for Sanyāsa.

There was no Jyotisha or Vāstu in Satyuga, because Jyotisha or Vāstu deal with Asat and cannot exist in the yuga of Sat. Even Suryasiddānta was given at the end of Satyuga, ie, for other yugas. Try to collect all references of Satyuga in classics by rishis.

Your ideas about Vāstu are correct, excepting your ideas about its application for sanyāsis, and lack of understanding of the proper definition of Vāstu as I have provided above. But many Kaliyugi sanyāsis may like your ideas, and those who like my ideas are mostly away from Internet, hence you win in this Martyaloka of Asat.

Vāstu is for Grihasthas, not for Sanyāsis. Veda has two parts : Karmakānda and Gānakānda, Poorva-mimānsā deals with the former and call the topic as Dharma ("athāto dharma jigyāsā"), and Uttara-mimānsā deal with the latter and calls the topic as Brahm ("athāto Brahm jigyāsā"). A sanyāsi has no right to make houses for his selfish purposes, or doing anything for sakaama-karma.

Anything which resides in Kāla is Asat, because Sat is always in Sattā and never changes into something else. Hence, the only Sat is Brahman (and its manifestations as Atma, which is exactly same as Brahm). Practical knowledge of this Atmagyāna or Brahmgyāna is Gyāna according to upanishadas. But anything which resides in Kāla cannot be changeless. Past is gone and future has not arrived, hence it is only the Vartamaaāna which actually exists. But actually, you cannot decide the duration of Vartamāna because Vartamāna has no length in Time. Kāla, therefore, is not an Absolute Truth but merely a Relative phenomenon (Einstein also proved so). Gyāna can be apprehended only when you transcend the bounds of Kāla and go into the realm of Sat.

Everything perceived by sense organs are false things and do not exist in reality, it is only one and all-unifying Brahman which resides everywhere and manifests itself variously. But this manifestation of Brahman has two forms : Sat such as Atma or various deities, purusghas, etc, and Asat which is built up of the sensorily perceived world of Māyā. Five Mahābhootas are merely Objects of Indriyas, and Indriyas perceive the five Tan-mātras inside the Mahābhootas. The only raison-de-etre of these Mahābhootas and their Tan-mātras as well as Indriyas is fulfilment of DESIRE in the Jeeva, but as soon as the Jeeva attains Moksha through Gyāna, it gets rid of Chitta and its vrittis and tattvas such as 13 karanas and ten bhootas-plus-mātras, and then the state of Jeeva comes to an end and the individual soul never returns to Jeeva state and gets one of four possible states of Moksha.

Not only Vāstu, but Jyotisha and Karmakānda (=Dharma) are also for wish-fulfilment only and are not part of Gyāna. Veda has two parts : Karma and Gyāna. Vāstu comes with the former, not the latter.
1 Dec 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

किसानों की लूट

जब से बिहार (पाटलिपुत्र) का पतन हुआ, तब से देश गुलाम है , यह सत्य बिहार को गरियाने वाले जिस दिन स्वीकार लेंगे उस दिन से देश का उद्धार हो जायेगा ! बिहार आकर ऐसे ही लोगों ने सारे बिहारियों को भाजपा के चुनाव अभियान से दूर कर दिया जिस कारण भाजपा की दुर्गति हो गयी ।
फिर भी बिहार से घृणा दूर नहीं हो पा रही है ! बिहार (और पूर्वांचल यूपी) से घृणा का कारण है इस क्षेत्र की गरीबी । यह गरीबी हमेशा से नहीं थी । 1857 का विद्रोह बिहार और पूर्वांचल यूपी में जन-विद्रोह था, अन्य क्षेत्रों में केवल कुछ विक्षुब्ध राजे-रजवाड़ों ने ही विद्रोह में भाग लिया । यही कारण था कि अंग्रेजों ने बिहार और पूर्वांचल यूपी का आर्थिक और राजनैतिक विनाश करने की योजना बना ली ताकि यह क्षेत्र फिर कभी सिर न उठा सके । पंजाब ने 1857 में 40000 सैनिक अंग्रेजों की सेवा में भेजी थी जिस कारण वहां नहरों का जाल अंग्रेजों ने बिछा दिया, नेपाल ने भी ऐसा ही किया तो उन्हें आज़ाद देश मान लिया । नेहरू ने अंग्रेजों की नीति को ही आगे बढ़ाया, बिहार को वर्ल्ड बैंक द्वारा दिए गए कोसी हाई डैम के पैसे से भाखड़ा-नांगल डैम बनवाया, ब्रिटिश काल में बिहारियों ने निजी धन से जो कुछ भी उद्योग लगवाए उन्हें बलपूर्वक बन्द करवा दिया । मेरे जिले में छ बड़े कारखाने ब्रिटिश काल में थे , आज एक भी नहीं है : दुनिया में ऐसा अन्य कोई क्षेत्र नहीं मिलेगा जहां शून्य उद्योग हो ! बिहार को उपनिवेश बनाकर लूटा जा रहा है , और इस लूट में पटना का उच्च वर्ग भी शामिल है । शेष बिहार तो गुलाम है, गालियां सुनने के लिए मजबूर है । लेकिन बिहार की मेधा यही है कि UPSC में 40% बिहारी उत्तीर्ण होते हैं (यह पुराना आंकड़ा है जब मैं कॉलेज में था)। लूट-खसोट करने वाले मेधा से तो जलेंगे ही । यादव (RJD), कुर्मी (JDU) और मुस्लिम के सिवा सभी समुदायों के 77% से 89% ने भाजपा मोर्चे को मत दिया, लेकिन भाजपा अपनी गलती और भीतरी फूट के कारण हारी जिसके बाद गरीब राज्य से घृणा करने वाले पूरे बिहार को गरिया रहे हैं ! आज भी बिहार के बैंकों में बिहारियों द्वारा जो धन जमा किया जाता है उसका 66% धनी राज्यों को दिया जाता है, ताकि बिहार के लोग रोजगार के लिए वहां जाने के लिए मजबूर हों और लूटेरों की गालियां सुनते रहें ।
जब पूरे देश का सत्ताधारी वर्ग बिहार और पूर्वांचल यूपी को उपनिवेश बनाकर रखना चाहे, वहां सही जागृति न होने दे, इसलिए शिक्षा को भी जानबूझकर नष्ट करे, मीडिया और नेताओं द्वारा जातिवाद को जानबूझकर बढ़ावा दे, तो बिचारे बोले भाले लोग क्या कर लेंगे ? तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग भी तो गरीबों का साथ नहीं देता , सेठों की मीडिया के प्रचार में बहकता है ।
कार्ल मार्क्स ने दास कापिताल में साफ़ लिख दिया था की श्रम की लूट से ही पूँजी का विकास होता है ,पूँजी से पूँजी पैदा नहीं होती (कर्म का भारतीय सिद्धान्त भी यही सिखाता है) ; और यह भी लिखा था कि जबतक कृषि को अलाभकर धन्धा बनाकर किसानों को खेत से बेदखल न करवाया जाय तबतक पूँजीवाद का विकास सम्भव नहीं ।
पंजाब से मुम्बई और चेन्नई तक के पूँजीपतियों का विकास तभी सम्भव है जब उन्हें खेतों से मुक्त "सर्वहारा" सस्ता श्रम अबाध रूप से मिलता रहे । यह सत्ताधारी पूँजीपति वर्ग की नीति है, अतः सभी सत्ताधारी राजनैतिक दलों की भी यही नीति है ।
यही कारण है कि कांग्रेस का राज हो या भाजपा का, कोयला माफिआ द्वारा कोलगेट घोटाला करके जब आदिवासी बहुल क्षेत्रों के विशाल खनिज सम्पन्न भूभाग नवीन जिन्दल जैसे सेठों को गलत तरीके से दिए जाते हैं तो अपनी पुश्तैनी जमीन से बेदखल होने वाले गरीब लोगो को नक्सल बनने के लिए विवश कर दिया जाता है, गैरकानूनी सलवा जदूम फ़ौज बनवाकर भारत के गरीब नागरिकों का आखेट करवाया जाता है । नक्सलवाद का उपचार समुचित और सन्तुलित विकास है, न कि जनता का दमन । जिस दिन भारी आबादी वाले बिहार-यूपी जससे खेत्रों में नक्सलवाद फैल जाएगा उस दिन देश को बचाना असम्भव हो जाएगा, क्योंकि चीन के नेतृत्व में चारों और शत्रुओं से हम पहले ही घिरे हुए हैं । नक्सलवाद सबसे खतरनाक जहर है जिसका समय से पहले उपचार आवश्यक है ।
राजनैतिक अर्थशास्त्र युनिवर्सिटियों में पढ़ाया नहीं जाता । आज भी 60% से अधिक भारतीय कृषि पर निर्भर हैं , लेकिन राष्ट्रीय आय का छठा भाग कृषि से आता है ! इसका अर्थ यह है कि कृषि पर निर्भर लोगों, जो देश का बहुमत हैं, की प्रति व्यक्ति आय अन्य लोगों की तुलना में नौ गुनी कम है ! क्यों कम हैं ? क्योंकि किसानों को अपने श्रम का उचित मूल्य नहीं मिलता जबकि उन्हें जो चीजें खरीदनी पड़ती हैं उसका मंहगाई तेजी से बढ़ती है । तीस साल में खाद्य पदार्थों और अन्य वस्तुओं के मूल्यों में सापेक्ष वृद्धि कितनी हुई इसके आंकड़े देखेंगे तो विश्वास नहीं होगा कि किसान भी इस आज़ाद देश के आज़ाद नागरिक हैं ! उन्हें आत्महत्या के लिए मजबूर किया जा रहा है । दूसरी ओर सरकारी अफसरों और विश्वविद्यालयों में कुर्सिया तोड़ने वाले निठल्ले प्रोफेसरों का वेतन अमेरिका के प्रोफेसरों से भी अधिक है । सबूत पेश है :-
रुपया-डॉलर के एक्सचेंज-रेट के अनुसार भारत के प्रोफेसरों को साल में लगभग 37000 डॉलर के तुल्य वेतन मिलता है । लेकिन विकिपीडिया में परचेसिंग-पावर-पैरिटी में राष्ट्रीय आय के वर्ल्ड बैंक के आँकड़े देखें : रुपया-डॉलर के एक्सचेंज-रेट 65 है लेकिन एक डॉलर में जितना सामान खरीदा जा सकता है उतना सामान केवल 18 रूपये में खरीदा जा सकता है । अतः भारतीय अफसरों और प्रोफेसरों का वास्तविक वेतन 37 नहीं, बल्कि 134 हज़ार डॉलर वार्षिक है, जो दुनिया के किसी भी देश में किसी अफसर या प्रोफेसर को नहीं मिलता । दूसरी और देश की बहुमत आबादी आत्महत्या के कगार पर पँहुच गयी है. क्योंकि 1980 ईस्वी में 8 से 10 रुपये किलो आम चावल और 20 रुपये किलो बासमती चावल मैं खरीदता था जबकि आज 60-70 रूपये किलो बासमती और उसके आधे में आम चावल बिकता है (एक्सपोर्ट क्वालिटी नहीं, खुले चावल की बात कर रहा हूँ)। इसके विपरीत दूसरी चीजों की मंहगाई 15 - 20 गुनी बड़ी है ! इसका अर्थ यह हुआ कि किसानों की आय में लगभग 5 से साढ़े पाँच गुने की गिरावट आयी है ! 1980 में मैंने चौधरी चरण सिंह की इसी विषय पर लिखी पुस्तक पढ़ी थी जिसमे 1980 से पहले इसी प्रकार से किसानों की लूट का खुलासा किया गया था । उसे भी जोड़ लें तो आज़ादी के बाद से किसानों की आय जानबूझकर लगभग दस गुना घटाई गयी है । किसानों के पास दो ही विकल्प हैं : या तो आत्महत्या करें या फिर गाँव छोड़कर शहरों में मजदूरी करें और गाली सुनें । लूट का अधिकाँश हिस्सा बड़े सेठ लेते हैं, कुछ बुद्धिजीवियों को भी बांटा जाता है जो विकसित देशों का "स्टैण्डर्ड अव लिविंग" का मजा ले रहे हैं । गरीबों को लूटने वाले ये टुकड़खोर बेशर्मी से खुद को "बुद्धिजीवी" कहते हैं ! बुद्दिजीवी तो उसे कहना चाहिए जो देशहित में बुद्धि का सदुपयोग करे ! इससे भी अद्भुत बात तो यह है कि गरीबों की लूट को रोकने की कोई बात करे तो उसे झटपट नक्सल कह दिया जाता है !
2 Dec 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

भारतीय गणित की प्राचीनता

चीनी भाषा में माँ को माँ कहते हैं । अंग्रेजों के चाकरों की किताबों ने मुझे सिखाया कि चीन की सबसे महत्वपूर्ण नदी का नाम ह्वांग-हो है । जब इंटरनेट के माध्यम से मैंने उसका वास्तविक उच्चारण पता किया तो "ग्वङ्गो" निकला, अर्थात "गङ्गा" का अपभ्रंश ! अफ्रीका में विषुवत पर सबसे ऊंचे पर्वत को प्राचीन भारतीय ग्रन्थों में मेरु कहा गया है (जिसका एक छोड़ उत्तर ध्रुव में सुमेरु तथा दक्षिण ध्रुव में कुमेरु कहा जाता था, बीच में विषुवत पर मेरु था)। अंग्रेजों ने इसका नाम बदलकर माउण्ट केन्या कर दिया, यद्यपि "किनयन-गिरी" कुछ ही दक्षिण तंजानिआ में है । माउण्ट केन्या की तलहटी में आज भी मेरु नाम का नगर है जो मेरु प्रान्त की राजधानी है और वहाँ की भाषा का नाम भी मेरु है । आजकल उन्हें ईसाई बनाने में मिशनरियाँ बहुत सक्रिय हैं । किन्तु संस्कृत का अफ्रीका से चीन तक के सम्बन्धों को छुपाकर यूरोप वाले हमें सिखाते हैं कि आर्य पूर्वी यूरोप और द्रविड़ भूमधसागरीय तटवर्ती क्षेत्रों से आये, ऑस्ट्रेलॉयड और नेग्रिटो अफ्रीका से आये, तथा मंगोलॉयड चीन-मंगोलिया से आये, जैसे भारत मनुष्य की उत्पत्ति के लायक था ही नहीं । सच्चाई उल्टी है : भारत संसार का एकमात्र देश है जहां संसार की सभी नस्लें हैं, दूसरे किसी देश में सारी नस्लें क्यों नहीं गयी ? माउण्ट एवेरेस्ट से बहुत ऊंचा है मेरु, बशर्ते भूकेन्द्र से दूरी को पैमाना माने, न कि काल्पनिक समुद्रतल से (प्रमाण नीचे है)। भूव्यास हर जगह एक समान नहीं है, अतः समुद्रतल एक जैसा नहीं है । पुराणकारों का गणित अंग्रेजों से बेहतर था । ग्रीक लोगों ने ईसा से तीन सौ वर्ष पहले जाना कि पृथ्वी गोल है, जबकि "भूगोल" शब्द उससे बहुत पुराना है और प्राचीन ग्रन्थों में है ।
एक उदाहरण प्रस्तुत है :-
महाभारत में वेद व्यास जी ने लिखा है कि जब जरासन्ध ने मथुरा पर अपनी (तन्त्र द्वारा सिद्ध) गदा फेंकी तो वह मथुरा के बगल में मगध की राजधानी गिरिव्रज से 99 योजन दूर जाकर गिरी । परम्परागत पञ्चाङ्गकारों द्वारा सर्वमान्य और वराहमिहिर द्वारा सर्वोत्तम माने गए सूर्यसिद्धान्त के अनुसार भूव्यास 1600 योजन का है । गूगल अर्थ द्वारा गिरिव्रज और मथुरा के अक्षांशों का औसत निकालकर फल का कोज्या (कोसाइन) ज्ञात करें और उसे विषुवतीय अर्धव्यास से गुणित करें, इष्टस्थानीय भू-व्यासार्ध प्राप्त होगा । इसे मथुरा और गिरिव्रज के रेखांशों (Longitudes) के अन्तर से गुणित करें, फल 98.54 योजन मिलेगा, जो पूर्णांक में 99 योजन है । इसका अर्थ यह है कि व्यास जी ने पृथ्वी को गोल मानकर उपरोक्त गणित किया था । गौतम बुद्ध के काल में मगध की राजधानी राजगीर थी, गिरिव्रज तो महाभारत के मूल कथानक के काल की प्रागैतिहासिक राजधानी थी । ऐतिहासिक युग में योजन का मान बढ़ गया था, विभिन्न ऐतिहासिक ग्रन्थों में भूपरिधि सूर्यसिद्धान्तीय मान 5026.5 योजन के स्थान पर केवल 3200 योजन बतायी गयी । अतः स्पष्ट है कि वेद व्यास जी का गणित पूर्णतया शुद्ध था और अतिप्राचीन था । अब बतलाएं, क्या पृथ्वी के गोल होने और पृथ्वी के व्यास की खोज ग्रीक लोगों ने ईसापूर्व तीसरी शताब्दी में की ?
माउण्ट एवरेस्ट का अक्षांश है 27:59 । विषुवतीय एवं ध्रुवीय भूव्यासार्धों में अन्तर है 21772 मीटर , अतः माउण्ट एवरेस्ट के अक्षांश पर भूव्यासार्ध का मान विषुवत पर स्थित मेरु पर्वत के पास के भूव्यासार्ध से 6769 मीटर कम है, जबकि माउण्ट एवरेस्ट की समुद्रतलीय ऊँचाई मेरु की समुद्रतलीय ऊँचाई से 3649 मीटर अधिक है । फलस्वरूप भूकेन्द्र से मेरु-शिखर की ऊँचाई भूकेन्द्र से एवरेस्ट-शिखर की ऊँचाई की तुलना में 3120 मीटर अधिक है , दोनों में कोई तुलना ही नहीं है ! पृथ्वी के महाद्वीपीय भार का विषुवतीय केन्द्र पर्वतराज महामेरु ही है जो पृथ्वी के घूर्णन पर जायरोस्कोपिक नियन्त्रण रखता है और सम्पात-पुरस्सरण (precession of equinoxes) का भी केन्द्र है (न्यूटन ने प्रिन्सिपिया में विषुवतीय अफ्रीका के पर्वतीय उभार को पृथ्वी के घूर्णन का जायरोस्कोपिक नियन्त्रक बताया था) । पुराणकारों का गणित अंग्रेजों से बेहतर था न ! फिर भी अंग्रेजों ने मेरु पर्वत नाम बदलकर माउण्ट केन्या कर दिया और पौराणिक गणित को कपोरकल्पित घोषित कर दिया ! मेरुपर्वत की सबसे बड़ी विशेषता है कि चारों ओर के धरातल की तुलना में यदि ऊँचाई मापी जाय तो यह संसार का सबसे ऊँचा पर्वत है, सपाट धरातल पर पाँच किलोमीटर ऊँचा पिरामिड है जिसकी नक़ल में मिश्र के पिरामिड बनते थे और दक्षिण सूडान में प्रागैतिहासिक मेरु साम्राज्य था (माउण्ट एवरेस्ट आसपास के धरातल से केवल 300 मीटर ऊँचा है)।
ग्रीक लोगों ने प्राचीन सभ्यताओं के सारे ज्ञान का जो थोड़ा सा हिस्सा समझा उसे अपने नाम से लिखकर सिकन्दरिया के विशाल पुस्तकालय में आग लगा दी और विरोधियों को मौत के घाट उतार दिया । सिकन्दर तो इतना क्रूर था कि अपने बाप फिलिप को पटककर चाकू भिरा दिया था, गुरुभाई कैलीस्थीनीज (प्राचीन ग्रीक में उच्चारण "कालीस्थानी", ग्रीक में अन्तिम "स" का उच्चारण नहीं होता था) को सूली पर टाँग दिया, और भारत में दिगम्बर साधु महात्मा दाण्डायण को जबरन पकड़ लाने के लिए सिपाहियों को भेजा लेकिन सिपाहियों ने हिम्मत नहीं की तब स्वयं गया, मेगास्थनीज ("महास्थानी") ने दाण्डायण को "दमदमी" लिखा !
हमारे इतिहासकार भी इन बातों पर ध्यान नहीं देते, उन्हें रामायण, महाभारत और पुराणों में ज्ञान की कोई बात नहीं दिखती, जबकि भारतीय संस्कृति इन्हीं ग्रन्थों पर आश्रित रही है ; वेद कितने लोग पढ़कर अर्थ लगा सकते हैं ? रामायण, महाभारत और पुराणों के माध्यम से ही वैदिक धर्म और संस्कृति बची हुई है जिसे मिटाने में हमारे "सेक्युलर" बुद्धिजीवी रात-दिन परिश्रम करते रहते हैं । एक भी "सेक्युलर" बुद्धिजीवी को संस्कृत भाषा का भी ज्ञान नहीं है, उनके विदेशी आका जो लिखते हैं उसे ये लोग तोते की तरह दुहराते रहते हैं । कोई बहस करे तो उसे इतिहास का भगवाकरण कहकर चिल्ल-पों मचाते हैं, शराफत से शास्त्रार्थ भी नहीं करते । अतः इन बदमाशों का एक ही इलाज है : असहिष्णुता पूर्वक इनके सारे पद, सारी उपाधियाँ और सारे पुरस्कार छीन लिए जाएँ । असत्य और अनाचार को सहना अधर्म है, सहिष्णुता नहीं । सहिष्णुता है सत्य की ओर जाने वाले अपने मार्ग से भिन्न दूसरे सत्य मार्गों को सहन करना , सभी सच्चे पन्थों का सर्वपन्थ-समभाव की भावना से आदर करते हुए अपने पन्थ पर चलना ।
12 Dec 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Advaita

Existing entanglements cannot be undone by means of any amount or type of Karma, only real Gyaana (Jnaana) can do it which ensures Moksha by disengagement from Karmas. Moksha is never a fruit of any Karma. In a state of Gyaana, Karma loses the power to bear fruits : here fruit means those things which must be tasted by the Kartaa as a result of Karma. Duties for keeping the body alive and similar duties do not create such fruits for a Gyaani. That is why only Nishkaama Karma should be performed by Gyaani. In this sense Karma and Gyaana are two wings of a Hamsa : the former is Avidyaa (ie, Karmakaanda) helping in getting across the sea of Death and the latter helps immortality of Moksha (-Ishopanishada, "avidyayA mrityuM tIrtvA…."). That ultimate Vidyaa is summed up in the last verse of Ishopanishada of that shaakhaa of Veda which is the chief Veda of over 90% of people in Aryaavarta ("hiraNyamayena pAtreNa…" — Maadhyandina shaakhaa of White Yajurveda of Rishi Yaajnavalkya).
There are two types of fruits of a normal Karma : one is the worldly result of a Karma which everyone sees, and the other is the fruit attaching to the Samskaara. Samskaara is the sum total of fruits of all past Karmas of all lives, and it operates in the form of similar new desires residing in the Indriyas. Entire set of Samskaara need to be burnt out for attaining Moksha. No individual can do so on his/her own, but if the person is sincere then the shortfall is overcome with Divine Grace. After that, the difference between Bhakta and Bhagwaan vanishes, and only 'One' exists everywhere. There is a beautiful meaning of the name of Albert Einstein (ein-st-ein): "One is One", ie, the individual One is same as the Cosmic One. Same is the meaning of the last verse of Maadhyandina Ishopanishada.
It is wrong to say that this or that text is the finest text of Vedaanta, because there are many texts on Vedaanta by rishis and I do not like comparing rishis. Vedaanta is originally the last chapter of the chief Veda : Yajurveda (the Veda of Yajna is the chief Veda), which is famous as Ishopanishada, and therefore similar other works (there are lots of Brahmayajna portions in other chapters of Yajurveda also) . Ishopanishada starts with highlighting the need to perform needful Karma and ends with Absolute Gyaana.
In Jyotisha as well as in other disciplines, I ask my students to keep as far away from Kaliyugi authors and interpreters, including me, as possible if they differ from the views of rishis. Modern "experts" actually follow sakaama karma but feel it is nishkaama. The desire to propagate Dharma is also a desire.
Real state of Nishkaama is very hard to attain, and its complete attainment is itself Moksha ; in this sense there is no difference between Karma and Gyaana in this world, the difference occurs after the Gyaani leaves this world - then only Gyaana accompanies and the sum of samskaara drop away.
Chhaandogya Upanishada states that Manushya is mere Samkalpa (because the defining characteristics of Manushya is Mana which is characterized by Samkalpa), hence Manushya is defined by the Samkalpas he/she takes. If the Samkalpa is that rebirth will never stop, then no one can prevent that individual from taking rebirths. There are 4000 Incarnations of Vishnu in each Kalpa (http://vedicastrology.wikidot.com/non-astrological-essays…), and everytime Saptarshis come to start gotras ; they are Mukta and not bonded. Hence, Mukta Purusha can come here too. But they come not due to fruit of their past Karma. They come to assist in the process of Creation whose only aim is emancipation of more and more Jeevas from the cycle of rebirths. Aastika (Vaidika) philosophies always look down upon the cycle of rebirths for a bonded person and always stress the need of getting out of it PERMANENTLY. This statement is untrue for Incarnations and rishis : "whenever one has to come back, one must have some rna/link/association with some elements already present in this mortal plane. Old seeds of rnas are reawakened". There is no difference of opinion among Vaidika philosophies about the need to get rid of the state of bondage to sensory desires. There are four types of Moksha in Vedaanta. Each Mukta Purusha has a choice to choose the type of Mukti. Even after Mukti, the Purusha can opt for a separate existence and can choose to come here again, but every Mukta Purusha does not do so. Fools have misinterpreted this famous verse of Purusha-sukta : "brAhmaNo mukhaM AsIt…". Raajanya was "created" , Vaishya and Shudra were "generated", but brAhmaNas were already seated in the mukha of Cosmic Purusha when Creation started. They were the gotra-starter Saptarshis. They never die, they never get birth in the normal sense. Lord Brahmaa creates the Creation, human beings (and more than that) are generated by Saptarshis.
Mere bookish learning of Shaastras cannot give real knowledge. That is the meaning of nine "brahmakarmas" mentioned in Gita in which "Jnaana" is differentiated from "vijnaana". There, Jnaana implies the knowledge of shaastras, and vijnaana means the direct encounter with Reality. Both are needed. Many sadhus fail to get rid of bondage even after direct experience of divinity because of lack of Vedic learning, and almost all of Vedic scholars cannot be liberated because their knowledge is bookish devoid of practice. Theory and Practice are both wedded together.
Many moder interpreters of ancient Shaastras are defining Mana as Mind of modern psychology, while I deliberately used the ancient spelling to stress the fact that I am referring to only one of the 13 elements of Chitta. Every Jeeva possesses all these 13 elements and every Jeeva has Mana too. But you are confused by the distinction between Conscious and Unconscious (and Subconscious) layers of modern psychology. All 13 elements of Chitta have these distinctions of Asura and Divine levels withing all elements of Chitta. The so-called modern "consciousness" of psychologists is not real Consciousness, it is the worst of all four states of Jeeva according to Yoga Vaasishtha : it is Jaagrata state in which the Jeeva is open to the world of senses and closed to Reality. During Svapna, Indriyas sleep but Mana is active. In Sushupta, Mana also sleeps and the bonded Jeeva thinks that nothing exists ("abhaava" according to Yoga-sutra). But during suSHupti, if the Mana and Indriyas sleep and the Soul does not forget its Soulhood then it is the fourth or Turiya state which is same as Samaadhi or Svaroopa-avasthiti. Its constant practice gradually weakens the bonds of desires, and after a critical level Divine Grace becomes abundant enough to carry the Purusha forward towards pure spirituality.
Everything is "relative" only where mass and material energy exist. In the realm of pure Consciousness, nothing can exist which is relative, only The Absolute exists there, which is "Neti Neti". Only the Infinite can comprehend the Infinite, and the Individual Purusha can become Infinite once it gets rid of all bonds with desires.
The real import of one comment from me should not be missed : Einstein = One is One. I worked on Indo-European (IE) historical linguistics for over twelve years (1984 to 1996, excluding many more years of part of my time devoted to it), during which I also worked on Semitic languages of past and present (eg, Hebrew, Arabic, etc), and found that over 90% Semitic verbs are cognates of IE verbs. It proves that Semitic and IE come from same origin, and therefore grammatical difference is a LATER development. Here, the example of the meaning of "Einstein" proves that original Judaism also held that individual Soul is same as the Cosmic Soul in essence, which is Advaita Vedic philosophy. Historical Semitic religions and philosophies are dualist, like many historical Indian philosophies. Hence, Semitic stock belongs to the same origin which is the origin of IE, not only linguistically but also philosophically. Jews and Christians working in historical linguistics and Indology deliberately misinterpret Vedic philosophy to be dualist or polytheist &c &c. Indian dualists also do not accept Vedic Advaita philosophy and invent innumerable excuses, in spite of the fact that dualism has always lost in open and sincere shaastraarthas. Yet, they will prop up again and again with dualism.
14 Dec 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

मांस

"मांस" शब्द बना है संस्कृत के "मन्" धातु से । अतः "मांस" का धात्वर्थ है :- "जो मन को पसन्द हो, माँसल या कोमल हो" (जैसे कि फल का गूदा) । किन्तु राक्षसों को लहू और पशुमांस ही पसन्द था, अतः कलियुग में राक्षसी अर्थ ही प्रचलित हो गया । किन्तु आधुनिक विज्ञान भी कहता है कि मनुष्य प्राइमेट परिवार से आया है जो शाकाहारी परिवार है (बन्दर. लँगूर, आदि) । फलतः पशुमांस खाने के लिए मनुष्य के शरीर का भोजन-तन्त्र प्राकृतिक रूप से परिपक्व नहीं है । वैसे भी मसाले, तेल, आदि वनस्पति-औषधियाँ डालकर आग में पकाया न जाय तो मनुष्य के गले में पशुमांस उतर ही नहीं सकता । अप्राकृतिक भोजन से व्याधियों की संभावना बढ़ती हैं और मन भी अप्रकृतिं बनता है । शास्त्रों में कहा गया है कि अन्न से मन बनता है । हिंसक अन्न से मन हिंसक हो जाता है । विभिन्न पशुओं के मानसून में गोमांस मनुष्य के लिए सर्वाधिक घातक है क्योंकि पाली हुई गाय गृहवासियों को सन्तान समझकर दूध देती है, बिना ममता के थन में दूध आ ही नहीं सकता । ऋषियों में पशुओं का मन पढ़ने की शक्ति थी, अतः गाय की ममता को वे अनुभव करते थे और गाय को माता कहते थे ।
"मिष्" का अर्थ है "रस में भिगोना" । मिष्टान्न का अर्थ है (मीठे-) रस में भिगोया हुआ अन्न , अर्थात मिठाई । अतः "सामिष" का अर्थ था "मीठा" भोजन । किन्तु "मांस" की तरह कलियुग में "सामिष" का भी अर्थ बदल गया । वाममार्गियों का इसमें बहुत बड़ा हाथ था, जिनका हिन्दू सभ्यता के पतनकाल में बहुत प्रसार हुआ ।
गीता के अठारहवें अध्याय में उल्लेख है कि सात्विक भोजन में "लवण" और "तीक्ष्ण" पदार्थ (कड़वे, खट्टे) वर्जित हैं । अतः सात्विक भोजन दो प्रकार के थे :— सामिष और निरामिष । सामिष में थीं मीठी वस्तुएं । निरामिष उन लोगों के लिए था जो पूर्ण इन्द्रियनिग्रह हेतु मीठे पदार्थों से भी दूर रहते थे, खास कर विशेष अवसरों पर । अंग्रेजी का "मीट" शब्द भी उसी स्रोत से निकला है जिससे हिन्दी क्षेत्र का "मीठ" या "मीठा" बना है ।
कई दशकों तक भोजन में हर प्रकार के लवण, तीक्ष्ण, आदि पदार्थों का पूर्ण त्याग एवं यज्ञ में "हविष्यान्न" की शास्त्रीय सूची से बाहर के समस्त पदार्थों का त्याग करने का परिणाम है कि कई दशकों से मुझे चिकित्सक के सलाह की आवश्यकता नहीं पडी और किसी रोग के कारण बिस्तर नहीं पकड़ना पड़ा (अन्य लाभ आध्यात्मिक हैं जिनका यहाँ वर्णन प्रासंगिक नहीं है) । हविष्यान्न में लवणादि वर्जित हैं, किन्तु कलियुगी वैदिक भी यज्ञों में मजे से लवण कहते हैं और कहते हैं कि सैन्धा लवण वर्जित नहीं है, आधुनिक कारखानों में बना लवण वर्जित है , यद्यपि वे जानते हैं कि जब शास्त्रों की रचना हुई थी तब सैन्धा लवण जैसे प्राकृतिक लवण ही उपलब्ध थे जिनके लिए निषेध का नियम बना था ।
शरीर के लिए आवश्यक प्राकृतिक लवणों की आपूर्ति दूध एवं सब्जियों से हो जाती है । हर प्रकार के अप्राकृतिक लवण विष हैं । पोटैशियम साइनाइड तीखा लवण है, तत्क्षण मारता है, सोडियम क्लोराइड कमजोर है अतः "स्लो पाइजन" है । आज भी कुछ समुदायों में नवजात बच्चियों के मुँह में एक चम्मच लवण डाल दिया जाता है ताकि उनकी मृत्यु हो जाए और बेटी से जान छूटे ।
31 Dec 2015
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

वेद और आत्म

"कोई किसी को ज्ञान नहीं देता , गुरु उसे कहते हैं जो भूले हुए ज्ञान की स्मृति दिला दे ।" (- यह उक्ति सुकरात के नाम से प्रसिद्ध है, यद्यपि प्रमाण का अभाव है)
मनुष्य किसी की बात तभी मानता है जब हृदय गवाही दे । अतः हृदय में वह बात पहले से दबी हुई थी , भूली-बिसरी थी । तथ्यों की जानकारी देना गुरु का कार्य नहीं, उसके लिए तो अनगिनत स्रोत हैं । गुरु तो केवल गुर बतलाता है — सही ज्ञान पाने के सही तरीके का ।
किन्तु श्री मद् भागवत पुराण में कहा गया है कि मूर्ख को विद्वान गुरु रास नहीं आता, उसे गुरु भी मूर्ख ही चाहिए !
सुकरात के नाम से यह उक्ति मैंने छात्र जीवन में कहीं पढ़ी थी, सुकरात की "अपोलोजी" , प्लेटो की रिपब्लिक या एरिस्टोफ़नीज के नाटकों में कहीं ऐसी उक्ति मुझे नहीं मिली, जो सुकरात के समकालीन थे । किन्तु यह विचार मुझे योग वासिष्ठ जैसे भारतीय ग्रन्थों में मिला । यह शत-प्रतिशत भारतीय और वैदिक विचार है ।
यूरोपियन शिक्षा पद्धति के शिकार भारतीयों को अब ऐसी बातें समझ में नहीं आएगी , क्योंकि यूरोपियन शिक्षा पद्धति सेक्युलर है, धर्मविहीन अर्थ और धर्मविहीन काम की पूर्ति को जीवन का चरम लक्ष्य मानने पर आधारित है, शेष दो पुरुषार्थ यूरोपियन शिक्षा पद्धति के दायरे में भी नहीं आते । यूरोपियन शिक्षा पद्धति में जिसे ज्ञान कहा जाता है उसे वेदों में अज्ञान कहा गया है ; वास्तविक ज्ञान तो आत्मज्ञान / ब्रह्मज्ञान है जो बिन गुरु सम्भव नहीं (यजुर्वेद के अन्तिम अध्याय, जो ईशोपनिषद भी कहलाता है, में कर्मकाण्ड को भी अविद्या कहा गया है जो मृत्यु के पार का रास्ता तो दिखाता है किन्तु अमृतपद दिला नहीं सकता ; जो अमृतत्व दिलाये उस मोक्षमार्ग को विद्या कहा गया है) । यूरोपियन शिक्षा पद्धति तो बिन गुरु भी सम्भव है, क्योंकि वह वस्तुतः ज्ञान नहीं । आइंस्टीन को उच्च गणित किस गुरु ने सिखाया ? केकुले को बेंजीन रिंग किसने बताया, जिसपर समूची आर्गेनिक केमिस्ट्री खड़ी हुई ? ये केवल छिटपुट उदाहरण हैं ।
आधुनिक शिक्षा वास्तव में कुशिक्षा है क्योंकि यह मनुष्य को उसका अपना अस्तित्व छोड़कर बाँकी सबकुछ पढ़ाती है , जीवन को गलत उद्देश्यों और गलत मूल्यों की ओर धकेलती है । विषविद्यालयों की स्थापना बौद्धों ने की जिसे ईसाईयों ने बढ़ाया, बड़े-बड़े विषविद्यालय राजधन से ही चल सकते हैं । जब तक भारतीय संस्कृति स्वस्थ और सृदृढ़ थी ,तबतक सरस्वती के मन्दिर में लक्ष्मी का प्रवेश निषिद्ध था, भिक्षाटन पर गुरुकुल आश्रित थे, कृष्ण हो या सुदामा सब एक ही पंक्ति में बैठते थे । अभिजातों के लिए पृथक व्यवस्था नहीं थी । क्योंकि अहंकार को नष्ट करना शिक्षा है । काम-क्रोध-लोभ-मोह को नष्ट करना शिक्षा है । भौतिकवाद के आसुरी युग में आज शिक्षा अपने उद्देश्यों से भटक गयी है । आज का शिक्षक भले ही गुरु को ब्रह्मा कहकर अपनी पीठ थपथपा ले , सच्चाई तो यह है कि अब शिक्षक वेतनभोगी नौकर हैं जो अफसरों की चापलूसी करने के लिए विवश हैं ।
वेद बना हैं "विद्" धातु से, अतः वेद का अर्थ है "ज्ञान" ; यद्यपि वेदों का अधिकाँश भाग कर्मकाण्डों के बारे में है, क्योंकि बिना वर्तमान अथवा पूर्वजन्म के कर्मकाण्डों द्वारा अर्जित सात्विक कर्माशय के सच्चे ज्ञान का पथ प्रशस्त ही नहीं हो सकता । यही कारण है कि सर्वाधिक महत्वपूर्ण वेद "यजुर्वेद" (अर्थात यज्ञ का वेद) के अन्तिम अध्यायः इशोपनिषत् में कहा गया है कि अविद्या (कर्मकाण्ड) द्वारा मृत्य को पार करो (अर्थात वैतरणी = संसार-प्रवाह के विपरीत दिशा की तरणी को तरो) और फिर विद्या (ब्रह्मविद्या) द्वारा अमृतत्व को प्राप्त करो ।
ब्रह्म ज्ञानस्वरूप हैं । यजुर्वेद के 32 वें अध्याय में कहा गया है कि "न तस्य प्रतिमा अस्ति" = ब्रह्म की कोई प्रतिमा नहीं है । ब्रह्म की मूर्ति और मन्दिर सम्भव ही नहीं है । समस्त देवी-देवता ब्रह्म की ही विभिन्न अभिव्यक्तियाँ हैं (ऋग्वेद :— सत्य एक ही है जिसे विप्र भिन्न-भिन्न नामों से पुकारते हैं, किन्तु वास्तव में वह तो "नेति-नेति" है ।
चूँकि ब्रह्म ज्ञानस्वरूप हैं , अतः वेद ही ब्रह्म है । वेद का जो हिस्सा मनुष्यों के लिए आवश्यक था वह संहिताओं के रूप में मनुष्यों को ऋषियों के माध्यम से दिया गया । किन्तु वेद उतना ही नहीं है, वेद तो अनन्त है ।
और वह अनन्त वेद सभी प्राणियों के भीतर साक्षीभाव से स्थित है, उपनिषत् की भाषा में एक ही वृक्ष पर दो पक्षी हैं (जीव और ब्रह्म) जिनमें एक देखता है और दूसरा फल खाता है ।
वही साक्षी ब्रह्म या वेद है । हर प्राणी के भीतर है । जो उसका साक्षात्कार करा दे वह गुरु है । बिन गुरु ज्ञान नहीं । मर्त्यलोक में विष्णु भी अवतार लेते हैं तो अपने ही इस नियम को नहीं तोड़ते, वसिष्ठ या सांदीपनि जैसे गुरुओं के पास जाकर ज्ञान पाने की लीला करते हैं ।
वह ज्ञान तो हर जगह है, जीवित ही नहीं निर्जीव पदार्थों में भी है । वह ज्ञान कोई किसी को नहीं दे सकता, गुरु वह है जो उस भूले हुए ज्ञान का स्मरण करा दे ।
वह ज्ञान मिल जाए तो शेष सब कुछ बिन ढूँढे मिल जाता है, वह न मिले तो सारा संसार भी मिल जाय तो मनुष्य अकिंचन ही रह जाता है , खाली हाथ चला जाता है, फिर से इस मूर्खता के संसार-सागर में बारम्बार गोते खाने के लिए ।
संहिताओं में जो मन्त्र संकलित हैं वह वेद खोलने की कुञ्जिकाएँ हैं , वेद उतना ही नहीं है । वेद मैं हूँ, वेद तुम हो, और चारो ओर जो कुछ भी सत्य और सनातन है वह सब कुछ वेद है । उसके सिवा और कुछ भी जानने योग्य नहीं , क्योंकि कलियुग के नक्कारखाने में वेद की वह भूलीबिसरी आवाज़ भले ही तूती की आवाज़ सरीखी दूर-दराज की अशक्त आवाज़ प्रतीत हो , जो गुरु नाम के एम्पलीफायर के बिना सुनाई भी न दे, एक उस आवाज़ के बिना जो कुछ भी यहाँ है वह नक्कारखाने के नगाड़ों का अर्थहीन शोर-शराबा है ।
(1) उतना ही पढ़ो जो मरने के बाद भी याद रहे । जो भूल ही जाना है, वह पढ़ कर क्या लाभ ? (पोथी पढ़-पढ़ जग मुआ……)
(2) जो खुद भटक रहा है उससे क्या पढोगे ? जो वास्तव में जानता हो, उसे ढूँढो, उसी से पढ़ो । न मिले तो जप-तप द्वारा ईश्वर से सहायता माँगो कि सच्चे गुरु तक भेज दें ।
(3) और केवल वह चीज पढ़ो जो इस लोक में ही नहीं बल्कि मरने के बाद भी काम दे ।
मेरे गुरु जी ने शरीर छोड़ते समय यही तीन मन्त्र मुझे बताये थे । कई दशक बीत गए, तब से आज तक मैंने कोई पुस्तक नहीं पढ़ी, केवल मूर्खों द्वारा लादे गए फालतू के बहसों में उद्धरण देने के लिए कभी-कभार ग्रन्थ उलटाने पड़ते हैं (किन्तु सिलसिलेवार रूप से पढ़ने की आवश्यकता नहीं पड़ती)। विषविद्यालयों द्वारा मस्तिष्क में भरा कूड़ा झाड़ने के लिये शारीरिक और बौद्धिक शीर्षासन द्वारा दीर्घकाल तक कठिन प्राणायामादि करने पड़े थे । मस्तिष्क इस संसार की सबसे दुर्लभ और कीमती चीज है, उसमें कूड़ा मत भरो । भरने के लिए अच्छे चीज न मिले तो कोई बात नहीं, मस्तिष्क खाली करना ही सीख लो । बाल्टी खाली रहेगी तो कभी न कभी कहीं से पानी बहकर खुद उसमें चला आएगा, भरी हुई बाल्टी में कुछ नहीं घुसेगा ।
कूड़े से भरी बाल्टी को ही मूर्ख कहते हैं, जो विषविद्यालयों में टके सेर बिकते हैं ।
(अब "टका" का अवमूल्यन हो गया है, पुरानी कहावत में "टके" का पुराना मूल्य है।)
देहात के अनपढ़ों को मूर्ख मत कहो, हिन्दू सभ्यता और संस्कृति का जो थोड़ा-बहुत अवशेष बचा-खुचा है वह उन्हीं अनपढ़ों और अर्द्धशिक्षितों में बचा हुआ है, जिनपर लार्ड मैकॉले का ठीक से प्रभाव नहीं पड़ा है । किन्तु टीवी और सिनेमा अब उन्हें भी बिगाड़ रहे हैं जिन्हें लाख प्रयास करके भी कुशिक्षालय और विषविद्यालय बिगाड़ नहीं पाये ।
"शिक्षितों" को मेरे विचार बुरे लग सकते हैं । किन्तु मजबूरी है, उन्हें खुश करने के लिए मैं स्वयं से समझौता नहीं कर सकता । क्योंकि मेरा जो असली "मैं" है वह हर किसी में है , उसी को परम "मैं" या परमात्मा कहते हैं । वह तभी प्रकट होता है जब नकली "मैं" का ढक्कन हट जाता है (शुक्ल यजुर्वेद के अन्तिम अध्याय का अन्तिम मन्त्र, जिस कारण इस दर्शन का नाम ही "वेदान्त" पड़ गया ।
5 Jan 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

हविष्यान्न और शाकाहार

मनुष्य शाकाहारी परिवार प्राइमेट्स से निकला है । अतः फल और सब्जियाँ मनुष्य का प्राकृतिक आहार है । जितना कम पकाया जाय या बिल्कुल न पकाया जाय उतना अच्छा । यदि टमाटर त्याग दें (जो विदेशी मूल का है, संस्कृत में इसके लिए शब्द नहीं है) तो वैदिक यज्ञ के अनुसार फल और सब्जियाँ "हविष्यान्न" के अन्तर्गत आती हैं , बशर्ते गाय के दूध-घी के अलावा भैंस का दूध-दही-घी और कोई भी नमक-तेल -मिर्च-मसाला भी त्याग दिया जाय । तब ऐसा भोजन जप-तप सहित किया जाय तो यज्ञ के तुल्य फल देता है और ग्रहशान्ति में सहायक बनता है , बशर्ते स्वयं पकाएं और दूषित संस्कारों वाले व्यक्ति को चूल्हा न छूने दें । अरवा चावल, मसूर के सिवा अन्य दालें, गेंहूँ या जौ का आटा , आदि भी हविष्यान्न के अंतर्गत आता है ।
बिना बाहरी जल दिए धीमी आँच पर सब्जी इस तरह पकाई जाय कि भाप कम से कम बाहर जाय तो स्वाद नष्ट नहीं होता । यदि ऐसे खेत की सब्जी और चावल आपको उपलब्ध हो सके जिसमें कभी भी कृत्रिम खाद नहीं पड़ा हो तो ऐसा स्वाद और सुगन्ध मिलेगा जो किसी मसाले में सम्भव नहीं है , साथ ही भरपूर पौष्टिकता और प्राकृतिक गुणों से पूरित , जो रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाएगी और औषधि का कार्य करेगी । यही कारण है कि प्राचीन ग्रन्थों में अन्न एवं सब्जी को भी "औषधि" माना जाता था ।
लगातार हविष्यान्न के आहार का फल हुआ कि मेरे चश्मे की क्षमता -3.5 से घटकर -1.5 पर आ गयी और कभी भी कोई रोग नहीं हुआ । हविष्यान्न सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद वर्जित है । यदि स्पष्ट मध्याह्न के बाद और सूर्यास्त से पहले ऐसा भोजन प्रतिदिन केवल एक बार ही किया जाय तो "एकभुक्त व्रत" कहलाता है जो सर्वोत्तम व्रत है (पिछले दो दशकों से मैं कर रहा था) जिससे वर्तमान और पिछले जन्मों के पाप कटते हैं । वैदिक संस्कारों में हविष्यान्न अनिवार्य है, जैसे कि उपनयन, विवाह, श्राद्ध. आदि । गीता में वैश्वानर अग्निदेव को समस्त भोजन अर्पित करने का आदेश है, जिसका अर्थ हविष्यान्न ही है, क्योंकि वैदिक धर्म में देवों को केवल हविष्यान्न ही अर्पित किया जा सकता है । कलियुग में कई लोगों ने यज्ञ में हिंसा भी आरम्भ कर दी और मांस खाने लगे । वैश्वानर अग्निदेव को समस्त भोजन अर्पित करने का यह भी अर्थ है कि स्वयं खाने का भ्रम न पालें क्योंकि आत्मा दर्शक है जो भोक्ता होने का भ्रम तो पाल सकता है परन्तु खा नहीं सकता । ऐसा भोजन आत्मज्ञान में सहायक है । यही कारण है कि वैश्वानर अग्निदेव को समस्त भोजन अर्पित करने के स्थान पर जो स्वयं खाता है वह पापी पाप ही खाता है (-गीता)
बहुत से लोग जैविक कृषि के पक्ष में होते जा रहे हैं । अमेरिका के बड़े-बड़े होटलों और सेठों ने अफ्रीका और लातीनी अमेरिका में बड़े-बड़े फार्म खरीदे हैं जहाँ बिना रासायनिक खादों के खेती की जाती है, क्योंकि ऐसे खेतों की फसलों का स्वाद वे जान चुके हैं ।
ये बाद की बात नहीं है ; टालने वालों का कल कभी नहीं आता । कृत्रिम खादों का दीर्घकालीन प्रभाव DNA पर कैसा पड़ता है इसपर अभी वैज्ञानिकों के पास आंकड़ें भी नहीं हैं । जिस प्राकृतिक वातावरण में मानवीय DNA उद्भूत हुआ था, उससे हम दूर होते जाएंगे तो एक्सटिंक्शन नजदीक आता जायेगा । यदि सत्य का 100% पालन सम्भव नहीं, तो अधिकाधिक सम्भव पालन करना चाहिए, टालना नहीं चाहिए । मैं स्वयं कृषक नहीं हूँ, किन्तु कृषि में सही विधियों का प्रचार तो कर सकता हूँ , क्योंकि अन्न तो सबको खाना है । अन्न और पशुओं की जिन प्रजातियों को फिलीपींस या प्रयोगशालाओं से या जर्सी और फ्रिजिया से हमारे गाँवों में लाया जा रहा है वे उन प्रजातियों को सदा के लिए मिटाती जा रही हैं जो लाखों सालों से हमारे पर्यावरण के अनुकूल सिद्ध हुई हैं । कल यही वैज्ञानिक बोलेंगे कि भारत के मनुष्य भी घटिया हैं , इंग्लैण्ड के पुरुषों की सहायता से खाद-पानी देकर भारतीय महिलाओं को टेस्ट ट्यूब बेबी "उगाना" चाहिए ! इन तथाकथित वैज्ञानिक प्रजाति की फसलों को अधिक कृत्रिम खाद और पानी चाहिए, अतः केवल धनी किसानों के लिए ये उपयुक्त हैं, गरीब किसानों को आत्महत्या की ओर धकेल रही हैं । महाराष्ट्र से ब्राज़ील भेजी गयी भारतीय गायों ने वहां अच्छा भोजन और समुचित देखभाल मिलने पर दूध देने का विश्व-कीर्तिमान बनाया है । किन्तु हमारे मन्त्रालयों में लार्ड मैकॉले के मानसपुत्रों की भरमार हैं जो भारतीय गायों को कत्लखानों में भिजवाने के लिए जर्सी गायों को बढ़ावा दे रहे हैं । शास्त्रों के अनुसार कूबड़-विहीन गोजाति की तरह दिखने वाले पशुओं को गाय नहीं माना जा सकता । अतः जर्सी गाय वास्तव में गाय नहीं हैं । जर्सी बैल हल नहीं खींच सकते, अतः गोमांस का प्रचलन बढ़ेगा ।
ब्रिटानिया कम्पनी के (जर्सी) गाय के घी की तुलना बाबा रामदेव के (देशी) गाय के घी से करके देखें, अन्तर मालूम पड़ जाएगा कि कौन गाय है और कौन गाय-सूअर का संकर ।
मेरी बातों को व्यक्तिगत स्तर पर नहीं लेना चाहिए , मैं किसी व्यक्ति का विरोध नहीं कर रहा हूँ, जो बातें हमारे देश और हमारी सभ्यता के लिए घातक हैं उनका विरोध कर रहा हूँ । ऐसी बातें हज़ार साल की गुलामी के दौरान इस देश में फैली हैं, ख़ास तौर पर लार्ड मैकॉले की शिक्षा प्रणाली थोपे जाने के बाद ।
7 Jan 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

अनुसन्धान और व्यंग्य

"व्यंग्य" की शास्त्रीय परिभाषा :— असत्य के अन्तर्-द्वन्द्वों को इस तरह उभारकर दिखाया जाय कि असत्य स्वयं अपने अन्तर्निहित द्वन्द्व द्वारा ही खण्डित हो जाय और दर्शक को उसकी असत्यता और मूर्खता पर पर हंसी आय ।
व्यंग्य साहित्य की एक विधा ही नहीं, तर्क की सर्वोत्तम पद्धति भी है और सुकरात के डायलेक्टिक्स का आधार व्यंग्य ही था । अतः व्यंग्य सत्य का हथियार है , सच्चा व्यंग्य कभी भी असत्य का सहारा नहीं लेता ।
किसी भी विषय पर कोई भी लेख लिखना हो, व्याख्यान देना हो, अदालत में या अन्यत्र बहस करना हो, अनुसन्धान की थीसिस लिखनी हो, तो अपने आलेख या वक्तव्य के पाँच हिस्से करें :—
भूमिका,
पूर्वपक्ष (वाद),
उत्तरपक्ष (प्रतिवाद),
सन्धि ,
सन्धान
तीर को लक्ष्य तक पँहुचाना 'सन्धान' है । सफलतापूर्वक सन्धान करने की समूची प्रक्रिया "अनुसन्धान" है ।
"पूर्वपक्ष , उत्तरपक्ष , सन्धि और सन्धान" मैंने तैत्तिरीय-उपनिषद् से लिए हैं । पाश्चात्य डायलेक्टिक्स (हेगेल, मार्क्स) में "पूर्वपक्ष , उत्तरपक्ष , सन्धि" को "थीसिस , एन्टीथीसिस, सिनथीसिस" (वाद, प्रतिवाद, सन्धि) कहते हैं । सन्धान के लिए पाश्चात्य दर्शन में कोई तकनीकी शब्द नहीं है , किन्तु कार्ल मार्क्स ने कहा कि थीसिस और एन्टीथीसिस स्वतः सिनथीसिस उत्पन्न कर देगी इस आशा में मनुष्य को बैठे नहीं रहना चाहिए , समाज को शोषणमुक्त बनाने के लिए प्रयत्न करना चाहिए । यही प्रयत्न "सन्धान" है जिसे मार्क्स ने भौतिकवादी दर्शन में "चेतना की सापेक्ष स्वतन्त्रता" कहा, और राजनीति में "क्रान्ति" कहा , किन्तु "सन्धान" के लिए कोई तकनीकी शब्द मार्क्स नहीं खोज पाये जो भारतीय ऋषियों को सतयुग से ही ज्ञात थे । हेगेल तो इस मामले में मार्क्स से भी पीछे रह गए । मार्क्स ने द्वन्द्वात्मक पद्धति का प्रयोग भौतिकवाद के लिए किया, किन्तु भारतीय ऋषियों की द्वन्द्वात्मक पद्धति वैदिक ब्रह्मवाद का अविभाज्य अंग थी ।
हरेक परिघटना, विचार वा वस्तु में पूर्वपक्ष और उत्तरपक्ष दोनों पहलू होते हैं जो उसकी सतही झलक है, वास्तविक सच्चाई नहीं । दोनों पक्षों के परस्पर विरोध (अन्तर्-द्वन्द्व) को उकेरने की कला ही "व्यंग्य" है ।
स्वयं अपने ही मन से तटस्थ होकर उसके द्वन्द्वों को साक्षीभाव से देखना "व्यंग्य" का सर्वोत्तम इस्तेमाल है , जो आत्मज्ञान और ब्रह्मज्ञान का साधन है । तब 'सतही पक्षों को भेदकर भीतर दबा सत्य प्रकट' होता है (यही "व्यंग्य" का व्युत्पत्यार्थ है) : हिरण्यमयेन पात्रेण सत्यस्य अपिहितम् मुखम् , यो असौ आदित्य पुरुषः सो असौ अहम् ; ॐ खं ब्रह्म (प्रमुख वेद यजुर्वेद का यह अन्तिम वचन है जिस कारण ऐसा दर्शन "वेदान्त" कहलाया)।
"व्यंग्य" का सबसे बुरा इस्तेमाल है दूसरों को नीचा दिखाकर अपने अहम् की तुष्टि के लिए स्वयं श्रेष्ठ दिखाना ; यह वास्तव में "व्यंग्य" नहीं है ।
17 Feb 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

भारतीयता

अंग्रेज इतिहासकार विन्सेन्ट स्मिथ ने लिखा था कि इंग्लैण्ड की राष्ट्रीयता तलवार के बल पर कायम हुई, लेकिन भारत की राष्ट्रीयता सांस्कृतिक है । भारत की यह सांस्कृतिक पहचान तब बनी थी जब ईसा या मुहःमद पैदा भी नहीं हुए थे । लेकिन तथाकथित सेक्युलर "विद्वान" यह कभी नहीं स्वीकारेंगे , वे तो जवाहर की बकवास ही दोहराएंगे कि विभिन्न संस्कृतियों की "खिचड़ी" ही असली "भारतीयता" है ! महाभारत के आरम्भ में ही वेद व्यास जी द्वारा दी गयी भारत की सर्वोत्तम परिभाषा ये सेक्युलर लोग कभी भी उद्धृत तक नहीं कर सकते : भारत वह वृक्ष है जिसके पुष्प और फल हैं धर्म और मोक्ष । अर्थात दूसरे देशों में केवल अर्थ और काम पर ही बल देना सिखाया जाता है, वह भी धर्मविरुद्ध, किन्तु भारत वह कल्पवृक्ष है जो चारों पुरुषार्थों द्वारा मनुष्य की देह और आत्मा दोनों का सच्चे मायने में भरण करे । यही सच्ची भारतीयता है । भारत सत्य और असत्य की , अहिंसा और हिंसा की , देव और दानव की , विभिन्न सच्चे और झूठे सम्प्रदायों की खिचड़ी नहीं है । किन्तु विधर्मियों, अधर्मियों और नास्तिकों को भी सहन करना भारतीयता का एक लक्षण है ।
लेकिन अंग्रेजों उनके जवाहरी चमचों ने प्रचारित किया कि भारतीयों को अपने इतिहास का ज्ञान नहीं है, कुछ समुद्री डाकुओं और उनके टुकड़ों पर पलने वाले लुच्चों ने "भारत की खोज" की और ऐसी बकवास पढ़ाने वाले जनेयू जैसी संस्थाओं को भारत का सर्वोत्तम विश्वविद्यालय घोषित किया जाता है !
पोथी पढ़ने से ज्ञान नहीं होता । ज्ञान की पहली शर्त है सही ज्ञान के प्रति सच्ची प्यास , न कि डिग्री बटोरने के लिए दुनिया भर का कूड़ा दिमाग में भरना । जनेयू के साक्षर मूर्खों से बहुत अधिक वास्तविक ज्ञान उन अनपढ़ देहातियों को है जो पशुवत यौन सम्बन्ध नहीं करते , जो मानवाधिकार पर भाषण या प्रदर्शन तो नहीं करते लेकिन महानगरों के फुटपाथ पर जीवन बिताने वाले अनाथ बच्चे किसी भी गाँव में नहीं दिखेंगे : एक भी गाँव अभी तक इतना निर्दय नहीं हुआ है जो किसी अनाथ बालक/बालिका को सड़क पर सोने देगा या बूढ़ों को वृद्धाश्रम भेजेगा , यद्यपि नगरों की अपसंस्कृति ने गावों को भी बहुत बिगाड़ा है, वह भी इस कारण चूँकि गाँवों का रक्त चूसकर शहरों में ही रोजगार के सारे साधन जानबूझकर सर्जित किये गए जिस कारण ग्रामवासियों को नगरों की और दौड़ना पड़ता है, अपनी भौगोलिक और सांस्कृतिक जड़ों से कटना पड़ता है ।
भारत के भोजपुरी क्षेत्र से वेस्ट इण्डीज गए प्रवासी भारतीयों के नोबेल पुरस्कार पाने वाले वंशज नायपॉल ने ब्रिटेन और भारत की तुलना करते हुए ब्रिटेन के नगरों-ग्रामों की स्वच्छता और भारतीय नगरो-ग्रामों की गन्दगी का बहुत विस्तार से बखान किया, लेकिन अन्त में एक वाक्य जड़ दिया : ब्रिटेन की स्वच्छता बाहरी है, लेकिन भारतीय सभ्यता पर लगे गहरे घावों के बावजूद अभी भी एक औसत भारतीय के अन्तस् में अंग्रेजों की तुलना में बहुत अधिक स्वच्छता बची हुई है ।
तात्पर्य यह कि लार्ड मैकॉले की शिक्षा पद्धति और उनके मानसपुत्रों की पँहुच भारत के जिन क्षेत्रों , व्यक्तियों और तबकों में जितनी कम है, वहाँ सच्ची सभ्यता और संस्कृति उतनी ही अधिक बची हुई है । पाश्चात्य सभ्यता भौतिकवादी, देहवादी, भोगवादी और आसुरी-दानवी है । अन्धयुग को जाने दें, पुनर्जागरण के बाद भी यूरोपवासियों ने जितनी हत्याएं और लूट-खसोट की उसके समक्ष अरब और मंगोल ही नहीं, प्राचीन काल के दैत्य-दानव-राक्षस भी शर्मिन्दा हो जाएंगे । दूसरे देशों पर हमले करके लूट-खसोट करना भारतीयों के DNA में ही नहीं है । यह "सच्ची भारतीय" संस्कृति भारत के जिन विश्वविद्यालयों में नहीं है उन्हें बन्द करा देना चाहिये, तभी भारत बचेगा ।
19 Feb 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

साँख्य दर्शन के चौबीस तत्त्व और पुरुष

शास्त्रानुसार प्रेरणा देने के तत्व को "बुद्धि" कहते हैं । जो शास्त्र-विरुद्ध प्रेरणा दे वह दुर्बुद्धि है, अर्थात बुद्धि की तामसिक प्रवृत्ति ।
असत्य "मैं" की भावना जो तत्व करे उसे "अहंकार" कहते हैं ।
संकल्प करने की वृत्ति को "मन" कहते हैं ।
ये तीनों मिलकर "अन्तः-करण" कहलाते हैं ।
पाँच कर्मेन्द्रियों और पाँच ज्ञानेन्द्रियों को मिलाकर दस बाह्य-करण होते हैं ।
इन तेरह करणों से कारण-शरीर बनता है, जो इच्छाओं की पूर्ति का साधन है, जन्म और मृत्यु का कारण है ।
रूप-रस-गंध-स्पर्श-शब्द :— कारण-शरीर के साथ इन पाँच तन्मात्राओं को मिलाकर 18 तत्वों से "सूक्ष्म-शरीर" बनता है । योगियों में सूक्ष्म-शरीर द्वारा हर जगह जाने की क्षमता होती है । सूक्ष्म शरीर का रंग ही मनुष्य का "वर्ण" है ।
पाँचों तन्मात्राओं के भौतिक पञ्च-भूतों को सूक्ष्म-शरीर में मिलाकर स्थूल शरीर बनता है ।
यह कपिल मुनि के "तत्व-समास" का सारांश है जो सांख्य-दर्शन का आधार है । न हि सांख्य समं ज्ञानम् !
इन तेईस तत्वों के अलावा चौबीसवाँ तत्व है "प्रकृति" , जिसे आदि-शक्ति भी कहते हैं । आदि-शक्ति अव्यक्त है, दुर्गम है, दुर्गा है , उस मूल प्रकृति को जानने और उसपर आधिपत्य जमाने की तथाकथित "वैज्ञानिक" चाह ही मनुष्य को असुर बनाकर दुर्गा के हाथों वध कराती है, बारम्बार मरकर मर्त्यलोक में टपकने को विवश करती है । सारी चाहतें समाप्त हो जाए तब एक अन्य अव्यक्त की राह खुलती है जो प्राणी का वास्तविक "मैं" है, असली "पुरुष" है, "स्व" है । इच्छाओं का वास इन्द्रियों में होता है । इन्द्रियाँ अनावश्यक विषयों की ओर न दौड़े , इसका अभ्यास करते रहने से राग घटता है, वैराग्य बढ़ता है, और सात्विक वृत्तियाँ बलबती होती हैं । उपरोक्त चौबीसों तत्वों के सात्विक-राजसिक-तामसिक तीन-तीन भेद होते हैं जो त्रिगुण कहलाते हैं । जो घट-बढ़ सके, गुणित हो सके, उसे "गुण" कहा जाता है । विशुद्ध पुरुष में दिव्य गुण होते हैं जो कभी घटते या बढ़ते नहीं, प्राकृतिक त्रिगुणों का शुद्ध पुरुष में अभाव होता है, अतः पुरुष "निर्गुण" होता है । मूल प्रकृति की भाँति शुद्ध पुरुष भी सदैव अव्यक्त ही रहता है , अतः भौतिकवादियों को अव्यक्त का दर्शन कभी नहीं हो सकता । किन्तु समस्त इच्छाओं से मोक्ष पाने पर केवल अव्यक्त पुरुष ही बचता है : उस स्तर पर प्रकृति भी महज "कृति" होती है जो कर्तापन का मिथ्या अभिमान पालती है । शुद्ध पुरुष में इच्छाएं नहीं होती, अतः कर्तापन का भाव नहीं होता, केवल साक्षीभाव होता है, किन्तु पुरुष (आत्मा) के संसर्ग से ही सारे कार्य संभव है, सारा अस्तित्व संभव है, क्योंकि वास्तव में सृष्टि में जो कुछ भी वास्तव में है वह केवल पुरुष ही है, वह "ज्ञानस्वरूप" है, भौतिक नहीं । भौतिक उसे कहते हैं जिसे इन्द्रियाँ जान सके । मन शुद्ध हो जाए, इच्छाओं से परे हो जाए, तब इन्द्रियाँ कछुए (कश्यप) की तरह खोल में सिमट जातीं हैं, और मन की अपने सोयी हुई शक्ति जाग जाती है जिसे "ज्ञान-चक्षु" कहते हैं, तब मन बिना इन्द्रियों के ही सृष्टि का हर रहस्य जान सकता है । मन सहित ग्यारह इन्द्रियाँ जबतक इच्छाओं के पीछे दौड़ती हैं, तबतक प्राणी को चार दिन की चाँदनी फिर अन्धेरी रात का रुदन कराने वाले ग्यारह रूद्र नामक देवताओं के अधीन रहती हैं, जब ये शुद्ध हो जाएँ, इच्छाओं से मुक्त हो जाएँ, तब ग्यारह रूद्र मिलकर एक कल्याणकारी शिव बन जाते हैं । तन्मे मनः शिव-संकल्पमस्तु !
24 Feb 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

म्लेच्छ और अछूत, एवं जाति और वर्ण

संस्कृत में "अछूत" को "अस्पृश्य" कहते हैं । किसी भी वैदिक ग्रन्थ में "अस्पृश्य" शब्द का उल्लेख तक नहीं है । "वैदिक ग्रन्थ" से तात्पर्य है वैदिक संहिताएं, ब्राह्मण-ग्रन्थ, आरण्यक, उपनिषद, समस्त वेदाङ्ग साहित्य जिसमें गृह्य-सूत्र जैसे धर्मशास्त्र के सारे आर्ष मौलिक ग्रन्थ भी सम्मिलित हैं, आदि (कुछ लेखकों ने आधुनिक काल में प्रचार किया है कि किसी-किसी गृह्यसूत्र में अस्पृश्यता का उल्लेख है, किन्तु किसी भी गृह्यसूत्र में मुझे अभीतक "अस्पृश्य" शब्द नहीं मिला, और पाश्चात्य विद्वानों द्वारा संकलित संस्कृत कोषों में भी ऐसा साक्ष्य नहीं मिला)। "अस्पृश्य" शब्द का प्राचीनतम उल्लेख महाभारत (4: 610) एवं कतिपय पुराणों में है । किन्तु महाभारत और पुराणों में बाद के कालों में जोड़े गये प्रक्षिप्त अंशों की कमी नहीं है । उदाहरणार्थ, महाभारत के एक अध्याय में दुर्गादेवी द्वारा महिषासुर-वध की कथा है तो दूसरे अध्याय में स्कन्दकुमार द्वारा महिषासुर-वध का आख्यान है - दोनों अध्याय तो मौलिक नहीं हो सकते । अतः महाभारत और पुराणों के आधार पर कोई निर्णय लेने से पहले व्यापक शोध और निष्पक्ष विश्लेषण की आवश्यकता है ।
किन्तु हिन्दुओं का दुर्भाग्य है कि आधुनिक युग का आरम्भ होते ही भारत अंग्रेजों का गुलाम बन गया । अतः लार्ड मैकॉले ने लाखों गुरुकुलों को बन्द करा दिया जिसके बाद सभी शिक्षा-संस्थानों में हिन्दुत्व-विरोधी तथ्यहीन बातें ही पढ़ाई गयीं । ज्योतिराव फुले, अम्बेदकर, टैगोर, गाँधी, नेहरू जैसे महानुभाव भी इन्हीं शिक्षा-संस्थानों से निकले थे, मौलिक संस्कृत ग्रन्थों का अध्ययन व्याकरण पर आधारित परम्परागत विधि द्वारा किया नहीं, अतः अंग्रेजों की बकवासों को ही सत्य समझने की भूल करते रहे ।
यह सत्य है कि हिन्दू समाज में जातिप्रथा एवं अस्पृश्यता का अस्तित्व था, किन्तु इसका कारण हज़ार सालों की गुलामी के परिणामस्वरूप उत्पन्न सामाजिक जड़ता और आत्म-रक्षण को न बतलाकर हिन्दुधर्म को ही दोषी बतलाया गया । छान्दोग्य-उपनिषद में शूद्र (रैक्व) द्वारा द्विज को ब्रह्मज्ञान की दीक्षा देने की कहानी है , महाभारत में उच्चकोटि के वैदिक विद्वान द्वारा आपातकाल में चाण्डाल का जूठा खाने (और प्रायश्चित नहीं करने) की कहानी है , किन्तु ऐसे तथ्यों को आधुनिक "सेक्युलर" विद्वानों ने अनदेखा किया और हिन्दू-धर्म को ही असमानता एवं अन्याय वाला धर्म बताया । सोवियत काल में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता रूसी लेखकों द्वारा लिखित मार्क्सवादी दर्शन की जो किताबें पढ़ते और पढ़ाते थे उनमें हिन्दू-धर्म को साम्यवाद-विरोधी शोषणकारी धर्म बतलाया जाता था, ऋग्वेद के उन सूक्तों की चर्चा भी नहीं की जाती थी जिनमें सभी मनुष्यों को साम्यवाद का अनुसरण करने की सीख दी गयी, पुराणों और महाकाव्यों में वर्णित सतयुग के आदिम-साम्यवाद की चर्चा ये लोग नहीं करते थे (श्रीपाद अमृत डांगे और भोगेन्द्र झा अपवाद थे जो भारतीय ग्रन्थों में साम्यवाद के साक्ष्यों को उद्धृत करते थे, किन्तु भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी उनके मत को नहीं मानती, हिन्दुत्व-विरोधी बकवास ही प्रचारित करती है)।
इस परिप्रेक्ष्य में सर्वाधिक महत्वपूर्ण तथ्य है "जाति" और "वर्ण" की गलत अवधारणाओं का जानबूझकर प्रचार । जाति जन्म पर आधारित है और वर्ण कर्म पर । कर्म के सिद्धान्त पर आधारित वर्ण-व्यवस्था की नींव पर समस्त हिन्दू-धर्म खड़ा है , किन्तु वर्ण-व्यवस्था को जाति-व्यवस्था बताने की धूर्तता अंग्रेजों ने की । कर्म के अनुरूप फल मिलना चाहिए यह तो कार्ल मार्क्स भी मानते थे और यह न्यायसंगत भी है । किन्तु कार्ल मार्क्स का विश्वास था कि एशियाई समाजों में विकास करने की कोई क्षमता ही नहीं है और यूरोप के नास्तिक कम्युनिस्ट ही भविष्य के पथ-प्रदर्शक बन सकते हैं । अतः कार्ल मार्क्स ने हिन्दुओं के मौलिक ग्रन्थों का अध्ययन करने की आवश्यकता नहीं समझी, लन्दन के प्रेस्टीट्यूट द्वारा लिखित भारत-सम्बन्धी बकवास तक ही उनकी भारतविद्या सीमित थी , यद्यपि उनके काल में संस्कृत साहित्य और दर्शन के महानता की धूम उनके देश जर्मनी में मची थी , शोपनहोवर जैसे दार्शनिक तो वेद-उपनिषद-गीता पढ़कर ख़ुशी से झूमने लगते थे ।
यही कारण है कि भारत-विरोधी नव-उपनिवेशवादियों और मार्क्सवादियों में अन्य बिन्दुओं पर परस्पर मतभेद होने के बावजूद हिन्दुत्व-विरोध के मुद्दे पर वे एकजुट हैं । इन लोगों के मतानुसार हिन्दू-धर्म मानवता पर कलंक है और इसे जड़ से मिटा देना चाहिए, जिसके लिए ब्राह्मणों का समूल नाश आवश्यक है । अतः हिन्दू मन्दिरों पर सरकारी कब्जा और उनकी सम्पत्ति का गैर-हिन्दू कार्यों में निवेश , ब्राह्मण गरीबों के भी विरोध में आरक्षण, आदि को प्रगतिवाद और सेक्युलरवाद माना गया । आज़ाद हिन्दुस्तान में हिन्दू मन्दिरों की जितनी सम्पत्ति सरकार ने लूटी है उतना महमूद ग़ज़नवी से लेकर अहमदशाह अब्दाली तक सारे लुटेरों ने मिलकर भी नहीं लूटी, हिन्दुओं द्वारा अर्जित धन से मुसलमानों को हज कराने पर जितना पैसा आज़ादी के बाद खर्च हुआ है वह फिरोजशाह तुग़लक़ और औरंगज़ेब द्वारा जिज़िया की उगाही से भी बहुत अधिक है । लेकिन मानवाधिकार-वादियों को यह सब नहीं दिखता क्योंकि उनकी दृष्टि में हिन्दू तो मानव ही नहीं हैं तो अधिकार किस बात का ? कश्मीरी ब्राह्मणों ने ब्राह्मण कुलों में पैदा होने का पाप किया, अतः दण्ड भुगत रहे हैं !
अस्पृश्यता के सन्दर्भ में तीन बिन्दु ध्यातव्य हैं -
(1) अस्पृश्यता का उल्लेख परवर्ती हिन्दू साहित्य में है जो हिन्दुत्व के अवसान और क्षरण का काल था, अतः हिन्दू-धर्म के मूल ग्रन्थों पर दोषारोपण सरासर असत्य और अन्याय है ;
(2) परवर्ती हिन्दू साहित्य में भी अस्पृश्यता का सम्बन्ध चमड़ी की अशुद्धि से नहीं बल्कि संस्कारों की अशुद्धि से है , "संस्कार" शब्द ही कर्मों के समुच्चय का द्योतक है, अतः कर्मों की अशुद्धि से अस्पृश्यता का सम्बन्ध है ; और
(3) पिछले हज़ार सालों के दौरान हिन्दू समाज गुलाम और जड़ हो गया जिस कारण हिन्दू धर्म अपनी मौलिक नींव से ही खिसक गया और आडम्बरों तक सीमित रह गया, जिसके विरुद्ध हिन्दू सन्तों ने ही धार्मिक सुधार के आन्दोलन किये । सामाजिक कुरीतियों को धार्मिक कुरीति कहना अनुचित है । मध्ययुग में इन सामाजिक कुरीतियों को बढ़ाने का दोष ब्राह्मण-सहित सभी जातियों पर है । आज ब्राह्मणों पर जातिवाद का आरोप जो लगाते हैं वे अन्य सभी जातियों में अन्तर्जातीय विवाह कराकर जातिप्रथा समाप्त क्यों नहीं कराते ? क्योंकि जातिप्रथा समाप्त कराना उनका लक्ष्य ही नहीं है, जाति-व्यवस्था बनी रहे तब न हिन्दू-विरोध एवं आरक्षण की राजनैतिक खिचड़ी पकती रहेगी !
अब "म्लेच्छ" शब्द को लें । संस्कृत व्याकरण के अनुसार इसका मूल अर्थ है "जो अशुद्ध उच्चारण करे"। जिन समुदायों की भाषा ही अशुद्ध हो गयी हो उन्हें म्लेच्छ कहा गया । आधुनिक म्लेच्छ "भाषावैज्ञानिकों" ने असत्य कुतर्कों द्वारा आर्यों का मूलप्रदेश भारत से बाहर बताया , किन्तु इस तथ्य से वे भी इन्कार नहीं करते कि आर्यलैंड से बंगाल-असम तक के सारे भारोपीय समुदायों के समस्त आदिम देवता वैदिक ही थे ! अतः वैदिक धर्म ही सबका मूल धर्म था । फलस्वरूप वैदिक धर्म, वैदिक संस्कारों और वैदिक भाषा की अशुद्धि जिस समुदाय में हो वह म्लेच्छ है । एक छोटा उदाहरण लें —
म्लेच्छ समुदायों में जल एवं मिट्टी द्वारा शौच-क्रिया की परम्परा नहीं है । हमें झूठ-मूठ पढ़ाया जाता है कि यूरोप में कागज़ से मल पोंछते थे । कागज़ की खोज तो कुछ ही सौ वर्ष पहले चीन में हुई, यूरोप में जब कागज पँहुचा भी तो बहुत मँहगा था । सस्ता कागज़ तो आधुनिक युग में जनसुलभ हुआ है । अतः यूरोप में मलत्याग करते ही टहल जाने की परिपाटी थी, घास से भी नहीं पोंछते थे क्योंकि बर्फीले देशों में घास भी सुलभ नहीं होता । जिनके शरीर में चौबीसों घण्टे मल-मूत्र लगा रहे उन्हें म्लेच्छ नहीं तो क्या कहा जाय ? ऐसे लोग मन्दिर में घुसकर कौन सा पुण्य करेंगे ?
आधुनिक शिक्षा व्यवस्था में हिन्दुत्व के मूल ग्रन्थों की पढ़ाई वर्जित है । दर्शनशास्त्र या धर्मशास्त्र की जहाँ पढ़ाई होती भी है वहाँ म्लेच्छों द्वारा लिखित अथवा मान्यताप्राप्त असत्य ग्रन्थ ही पढ़ाए जाते हैं ।
"मन्दिर" शब्द की उत्पत्ति "मन" से सम्बद्ध है । जो शरीर भी शुद्ध नहीं रख सकते वे मन कैसे शुद्ध करेंगे ? हिन्दुओं के धर्मशास्त्र में शरीर ही नहीं , मन की शुद्धि पर भी अत्यधिक बल है । योगदर्शन के अनुसार मन की शुद्धि का सर्वोत्कृष्ट उपाय है प्राणायाम जिसपर गीता में भी बल दिया गया है । किन्तु व्रत-तप करने में बड़ा कष्ट होता है । अतः एक समुदाय ने एलान कर दिया कि पाप करके पुजारी के कान में धीरे से फुसफुसा दो तो बेचारा मसीहा तुम्हारे पाप अपने कन्धों पर ले लेगा ! कितना आसान उपाय है स्वर्ग जाने का ! मोह और मद से ग्रस्त दूसरे समुदाय ने पाप को ही पुण्य घोषित कर दिया । अतः कलियुग में ऐसे ही सम्प्रदाय अधिक लोकप्रिय हुए !
अस्पृश्यता के सम्बन्ध में एक अत्यधिक महत्वपूर्ण तथ्य का उल्लेख आवश्यक है । जिस व्यक्ति ने देवत्व का साक्षात और प्रत्यक्ष अनुभव किया है वह जानता है कि शरीर-मन-वचन की पूर्ण शुद्धि का अधिकतम प्रयास करने पर ही ऐसा सम्भव है । किसी-किसी भाग्यवान को पूर्वजन्म के पुण्य से ऐसा अनुभव सहजता से ही उपलब्ध हो जाता है, वरना बहुत ही कष्ट सहने पड़ते हैं । इतना कष्ट सहकर कौन चाहेगा कि अशुद्ध शरीर-मन-वचन वालों से सम्पर्क करके अपने पुण्यों का क्षय करे ? किन्तु यह निष्कर्ष गलत है कि कोई जाति शुद्ध है और कोई अशुद्ध । कलियुग में सारी जातियाँ अशुद्ध हैं ।
"वर्ण" का मूल अर्थ सूक्ष्म-शरीर के रंग से सम्बद्ध है जो समस्त सक्रिय कर्मों द्वारा निर्मित क्रियमाण संस्कारों का द्योतक है , और सूक्ष्म-शरीर का यह वर्ण केवल दिव्यदृष्टि वाले योगी ही देख सकते हैं । जाति से वर्ण का सम्बन्ध नहीं है ।
12 May 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

भारत : एक महाशक्ति

परमाणु बम का सफल परिक्षण इन्दिरा जी ने 1974 में ही कराया था, वाजपेयी जी ने हाइड्रोजन बम का सफल परिक्षण कराया था — 56 किलोटन से 60 किलोटन TNT-तुल्य हाइड्रोजन बमों की श्रृंखला भारत ने फोड़ी, किन्तु आधिकारिक घोषणा नहीं की (आणविक बम 20 किलोटन TNT-तुल्य से अधिक का नहीं हो सकता है, किन्तु हाइड्रोजन बम की कोई सीमा नहीं होती) । पकिस्तान के पास हाइड्रोजन बम नहीं है, फिर भी भारत का भाँड़ मीडिया पाकिस्तान को भारत का समकक्ष आणविक शक्ति बतलाता है ! भारत का भाँड़ मीडिया यह तथ्य भी जनता को नहीं बताता कि सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल (ब्रह्मोस) रखने वाला एकमात्र देश आज भारत है, जिसकी काट अमरीका के पास भी नहीं है । भारत का भाँड़ मीडिया कहता है कि ब्रह्मोस मिसाइल रूस की सहायता से बनाया गया, जबकि सच्चाई यह है कि रूस के पास आज भी कोई ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल नहीं है । रूसी मिसाइल में फेरबदल करके उसे और भी विकसित किया गया जिससे बाद में ब्रह्मोस मिसाइल बना । विश्व का सबसे सस्ता हाइड्रोजन बम सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल द्वारा छोड़ने की क्षमता केवल भारत में है । क्रूज मिसाइल को राडार नहीं देख सकते । मोदी सरकार ने राफेल वायुयान खरीदने में जो धडफडी दिखाई उसका कारण यही है कि प्रत्येक राफेल वायुयान तीन ब्रह्मोस मिसाइल लेकर दो हज़ार किलोमीटर तक जाकर लौट सकता है । शीघ्र ही ब्रह्मोस मिसाइल का पनडुब्बी संस्करण भी तैयार हो जाएगा, जिसके बाद अमेरिका जैसे देशों के लगभग सारे क्षेत्र ब्रह्मोस मिसाइल की जद में आ जाएंगे : संसार के किसी भी भाग में विमानवाहकपोत द्वारा समुद्रतट से 2290 किलोमीटर तक के भीतर के स्थानों पर हाइड्रोजन बम गिराने की क्षमता भारत के पास आज भी है, और शीघ्र ही पनडुब्बी द्वारा समुद्रतट से 290 किलोमीटर तक के भीतर के स्थानों पर हाइड्रोजन बम गिराने की क्षमता भारत के पास हो जायेगी ! भारत विश्वशक्ति न बन सके इस उद्देश्य से सारी राष्ट्रविरोधी और बिकाऊ ताकतें एकजुट हो गयीं हैं ।
जनवरी 2012 में भारतीय वायुसेना की तकनीकी कमिटी ने भारतीय आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए फ्रांस के राफेल लड़ाकू वायुयान को सर्वश्रेष्ठ बताया था, किन्तु राफेल की खरीद को मंजूरी मिलने के बाद भी सोनिया-मनमोहन की सरकार ने बिना कोई कारण बताये राफेल की खरीद को रुकवा दिया ताकि भारतीय वायुसेना को शक्तिहीन किया जा सके । भारतीय मीडिया देशद्रोहों की पोल नहीं खोलती । ऐसी देशद्रोही मीडिया किसी अन्य देश में नहीं मिलेगी !
पाकिस्तान , चीन और अमरीका अब लाख हाय-तौबा मचा लें, सच्चाई यह है कि भारत पर सीधा आक्रमण करने का साहस अब किसी भी देश में नहीं है । भारत का एक ही हाइड्रोजन बम पाकिस्तान के सारे आणविक बमों पर भारी पडेगा, और युद्ध छिड़ जाने पर जबतक पाकिस्तान या चीन के मिसाइल आधे रास्ते में रहेंगे तबतक भारत के ब्रह्मोस मिसाइल ठिकाने पर पँहुच जाएंगे, क्योंकि ये संसार के सर्वाधिक द्रुतगामी क्रूज मिसाइल हैं जिन्हें बीच रास्ते में रोकना असम्भव है । यह भी ध्यान देने की बात है कि अमरीका की तुलना में भारत बहुत ही सस्ता हाइड्रोजन बम और मिसाइल बना सकता है । सामरिक क्षेत्र में भारत एक महाशक्ति बन चुका है, किन्तु दो बाधाएँ अभी भी पार करनी हैं : आर्थिक प्रगति की वर्तमान द्रुत गति को एक दशक से अधिक तक बनाये रखना होगा, और आन्तरिक गद्दारों से जनता और सरकार को निपटना होगा, तभी भारत एक पूर्ण महाशक्ति की वैश्विक मान्यता पा सकेगा ।
12 May 2016
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

दहेज

दहेज की प्रथा भारत में अंग्रेजों ने आरम्भ की, इंग्लैंड में दहेज अत्यन्त कुत्सित और भयंकर रूप में स्थापित था, खासकर अभिजात वर्ग में | भारत में स्त्री-धन की परम्परा थी — विवाह के पश्चात बेटी के नाम से उसके पिता यथाशक्ति सम्पत्ति, स्वर्ण, आदि देते थे | गरीबों को भी सामर्थ्यानुसार कुछ न कुछ स्त्री-धन देना ही पड़ता था | किन्तु अंग्रेजों की दासता के कारण भारतीय परम्पराएं और इतिहास की पढ़ाई नहीं होती | आजकल दहेज़ का विरोध करने के बहाने जिस "आदर्श विवाह" का प्रचार किया जा रहा है वह विश्व इतिहास में नारी विरोध का सर्वाधिक कुत्सित षड्यन्त्र है जो नारी को न तो मायके से कुछ लेने देता है और न ससुराल में ! भेड़-बकरी की तरह अपनी दुलारी बेटी को फेंक देने का नाम है "आदर्श विवाह" ! स्त्री-धन की प्राचीन परम्परा का अध्ययन करने के बाद ही स्वतन्त्र भारत की संसद ने तय किया कि मायके की सम्पत्ति में यदि बेटी चाहे तो अधिकार माँग सकती है | किन्तु बेटियों को माता-पिता और भाइयों से इतना प्रेम रहता है कि ससुराल में अपमान और आर्थिक परतन्त्रता सहने पर भी मायके से सम्पत्ति का अधिकार नहीं मांगती |

गाँव की पूरी सम्पत्ति की मिलकियत पञ्चायत के हाथ में होती थी | किसी गाँव में लोहार या बढई को बसाना होता था तो पञ्चायत भूमि देकर उनको बसाती थी | राजा भी पञ्चायत से कर लेते थी और पञ्चायत के निर्णयों का सम्मान करते थे | उत्तराधिकार पर भी पञ्चायत का निर्णय अन्तिम होता था | गाँवों में व्यक्तिगत सम्पत्ति और जमींदारी प्रथा लार्ड कार्नवालिस ने आरम्भ की | दायभाग (उत्तराधिकार) पर हिन्दू धर्मशास्त्र के कई ग्रन्थ हैं | उन ग्रन्थों को ब्रिटिश अदालतें भी मानती थीं (राममोहन राय ने एक पण्डित से फर्जी पुस्तक लिखवाकर 30 वर्षों तक अदालतों से मान्यता दिलाकर खूब पैसा कमाया, भांडा फूटने पर अदालतों से उसकी फर्जी पुस्तक को हटवाकर धर्मशास्त्र के असली ग्रन्थों को मान्यता मिली)| स्वतन्त्रता के पश्चात बने हिन्दू कोडबिल किसी एक बिल का नाम नहीं है, इसमें अनेक बिल हैं जिनमे विवाह से लेकर दायभाग तक के कानून हैं | दायभाग के बिल हिन्दूधर्म शास्त्र पर स्थूल रूप से आधारित हैं |

ऋग्वेद के दसवें मण्डल का सूक्त-85 है "नृणां विवाह-मन्त्राः" जिसकी ऋषिका भी नारी है (सविता-पुत्री सूर्या), उसमें स्त्रीधन का सुन्दर वर्णन है | सूर्या जब पति के घर गयी तो साथ में क्या-क्या ले गयी :
(ऋक्-6)"सूर्या का भद्र वस्त्र गाथा मन्त्रों द्वारा परिष्कृत किया हुआ था (सोने चाँदी द्वारा नहीं) , रैभी नाम के मन्त्र उसके साथ (वस्त्र या साड़ी बनकर) गए, नाराशंसी नाम के मन्त्र उपवस्त्र या सहेली बनकर गए |"
(ऋक्-7)"सूर्या जब पति को प्राप्त हुई तो उसका (शुद्ध) चित्त ही तकिया था (सिर या मन का आधार था), उसकी आँखे स्वयं काजल थीं (अलग से काजल आदि की आवश्यकता नहीं थी), तथा आकाश (परमात्मा) एवं भूमि ही उसके कोष (स्त्रीधन) थे (उस युग में सम्पत्ति का व्यक्तिगत बँटवारा नहीं था, यह ऋग्वेद के अन्तिम सूक्त में स्पष्ट है, और पुराणों में भी सतयुग के वर्णन में ऐसा ही कहा गया है)"
ऋक्-8 में विभिन्न देवगण किस प्रकार सूर्या के रथ के पुर्जे बनकर उसे ले गए इसका वर्णन है |
ऋक्-9 में वर्णन है कि मनुष्य से वधू का विवाह बाद में होता है, पहले देवताओं से विवाह होता है | इसी सूक्त में आगे ऋक्-44 में कहा गया है कि वधू को "देवकामा" होना चाहिए, "पतिकामा" शब्द सम्पूर्ण वैदिक साहित्य में कहीं नहीं मिलेगा | वैदिक विवाह अब लोग भूल चुके हैं, विवाह में वैदिक मन्त्र तो पढ़ते हैं किन्तु उनके अर्थों पर विचार नहीं करते | वैदिक विवाह में मनुष्य की कामना वर्जित है | ऋग्वेद में ही उर्वशी-पुरुरवा की भी कथा है जिसमें उर्वशी पत्नी बनकर पुरुरवा के साथ रही, किन्तु देवलोक लौटते समय पुरुरवा दुःख व्यक्त करने लगे तो उर्वशी ने कहा 'मैं वायु की भाँति दुष्प्राप्य हूँ' ("दुरापना वात इवाहस्मि")| कुन्ती की तरह वैदिक मन्त्रों द्वारा देवों की कामना करने से कर्ण और अर्जुन आदि जैसे दिव्य पुत्र प्राप्त होते हैं | किन्तु उसके लिए कुन्ती और सूर्या की तरह तन और मन पवित्र होना चाहिए |
अथर्ववेद में भी कुमारी कन्या जब विवाहोपरान्त पति के घर जाती है तो उसकी पवित्रता का वर्णन है |

ऋक्-44 का दयानन्द जी के भाष्य में भ्रामक अर्थ है कि वधू को (आपातकाल में) देवर की कामना करनी चाहिए ! "आपातकाल" मन्त्र में नहीं है | तब तो अर्थ यह बनता है कि विवाह होते ही वधू को केवल देवर की ही कामना करनी चाहिए, पति की कामना कभी नहीं करनी चाहिए !! इसी सूक्त में जब स्पष्ट कथन है कि वधू का विवाह पहले देवों से होता है, तो यहाँ देव होना चाहिए, न कि देवर | विवाह होते ही देवर की कामना तो महापाप है ! ऋग्वेद के भिन्न-भिन्न आर्यसमाजी संस्करणों में और जयदेव शर्मा जी (संशोधनकर्ता भद्रसेन जी) के संस्कृत मूल में भी "देवृकामा" ही मिलता है, जबकि पुणे के वैदिक संशोधन मण्डल ने देश भर की पांडुलिपियों के संकलन के बाद जो ऋग्वेद प्रकाशित किया उसमें "देवकामा" है, सायणाचार्य के पास जो ऋग्वेद था उसमें भी देवकामा ही है, मौरिस ब्लूमफील्ड के "Vedic Concordance" के अनुसार सपूर्ण वैदिक साहित्य में कहीं भी "देवृकामा" शब्द नहीं है, मैक्समूलर वाले मूलपाठ में भी देवकामा ही है और होशियारपुर के विश्वेश्वरानन्द वैदिक शोध संस्थान द्वारा प्रकाशित ऋग्वेद एवं उसके वेंकटमाधवीय भाष्य में भी देवकामा ही है | विल्सन के अंग्रेजी भाष्य में भी यही अर्थ है ("devoted to the gods")| आर्यसमाज की समस्या यह है कि दयानन्द जी से कोई भूल हो गयी तो उसे ब्रह्मवाक्य बना देते हैं, सुधारते नहीं हैं !
-Vinay Jha

Unless otherwise stated, the content of this page is licensed under Creative Commons Attribution-Noncommercial 2.5 License.